NDTV Khabar

साल 1981 में विमान हाईजैक करने के मामले में दो सिख उग्रवादियों को मिली जमानत

एयर इंडिया के विमान को हाईजैक करने के बाद उसे जबरन लाहौर में उतारा गया था

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
साल 1981 में विमान हाईजैक करने के मामले में दो सिख उग्रवादियों को मिली जमानत

प्रतीकात्मक फोटो.

खास बातें

  1. 29 सितंबर 1981 को नई दिल्ली से श्रीनगर जाने वाले विमान का हुआ था अपहरण
  2. आरोपी तेजिंदर पाल सिंह और सतनाम सिंह को मिली जमानत
  3. पाकिस्तान में तेजिंदर और सतनाम ने काटी उम्रकैद की सजा
नई दिल्ली: राष्ट्रीय राजधानी की एक अदालत ने गुरुवार को उन दो सिख उग्रवादियों को जमानत दे दी, जिन पर 1981 में एयर इंडिया विमान को हाईजैक करने का आरोप था. अपहरण के बाद विमान को जबरन लाहौर में उतारा गया था. अतिरिक्त मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट ज्योति क्लेर ने तेजिंदर पाल सिंह और सतनाम सिंह को जमानत दे दी और उन्हें दो लाख का निजी बांड तथा जमानत राशि भरने का आदेश दिया.

इसके साथ ही अदालत ने उन्हें सबूतों के साथ छेड़छाड़ न करने और न ही गवाहों को प्रभावित करने का निर्देश दिया. इससे पहले, अदालत ने उन्हें मंगलवार को दो दिन के लिए अंतरिम जमानत दी थी.

उल्लेखनीय है कि 29 सितंबर, 1981 को दोनों ने कथित तौर पर नई दिल्ली से अमृतसर होते हुए श्रीनगर जाने वाले एयर इंडिया के विमान का अपहरण कर लिया गया था और इसे जबरन लाहौर में उतारा गया था. इस मामले में पाकिस्तान की अदालत ने तेजिंदर और सतनाम को उम्रकैद की सजा सुनाई थी. सजा पूरी होने के बाद दोनों को वर्ष 2000 में पाकिस्तान से बाहर कर दिया गया था. इसके बाद उन्होंने इस मामले से मुक्ति देने की मांग की थी, लेकिन एक सत्र अदालत ने उनकी याचिका खारिज कर दी थी.

वीडियो- भारत की दुखती रग कंधार

वर्ष 2011 में दिल्ली पुलिस ने इन दोनों के खिलाफ आरोपपत्र दाखिल किया था, जिसमें धारा 121 (भारत सरकार के खिलाफ युद्ध छेड़ने), 121 ए (राज्य के खिलाफ कुछ अपराध करने का षडयंत्र), भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 124 ए (राजद्रोह) और 120 बी (आपराधिक साजिश) के तहत आरोप तय किए गए थे.

यह भी पढ़ें- लीबियाई प्‍लेन के अपहरणकर्ताओं ने सरेंडर किया, विमान के सभी यात्री, क्रू सदस्‍यों को छोड़ा गया...
...जब एक साथ 80 टिकट बुक कराकर पूरे परिवार ने किया प्लेन को 'हाईजैक'

टिप्पणियां
दिल्ली उच्च न्यायालय ने सत्र न्यायालय के फैसले पर स्थगन की मांग भी की थी, लेकिन याचिका खारिज कर दी गई और निचली अदालत से इस मामले की सुनवाई को आगे बढ़ाने के लिए कहा.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement