नहीं थम रही शिवसेना-BJP की जंग, उद्धव ठाकरे बोले - PM के नहीं, आम लोगों के सपनों के लिए लड़ रहा हूं

महाराष्ट्र और केंद्र में सहयोगी बीजेपी और शिवसेना की तल्खी थमने की बजाय बढ़ती जा रही है. शिवसेना के मुखपत्र सामना में शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे का इंटरव्यू छपा है. इस इंटरव्यू का पहला हिस्सा आज samana.com पर एयर किया गया है.

नहीं थम रही शिवसेना-BJP की जंग, उद्धव ठाकरे बोले - PM के नहीं, आम लोगों के सपनों के लिए लड़ रहा हूं

फाइल फोटो

खास बातें

  • शिवसेना के मुखपत्र सामना में उद्धव ठाकरे का इंटरव्यू छपा है
  • हम किसी एक के मित्र नहीं बल्कि भारतीय जनता के मित्र हैं
  • शिकार तो मैं ही करूंगा, लेकिन मुझे किसी दूसरे के कंधे की ज़रूरत नहीं
नई दिल्ली:

महाराष्ट्र और केंद्र में सहयोगी बीजेपी और शिवसेना की तल्खी थमने की बजाय बढ़ती जा रही है. शिवसेना के मुखपत्र सामना में शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे का इंटरव्यू छपा है. इस इंटरव्यू का पहला हिस्सा आज samana.com पर एयर किया गया है. इंटरव्यू में उद्धव ने बीजेपी और मोदी को निशाने पर रखा है. उद्धव ने कहा कि मैं मोदी के सपनों के लिए नहीं आम जनता के सपनों के लिए लड़ रहा हूं. एक और सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि हम किसी एक के मित्र नहीं बल्कि भारतीय जनता के मित्र हैं. बातचीत में उद्धव ने इशारों-इशारों में बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि शिकार तो मैं ही करूंगा, लेकिन इसके लिए मुझे ना तो किसी दूसरे के कंधे की ज़रूरत होगी और ना ही बंदूक की.

2019 में अकेले चुनाव लड़ने की तैयारी करें, अमित शाह ने महाराष्‍ट्र बीजेपी कार्यकर्ताओं से कहा

उद्धव ने अविश्वास प्रस्ताव पर शिवसेना के बहिष्कार पर भी अपनी बात रखी. ना पक्ष और ना ही विपक्ष को समर्थन देने के सवाल पर उद्धव ने विपक्षी दलों को भी निशाने पर लिया है कि जब हम सरकार की ग़लत नीतियों का विरोध कर रहे थे तब कौन हमारे साथ आया था.

शिवसेना का बीजेपी पर हमला, कहा- नोटबंदी पर तत्काल निर्णय हुआ, राममंदिर पर क्यों नहीं

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

अगले साल लोकसभा चुनाव के दौरान बीजेपी महाराष्ट्र में अकेले चुनाव लड़ सकती है. बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने पार्टी कार्यकर्ताओं की एक बैठक में इसके लिए तैयार रहने को कहा. उन्होंने कहा कि कार्यकर्ता 2019 में अकेले चुनाव लड़ने की तैयारी करें. दरअसल अविश्वास प्रस्ताव पर शिवसेना ने मोदी सरकार का साथ नहीं दिया था और मतदान के दौरान ग़ैर हाज़िर रही थी जिसके बाद बीजेपी में अपने इस सहयोगी को लेकर काफ़ी नाराज़गी है. शिवसेना के सांसद अविश्वास प्रस्ताव पर बहस के दौरान भी सदन से ग़ैर हाज़िर रहे. बीजेपी जल्द ही राज्य में सभी 48 लोकसभा सीटों के लिए प्रभारियों का एलान कर सकती है. उधर, शिवसेना पहले ही कह चुकी है वो लोकसभा चुनाव अकेले लड़ेगी.

VIDEO: क्या BJP के सहयोगियों से रिश्ते सुधरेंगे?