NDTV Khabar

आधार नंबर ऑनलाइन साझा करते वक्त बरतें सावधानी

भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआइडीएआई) ने आधार नंबर का ऑनलाइन इस्‍तेमाल करते वक्‍ता लोगों को सतर्कता बरतने को कहा है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
आधार नंबर ऑनलाइन साझा करते वक्त बरतें सावधानी

फाइल फोटो

खास बातें

  1. आधार नंबर का ऑनलाइन इस्‍तेमाल करते वक्‍त लोगों को सतर्कता बरतने को कहा
  2. UIDI ने लोगों को भरोसा दिलाया है कि आधार डाटाबेस पूरी तरह से सुरक्षित है
  3. आधार नंबर की जानकारी हो जाने से कोई किसी की पहचान नहीं चुरा सकता
नई दिल्ली: भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआइडीएआई) ने आधार नंबर का ऑनलाइन इस्‍तेमाल करते वक्‍ता लोगों को सतर्कता बरतने को कहा है. यूआइडीएआई का कहना है कि ऑनलाइन किसी भी सेवा का इस्‍तेमाल करते वक्‍त आधार नंबर जैसी निजी जानकारियां साझा करने के दौरान खास सावधानी बरतने की जरूरत है. 

महाराष्ट्र : कुएं में सैंकड़ों आधार कार्ड फेंके हुए मिले, जांच के आदेश

शनिवार को आधार जारी करने वाली अथॉरिटी यूआइडीएआई ने कहा, ‘लोग किसी सेवा को हासिल करने के लिए इंटरनेट पर सेवाप्रदाता या वेंडर को अपनी जानकारी देते हैं. इसमें आधार नंबर का ब्यौरा भी शामिल रहता है. इसलिए लोगों को आगाह किया जाता है कि इंटरनेट पर ब्योरा साझा करते समय खास सतर्कता बरतें.’ यूआइडीएआई ने उन खबरों को कोई तवज्जो नहीं दी है, जिनमें कहा जा रहा है कि ‘मेरा आधार, मेरी पहचान’ से गूगल पर सर्च करने पर आधार का पीडीएफ उपलब्ध हो जा रहा है. उसका कहना है कि इस मामले का आधार के डाटाबेस की सुरक्षा से कोई लेनादेना नहीं है. विशिष्ट पहचान प्राधिकरण ने लोगों को भरोसा दिलाया है कि आधार डाटाबेस पूरी तरह से सुरक्षित है.

इस तरह की खबरें पूरी तरह सच्चाई से परे हैं. गूगल पर जो भी आधार कार्ड नजर आ रहे हैं, उनमें से कोई भी यूआइडीएआइ की डाटाबेस से नहीं लिया गया है. प्राधिकरण ने स्पष्ट किया है कि अन्य सभी पहचान पत्र की तरह आधार भी एक गैर गोपनीय दस्तावेज है. केवल किसी के आधार नंबर की जानकारी हो जाने से कोई किसी की पहचान नहीं चुरा सकता, क्योंकि यहां बायोमीटिक मिलान करना जरूरी है. 

मोबाइल नंबर को आधार से जोड़ने की आखिरी तारीख बढ़ी

टिप्पणियां
यूआइडीएआई ने बताया है, ‘जैसे मोबाइल नंबर, बैंक एकाउंट नंबर, पैन कार्ड, पासपोर्ट व परिवार का ब्योरा देते वक्त हम ध्यान रखते हैं, वैसे ही आधार नंबर का ब्योरा देते वक्त हमें सावधानी बरतनी चाहिए. यदि कोई गैरकानूनी तरीके से किसी का आधार नंबर, मोबाइल नंबर, बैंक अकाउंट नंबर या तस्वीर प्रकाशित करता है तो उस पर मुआवजे के लिए दीवानी का मुकदमा दायर किया जा सकता है. यह मुकदमा वह शख्स दायर कर सकता है, जिसकी निजता का उल्लंघन हुआ है.

VIDEO: सब्सिडी को अंगूठा, अंगूठे मैच न होने पर नहीं मिल रहा राशन
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement