गंगा को सबसे अधिक प्रदूषित करते हैं ये 10 शहर, सफाई के लिए नए लक्ष्य तय

जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण मंत्री नितिन गडकरी का दावा, अगले साल 80 फीसदी तक साफ कर ली जाएगी गंगा नदी

गंगा को सबसे अधिक प्रदूषित करते हैं ये 10 शहर, सफाई के लिए नए लक्ष्य तय

प्रतीकात्मक फोटो.

खास बातें

  • दिसंबर 2019 तक गंगा नदी को पूरी तरह से स्वच्छ बनाना संभव
  • गंगा नदी के किनारे बसे 10 शहर 64% तक गंदा करते हैं इसे
  • गंगा नदी को कुल 97 छोटे-बड़े शहर प्रदूषित करते हैं
नई दिल्ली:

जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण मंत्री नितिन गडकरी ने गंगा नदी की सफाई को लेकर नए लक्ष्य तय कर दिए हैं.  दिल्ली में एक मीडिया ब्रीफिंग में गडकरी ने इसका ऐलान किया.

नितिन गडकरी ने दावा किया कि मार्च 2019 तक गंगा नदी को 70 फीसदी से 80 फीसदी तक साफ़ कर लिया जाएगा. उन्होंने कहा कि दिसंबर 2019 तक गंगा नदी को पूरी तरह से स्वच्छ और निर्मल बनाया जा सकता है.

यह भी पढ़ें : बनारस के घाट पर सर्दियों में सिकुड़ती गंगा, कहीं ये 'विलुप्त' होने के संकेत तो नहीं
 
ये महत्वपूर्ण है कि 2014 के चुनाव अभियान के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गंगा की सफाई को प्राथमिकता बताया था. गडकरी ने कहा कि गंगा नदी के किनारे बसे 10 शहर इसे 64% तक गंदा करते हैं.

गंगा को सबसे अधिक प्रदूषित करने वाले शहर
1. हरिद्धार
2. कानपुर
3. इलाहाबाद
4. वाराणसी
5. फर्रुखाबाद
6. पटना
7. भागलपुर
8. कोलकाता
9. हावड़ा
10. बल्ली  

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

VIDEO : PM के सामने छुपा ली सच्चाई

गडकरी के मुताबिक गंगा नदी को कुल 97 छोटे-बड़े शहर प्रदूषित करते हैं.  ये गंगा में 2953 MLD सीवेज छोड़ते हैं. इसमें से 1897 MLD की हिस्सेदारी सिर्फ 10 शहरों की है.