NDTV Khabar

डेरा मुख्यालय में मिली साध्वियों के कमरे तक ले जाने वाली सुरंग, अंगों की तस्करी का भी शक

तलाशी अभियान पूरा होने के बाद 17 दिन से जारी कर्फ़्यू में आज सुबह 8 बजे से 10 बजे तक दो घंटे और शाम 5 से 7 यानी 2 घंटे की ढील दी गई है.

221 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
डेरा मुख्यालय में मिली साध्वियों के कमरे तक ले जाने वाली सुरंग, अंगों की तस्करी का भी शक

सिरसा में तलाशी अभियान खत्म

खास बातें

  1. सिरसा में राम रहीम के डेरे में तीन दिन की तलाशी खत्म हो गई
  2. तलाशी अभियान पूरा होने के बाद 17 दिन से जारी कर्फ्यू में ढील
  3. मोबाइल इंटरनेट सेवा भी बहाल कर दी गई है.
सिरसा: सिरसा में राम रहीम के डेरे में तीन दिन की तलाशी खत्म हो गई. अब कमिश्नर तलाशी अभियान की सीलबंद रिपोर्ट हाईकोर्ट को सौपेंगे. तलाशी अभियान पूरा होने के बाद 17 दिन से जारी कर्फ़्यू में आज सुबह 8 बजे से 10 बजे तक दो घंटे और शाम 5 से 7 यानी 2 घंटे की ढील दी गई है. मोबाइल इंटरनेट सेवा भी बहाल कर दी गई है. इस बीच डेरा मुख्यालय की तलाशी में कई चौंकाने वाले ख़ुलासे हुए हैं.  डेरे के अंदर अस्पताल में एक अवैध स्किन बैंक का पता चला है. अंगदान के लिए दूसरे अस्पतालों में दिए गए शवों के बारे में दस्तावेज़ों में अनियमितताएं पाई गईं. पटाखे की फ़ैक्टरी मिली. नई-पुरानी करेंसी और बाबा राम रहीम की अपनी करेंसी भी मिली. साथ ही गुरमीत राम रहीम की विलासिता भरी ज़िंदगी के भी राज़ खुले.गुरमीत की गुफ़ा से साध्वियों के कमरे तक जाने वाली सुरंग भी मिली.

राम रहीम के डेरे में होती थी लाशों की खरीद-बिक्री, भक्त की मौत पर होता था 'सौदा'

अंगों की तस्करी का डेरा?
लगातार डेरे से कई राज़ खुल कर सामने आ रहे हैं , ताज़ा ख़ुलासे में डेरे के अस्पताल से अवैध रूप से चल रहे स्किन बैंक का पता चला है साथ ही अंग दान के लिए दूसरे अस्पतालों मे भेजे गए डेरे के समर्थकों के मृत शरीरों से संबंधित दस्तावेज़ों में भी भारी अनियमितताएं पाई गई हैं, डेरे से लखनऊ के निजी अस्पताल भेजे गए 14 मृत शरीरों से संबंधित दस्तावेज़ भी पूरे नहीं हैं, ये सारी बातें इशारा करती हैं कि डेरे से कहीं ना कहीं बड़ी मत्रा में मानव अंगों की तस्करी हो रही थी.

डेरा सच्चा सौदा की तलाशी में मिली बिना रजिस्ट्रेशन की लग्जरी कार, हनीप्रीत का कमरा सील किया

निजी मेडिकल कॉलेज में पहुंचे 14 भक्तों के शव
लखनऊ के एक निजी मेडिकल कॉलेज में राम रहीम के 14 भक्तों के शव अवैध तरीके से लाए जाने का मामला सामने आया है, पुलिस मामले की जांच में जुटी है. अस्पताल के पास दस्तावेज़ पूरे नहीं थे, शव दान करने के लिए मृतक मृत्यु प्रमाण पत्र ज़रूरी है पर इनमें से किसी मरने वाले का ऐसा कोई दस्तावेज़ नहीं है. पिछले कई सालों से हज़ारों की तादाद में दान में दिए गए मृत शरीर डेरे से देशभर के दूसरे ज़िलों में भेजे जा रहे थे. जिनके दस्तावेज़ तलाशी अभियान के दौरान डेरे के पास नहीं मिले. प्रशासन को शक है कि इनका इस्तेमाल मानव अंगों की तस्करी के लिए भी हो रहा था. पुलिस जांच में जुट गई है.

शवों से किडनी और लिवर गायब
हरियाणा सरकार के पीआरओ सतीश मेहरा ने बताया कि एक अवैध स्किन बैंक चल रहा था. मृत शरीरों को दूसरे जिलों में भेजा जा रहा था. उनके दस्तावेजों में अनियमितता मिली है. उधर, डेरे के ख़िलाफ़ कानूनी लड़ाई लड़ रहे वकील लेखराज का दावा है कि अगर अवैध रूप से डेरे से लखनऊ भेजे गए 14 शवों का पोस्टमार्टम कराया जाए तो पता चलेगा कि शवों के अंदर किडनी लिवर जैसे अंग निकाल लिए गए हैं. डेरा का अस्पताल IMA में पंजीकृत नहीं था. इस बात की पुष्टि सिरसा IMA के प्रमुख डॉ केके गोयल ने की. डॉ गोयल नें बताया कि डेरे के अस्पताल के अंदर क्या होता था. इसकी ख़बर किसी को नहीं थी.  इन सारी बातों से ये शक बढ़ जाता है कि अस्पताल की आड़ में डेरे के अंदर कहीं मानव अंगों की तस्करी का काला धंधा तो नहीं चल रहा था?


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement