जस्टिन ट्रूडो ने फिर किया किसानों का समर्थन, बोले- 'विश्व में कहीं हो शांतिपूर्ण आंदोलन, हम उनके साथ'

कनाडाई पीएम की टिप्पणी तब आई है, जब नई दिल्ली ने उनकी मूल टिप्पणी पर अपनी नाराजगी जाहिर करते हुए  शुक्रवार को कनाडा के उच्चायुक्त को तलब किया था.

जस्टिन ट्रूडो ने फिर किया किसानों का समर्थन, बोले- 'विश्व में कहीं हो शांतिपूर्ण आंदोलन, हम उनके साथ'

कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने फिर से दिल्ली में शांतिपूर्ण आंदोलन कर रहे किसानों के प्रति अपना समर्थन जताया है.

खास बातें

  • कनाडाई पीएम ने फिर किया किसान आंदोलन का समर्थन
  • बोले- विश्व में कहीं भी हो शांतिपूर्ण आंदोलन, कनाडा उनके साथ रहेगा
  • भारत ने एक दिन पहले ही कनाडा उच्चायुक्त को किया था तलब
नई दिल्ली:

कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो (Cnadian PM Justin Trudeau)  ने फिर से दिल्ली में शांतिपूर्ण आंदोलन कर रहे किसानों के प्रति अपना समर्थन जताया है और कहा है कि यह उनका लोकतांत्रिक अधिकार है. कनाडाई पीएम की टिप्पणी तब आई है, जब नई दिल्ली ने उनकी मूल टिप्पणी पर अपनी नाराजगी जाहिर करते हुए  शुक्रवार को कनाडा के उच्चायुक्त को तलब किया था.

ओटावा में जब पत्रकारों ने उनसे उनके आंदोलनरत किसानों को दिए समर्थन पर भारत-कनाडा संबंधों पर पड़ने वाले प्रभाव पर सवाल पूछा तो उन्होंने कहा, "दुनिया भर में कहीं भी शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन हो कनाडा हमेशा उनके अधिकार के लिए उनके साथ खड़ा रहेगा. और हम मामले के निराकरण की दिशा में बढ़ाए गए कदम और संवाद के प्रति आशान्वित रहेंगे."

जब उनसे पूछा गया कि आप अपने दिए बयान से दोनों देशों के रिश्तों पर पड़ने वाले प्रभाव को लेकर चिंतित हैं तो उन्होंने बहुत ही नरमी से फिर से उसी जवाब को दोहरा दिया.

बता दें कि एक दिन पहले ही भारतीय विदेश मंत्रालय ने नई दिल्ली में कनाडा के उच्चायुक्त को तलब किया था और किसानों के विरोध प्रदर्शन पर कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो और अन्य नेताओं की टिप्पणी पर नाराजगी जताई थी.  विदेश मंत्रालय ने उच्चायुक्त से कहा था कि 'किसानों के मुद्दों पर कनाडा के नेताओं की टिप्पणी हमारे आंतरिक मामलों में 'बर्दाश्त नहीं करने लायक हस्तक्षेप' है.' 

Newsbeep

किसान आंदोलन: कनाडा के पीएम ने कहा, 'हम शांतिपूर्ण प्रदर्शन व मानवाधिकार का समर्थन करते रहेंगे'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


विदेश मंत्रालय की ओर से कहा गया कि किसानों के मुद्दे पर कनाडा के नेताओं द्वारा की गई टिप्पणी की वजह से कनाडा में हमारे मिशन के सामने भीड़ जमा होने को बढ़ावा मिला, जिससे सुरक्षा का मुद्दा खड़ा होता है. गौरतलब है कि भारत में किसान आंदोलन को लेकर एक दिसंबर को कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो की प्रतिक्रिया आई थी. इस बारे में सामने आए एक वीडियो में ट्रूडो कहते नजर आ रहे थे कि 'कनाडा हमेशा शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने वालों के बचाव में खड़ा है.' इसी बयान को उन्होंने आज फिर दोहराया है.