कर्नाटक विधानसभा चुनाव: उद्धव ठाकरे ने ईवीएम पर उठाए सवाल, कहा- एक बार बैलेट पेपर से कराओ चुनाव

उद्धव ठाकरे ने कहा कि भाजपा उपचुनाव हार रही है लेकिन विधानसभा चुनाव जीत रही है. अगर आपको ( भाजपा ) खुद पर भरोसा है तो एक बार बैलेट पेपर के जरिए चुनाव कराकर दिखाएं.

कर्नाटक विधानसभा चुनाव: उद्धव ठाकरे ने ईवीएम पर उठाए सवाल, कहा- एक बार बैलेट पेपर से कराओ चुनाव

उद्धव ठाकरे की फाइल फोटो

नई दिल्ली:

कर्नाटक चुनाव परिणाम आने के बाद शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने एक बार फिर ईवीएम मशीन पर सवाल खड़े किए हैं. उन्होंने मंगलवार को कहा कि भाजपा को चाहिए कि वह एक बार ईवीएम की जगह बैलेट पेपर से चुनाव कराए. अगर ऐसा होता है तो देश की जनता के सामने स्थिति साफ हो जाएगी. गौरतलब है कि इससे पहले मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने भी ईवीएम की जगह बैलेट पेपर से चुनाव कराने की बात कही थी. कर्नाटक विधानसभा चुनाव के लिए परिणाम आने के बाद भाजपा के सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरने के साथ ही उद्धव ठाकरे ने भी राज ठाकरे का समर्थन किया. उन्होंने ट्विटर पर लिखा कि यह इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन की जीत है.

यह भी पढ़ें: मैं मोदी का आलोचक नहीं, लेकिन अपनी बात कहना जारी रखूंगा : उद्धव ठाकरे

उद्धव ठाकरे ने कहा कि भाजपा उपचुनाव हार रही है लेकिन विधानसभा चुनाव जीत रही है. अगर आपको ( भाजपा ) खुद पर भरोसा है तो एक बार बैलेट पेपर के जरिए चुनाव कराकर दिखाएं. शिवसेना प्रमुख ने कहा कि जब इतने सारे लोग इसकी मांग कर रहे हैं तो इससे ( ईवीएम के इस्तेमाल को लेकर ) शंकाएं हमेशा के लिए दूर हो जाएंगी. कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद कर्नाटक विधानसभा चुनाव के पहली बड़ी चुनावी लड़ाई होने के बाबत सवाल पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि चुनाव आते जाते रहते हैं और कई बार आप जीतते हैं तो कई बार हारते हैं. हमें काम करते रहना चाहिए.

यह भी पढ़ें: उद्धव की चेतावनी, शिवसेना नाणार में पेट्रोलियम रिफायनरी प्रोजेक्ट शुरू नहीं होने देगी

उद्धव ने हालांकि कर्नाटक चुनाव में सफलता के लिए भाजपा को बधाई दी और उम्मीद जताई कि राज्य के लोगों को अब अच्छे दिन देखने को मिलेंगे. वहीं महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण ने कहा कि कांग्रेस और जनता दल ( एस ) कर्नाटक में मिलकर अगली सरकार का गठन कर सकते हैं.

VIDEO: शिवसेना 2019 में अकेली लड़ेगी चुनाव.

उन्होंने मीडिया से कहा कि अगर नेतृत्व कौशल दिखाया गया तो यह संभव है क्योंकि कर्नाटक विधानसभा में हमारे पास मिलाकर बहुमत है. (इनपुट भाषा से)  

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com