UK की फार्मा कंपनी ने COVID-19 वैक्सीन का ट्रायल रोका, एक वॉलंटियर में सामने आई थी समस्या

Astrazeneca Vaccine Trial : यह साफ नहीं किया गया है कि वो मरीज़ कहां है, जिसमें वैक्सीनेशन के बाद कोई समस्या पैदा हुई है या फिर उसकी समस्या कितनी बड़ी है.

UK की फार्मा कंपनी ने COVID-19 वैक्सीन का ट्रायल रोका, एक वॉलंटियर में सामने आई थी समस्या

ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के साथ यह वैक्सीन बना रही है कंपनी. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

खास बातें

  • UK की कंपनी ने वैक्सीन ट्रायल रोका
  • वॉलंटियर में सामने आई थी समस्या
  • स्वतंत्र कमिटी करेगी जांच
लंदन:

Covid-19 वैक्सीन का ट्रायल (Covid-19 vaccine trial) कर रही ब्रिटेन की फार्मास्यूटिकल कंपनी AstraZeneca ने मंगलवार को बताया कि उसने अपना क्लीनिकल ट्रायल रोक दिया है क्योंकि एक वालंटियर में एक अनपेक्षित बीमारी दिखी है. कंपनी ने इस हालात में ट्रायल रोकने को रूटीन एक्शन बताया है. यह कंपनी यूनिवर्सिटी ऑफ ऑक्सफोर्ड के साथ मिलकर कोविड के लिए वैक्सीन बना रही है और दुनिया भर में कोविड वैक्सीन बनाने की कोशिशों में लगी फार्मा कंपनियों में आगे चल रही है.

कंपनी के एक प्रवक्ता ने बताया, 'ऑक्सफोर्ड कोरोनावायरस वैक्सीन के रैंडमाइज्ड, नियंत्रित ग्लोबल ट्रायल के तहत हमारी मानक समीक्षा प्रक्रिया शुरू हुई है और हमने खुद फैसला लेते हुए वैक्सीनेशन पर रोक लगा दी है ताकि एक स्वतंत्र समिति सेफ्टी डेटा का आकलन कर सके.' उन्होंने कहा, 'यह एक रूटीन एक्शन है, जो तब उठाया जाता है जब किसी ट्रायल में किसी अनपेक्षित बीमारी के सामने आने की आशंका होती है. फिलहाल इसकी जांच हो रही है और हम सुनिश्चित कर रहे हैं कि ट्रायल में विश्वसनीयता बनाए रखें.'

कंपनी की ओर से कहा गया कि बड़े स्तर पर किए जाने वाले ट्रायल्स में कोई बीमारी उभरने की संभावना होती है, लेकिन इसकी समीक्षा स्वतंत्र रूप से होनी चाहिए. हालांकि, यह साफ नहीं किया गया है कि वो मरीज़ कहां है, जिसमें वैक्सीनेशन के बाद कोई समस्या पैदा हुई है या फिर उसकी समस्या कितनी बड़ी है.

यह भी पढ़ें: स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया क्या है भारत में कोरोना वैक्सीन का स्टेटस

बता दें कि वैक्सीन ट्रायल के दौरान ऐसी घटना और ट्रायल को रोका जाना बहुत असामान्य नहीं है लेकिन कोविड-19 के वैक्सीन के ट्रायल में ऐसा पहली बार हुआ है. AstraZeneca उन नौ कंपनियों में से एक है, जिनकी वैक्सीन का ट्रायल बड़े स्तर पर हो रहा है और तीसरे चरण में चल रहा है. कंपनी ने US में 31 अगस्त को दर्जनों राज्यों में 30,000 वॉलंटियर्स कोृा ट्रायल के लिए रजिस्ट्रेशन किया है. 

इस वैक्सीन का नाम AZD1222 है और इसमें आम जुकाम से पैदा होने वाले adenovirus की इंजीनियरिंग करके इसमें नॉवेल कोरोनावायरस के स्पाइक प्रोटीन जोकि यह वायरस कोशिकाओं में घुसने के लिए इस्तेमाल करता है, को कोड किया गया है. वैक्सीनेशन के बाद शरीर में यह प्रोटीन बनने लगता है तो, इस वायरस के खिलाफ प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है, जिससे कि आगे के लिए कोरोनावायरस से इम्यूनिटी मिले.

Video: कब खत्म होगी महामारी, कब लौटेंगे पहले वाले दिन?

Newsbeep

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com




(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)