NDTV Khabar

समाचार पत्रों में आज- EVM पर 'आप' और चुनाव आयोग में जुबानी जंग, तो हिंसा में जला सहारनपुर

दिल्ली से प्रकाशित हिंदी के तमाम प्रमुख अखबारों में EVM पर आम आदमी पार्टी और चुनाव आयोग के बीच छिड़ी जंग छाई हुई है. इसके अलावा न्याय प्रणाली के ऐतिहासिक फैसले जस्टिस कर्णन को जेल की खबर के साथ सहारनपुर दंगा, कुलभूषण जाधव की फांसी पर रोक का फैसला आदि समाचार भी अलग-अलग तरीके से पेश किए गए हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
समाचार पत्रों में आज- EVM पर 'आप' और चुनाव आयोग में जुबानी जंग, तो हिंसा में जला सहारनपुर
नई दिल्ली: दिल्ली से प्रकाशित हिंदी के तमाम प्रमुख अखबारों में EVM पर आम आदमी पार्टी और चुनाव आयोग के बीच छिड़ी जंग छाई हुई है. इसके अलावा न्याय प्रणाली के ऐतिहासिक फैसले जस्टिस कर्णन को जेल की खबर के साथ सहारनपुर दंगा, कुलभूषण जाधव की फांसी पर रोक का फैसला आदि समाचार भी अलग-अलग तरीके से पेश किए गए हैं.

टिप्पणियां
सबसे पहले बात चुनाव आयोग और आम आदमी पार्टी के बीच ईवीएम की सत्यता को लेकर छिड़े विवाद पर. नवोदय टाइम्स ने नकली-असली शीर्षक से दोनों का पक्ष रखते हुए लिखा है- ईवीएम जैसी मशीन से दिखाई 'आप' ने छेड़छाड़, तो चुनाव आयोग ने कहा- असली मशीन से छेड़छाड़ संभव नहींनवभारत टाइम्स ने शीर्षक दिया है- AAP बोली EVM हैक, आयोग ने बताया-झूठ. हिन्दुस्तान ने लिखा है- ईवीएम पर 'आप' और आयोग आमने-सामने.

जस्टिस कर्णन के मुद्दे पर हिन्दुस्तान अख़बार ने हैडिंग दी है- पहली बार सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के पीठासीन जज को अदालत की अवमानना का दोषी करार दिया. जस्टिस कर्णन को छह माह जेल. नवभारत टाइम्स ने लिखा है- हाईकोर्ट के जज को जेल. बकौल जनसत्ता- सुप्रीम कोर्ट ने कहा, तुरंत गिरफ्तार करें और जेल भेजें. वहीं नवोदय टाइम्स ने चित्र के साथ लिखा है- जस्टिस कर्णन अवमानना के दोषी, 6 महीने कैद की सजा.
 
news papers

कुछ लोगों द्वारा पंचायत के आयोजन को रोकने पर सहारनपुर में भड़की हिंसा पर जनसत्ता लिखता है- फिर सुलगा सहारनपुर, पुलिस चौकी फूंकी, एसपी सिटी ने भागकर बचाई जानहिन्दुस्तान ने लिखा है- भीम आर्मी एकता मिशन की बैठक नहीं होने देने से मचा हंगामा, आठ जगहों पर हिंसा, कई वाहन फूंके. नवोदय टाइम्स की सुर्खी है- उपद्रवियों ने दर्जनों वाहन फूंके, पुलिस पर किया पथराव. 
 
news papers

पाकिस्तान में फांसी की सजा पाए भारतीय कुलभूषण जाधव के बारे में पत्रों ने अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय के उस फैसले को प्रमुखता के साथ छापा है जिसमें न्यायालय ने कुलभूषण की फांसी पर रोक लगाने का फैसला सुनाया है.  


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement