किसानों को बताया कि सरकार सभी मुद्दों का हल निकालने की कोशिश करेगी : कृषि मंत्री

भारत बंद के कॉल पर कहा, "मैं उस पर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहता हूं. यूनियन के अपने कार्यक्रम होते हैं. भारत सरकार कई दौर की चर्चा कर चुकी है और आगे भी चर्चा के लिए तैयार है."

नई दिल्ली:

Farmers Meet Government :  कृषि बिल को लेकर जारी किसानों के विरोध पर आज किसान संगठनों और केंद्र सरकार के बीच पांचवें दौर की बातचीत हुई.लेकिन आज हुई बैठक में भी कोई निर्णय नहीं निकला और अगली बैठक की तारीख के साथ ये मीटिंग भी समाप्त हुई. अब किसान नेताओ और केंद्र सरकार के बीच 9 दिंसबर को दोपहर 12 बजे फिर बैठक होगी. बैठक के बाद केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar) मीडिया को बताया कि आज हुई चर्चा बहुत अच्छे माहौल में हुई.

कृषि मंत्री ने मीडिया को बताया "किसानों के साथ चर्चा का पांचवा दौर पूरा हुआ. चर्चा बहुत अच्छे माहौल में हुई. हमने कहा है कि एमएसपी जारी रहेगी इस पर किसी भी प्रकार की शंका करना बेबुनियाद है. लेकिन फिर भी किसी के मन में कोई शंका है तो सरकार उसका समाधान करने के लिए तैयार है."

मंडी को लेकर किसानों की शंका पर नरेंद्र तोमर ने कहा, "एपीएमसी एक्ट राज्य का है और राज्य की मंडी को किसी भी प्रकार से प्रभावित करने का इरादा ना तो हमारा है और ना ही वो प्रभावित होती है. एपीएमसी मजबूत हो इसके लिए सरकार जो कर सकती है उसके लिए सरकार तैयार है. इसे लेकर कोई भी शिकायत या शंका हो तो उसका समाधान करने के लिए भी सरकार तैयार है."

किसानों के मांगे सुझाव
कृषि मंत्री ने बताया, "आज की बैठक में सभी विषयों पर चर्चा हुई. हम लोग चाहते थे कि हमें कुछ सुझाव मिले लेकिन बातचीत के दौर में ये संभव नहीं हो सका. अब 9 तारीख को फिर बातचीत होगी. हमने किसानों को कहा है कि सरकार आपकी समस्या के समाधान के लिए तैयार है. हमने यदि कुछ सुझाव मिलते तो बेहतर होगा लेकिन हमें उनके सुझावों का अभी भी इंतजार है. अब 9 तारीख को फिर से बातचीत होगी." 

मोदी सरकार की तारीफ की
नरेंद्र तोमर ने किसानों से अपील करते हुए कहा, "मैं किसान यूनियन से आग्रह करता हूं कि सर्दी का समय है और कोविड के काल में किसान बुजर्ग और बच्चों से कहें कि वो घर चले जाएं. मोदी जी के कार्यकाल में किसान की आय में बढ़ोतरी हुई है. सरकारी खरीद बढ़ी है. किसान समृद्धि की ओर बढ़ सके इसके लिए मोदी जी की सरकार ने किया है. किसान सम्मान निधि के द्वारा एक साल में सरकार की तरफ से 75 हजार करोड़ रु जाता है."

यह भी पढ़ें- "लोगों को शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने का हक है " : संयुक्त राष्ट्र ने किसान आंदोलन पर कहा

उन्होंने आगे कहा, ".... इंफ्रा फंड भी मोदी ने प्रायोजित किया है. पीएम की कोशिश है हमारा किसान प्रोसेसिंग से जुड़े. मोदी जी की कोशिश है कि अगर ग्रामीण भारत मजबूत होगा तो आने वाले कल में आत्मनिर्भर भारत मूल रूप ले सकेगा. मैं किसानों को आश्वस्त करना चाहता हूं मोदी जी की सरकार किसानों के हित के प्रति पूरी तरह से प्रतिबद्ध है और आने वाले दिनों में भी रहेगी."

किसानों के तैयार नहीं  होने पर कृषि मंत्री ने कहा, "जो कुछ होगा या कुछ किया जाएगा वो सिर्फ किसानों के हित में ही होगा, इसका भरोसा देश के किसानों को रखना चाहिए. मैं किसान यूनियन और आंदोलनरत किसानों को धन्यवाद देना चाहता हूं. कि उन्होंने अनुशासन को बनाए रखा ये बना रहे, सभी को धन्यवाद. मैं पुन आग्रह करता हूं कि स्पष्टता से कुछ मुद्दे आ जाएंगे तो समाधान आसान होगा."

Newsbeep

भारत बंद के कॉल पर कहा, "मैं उस पर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहता हूं. यूनियन के अपने कार्यक्रम होते हैं. भारत सरकार कई दौर की चर्चा कर चुकी है और आगे भी चर्चा के लिए तैयार है.आज बातचीत पूरी नहीं हो पाई इसलिए 9 तारीख तय हुई है. "

किसानों को बताया कि सरकार सभी मुद्दों का हल निकालने की कोशिश करेगी: केंद्रीय कृषि मंत्री तोमर

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com