NDTV Khabar

ट्रंप का मुस्लिमों पर रोक का फरमान और चुनावी घमासान, छाए आज के समाचार पत्रों में

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
ट्रंप का मुस्लिमों पर रोक का फरमान और चुनावी घमासान, छाए आज के समाचार पत्रों में
नई दिल्ली:

रविवार को प्रकाशित हिंदी के प्रमुख अख़बारों ने शब्दों से खेलते हुए भाजपा के यूपी के लिए घोषणा पत्र, ट्रंप के मुस्लिमों पर रोक के फरमान और चुनावी घमासान की ख़बरों को चित्रों के साथ प्रकाशित किया है.

टिप्पणियां

दैनिक जागरण ने अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के उस फैसले को अपनी प्रमुख ख़बर बनाया है जिसमें ट्रंप ने मुस्लिम देशों के नागरिकों के प्रवेश पर रोक लगाई है. पत्र लिखता है, अमेरिका ने 7 मुस्लिम देशों के नागरिकों का प्रवेश रोका. ख़बर में बताया गया है कि यह पाबंदी फिलहाल 90 दिनों के लिए है. जिन देशों पर बैन लगाया गया है उनमें ईरान, इराक, सीरिया, लीबिया, यमन, सूडान और सोमालिया शामिल हैं. पत्र ने इस ख़बर पर आईं प्रतिक्रियाओं को भी प्रकाशित किया है.


दैनिक भास्कर ने उत्तर प्रदेश के लिए भाजपा के घोषणा पत्र को अपनी शीर्ष ख़बरों में शामिल किया है. पत्र ने हैडिंग दी है, 26 साल में 14वीं बार राम मंदिर, पहली बार ट्रिपल तलाक का जिक्र. ख़बर में कहा गया है कि भाजपा का घोषणा पत्र काफी कुछ सपा के घोषणा पत्र से मिलता-जुलता है. इनमें 6 ऐसे वायदे हैं जो एक-दूसरे के घोषणा पत्रों में मिलते हैं.
जनसत्ता ने इस पर हैडिंग दी है, अपनी शरण में ले लो राम, जबकि हिन्दुस्तान लिखता है, किसानों के कर्ज माफ होंगे, कत्लखाने बंद कराएंगे.
 

bhaskar

भास्कर ने खेल पन्ने पर ऑस्ट्रेलियन ओपन में सेरेना की जीत को मुख्य ख़बर बनाते हुए लिखा है, 35 साल की सेरेना को 23वां ग्रैंडस्लैम खिताब. इसमें बताया गया है कि स्टेफी ग्राफ के 22 ग्रैंडस्लेम का रिकॉर्ड तोड़ कर नंबर एक पहुंची सेरेना.
 
bhaskar

अमर उजाला ने हरियाणा में आरक्षण की मांग को लेकर आज से शुरू होने जा रहे जाटों के आरक्षण को प्रमुख ख़बर बनाया है. हरियाणा में जाटों का धरना आज से, 10 जिलों में धारा 144 लागू, शीर्षक से लिखी ख़बर में पत्र बताता है कि हरियाणा शासन-प्रशासन की अपील को दरकिनार कर भारतीय जाट आरक्षण समिति प्रदेशभर में धरना शुरू करने जा रही है. उधर प्रशासन ने इसे लेकर कमर कस ली है.
 
amar ujala

जनसत्ता ने अपने विचार पन्ने पर तवलीन सिंह के लेख, सियासत में विरासत को जगह दी है. इसमें तवलीन लिखती हैं कि परिवारवाद की बीमारी भारतीय जनता पार्टी में भी फैलने लगी है. क्या प्रधानमंत्री कम से कम इतना नहीं कर सकते कि अपने साथियों से पूछें कि वे अपने रिश्तेदारों को क्यों लाना चाहते हैं राजनीति में.
 
jansatta

इसके अलावा और भी ऐसी ख़बरें हैं जो पाठकों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करती हैं. इनमें खेल, अर्थ और मनोरंजन जगत की ख़बरें प्रमुख हैं.
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement