NDTV Khabar

कश्मीर को लेकर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह का सख्त रुख, मिल रहे यह संकेत

अमित शाह ने जम्मू-कश्मीर का दौरा किया, अलगाववादियों के साथ किसी भी तरह की बैठक का कोई संकेत नहीं दिया

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कश्मीर को लेकर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह का सख्त रुख, मिल रहे यह संकेत

गृह मंत्री अमित शाह का जम्मू-कश्मीर को लेकर सख्त रुख है.

खास बातें

  1. शाह ने कश्मीर को लेकर दिल्ली में तीन शीर्ष स्तर की सुरक्षा बैठकें कीं
  2. राजनीति को लेकर राज्य के भाजपा नेताओं से भी कोई बात नहीं की
  3. अलगाववादी खेमे को वार्ता के लिए आमंत्रित करने की कोई संभावना नहीं
श्रीनगर:

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह जम्मू एवं कश्मीर के दो दिवसीय दौरे के बाद अलगाववादियों को स्पष्ट संदेश दिया है कि वह नरमी बरतने वाले नहीं हैं. अमित शाह पहले गृहमंत्री हैं, जिन्होंने अलगाववादियों के साथ किसी भी बैठक का कोई संकेत नहीं दिया है.

अमित शाह का स्पष्ट कहना है कि अलगाववाद का समर्थन करने वाले उनसे किसी तरह की रियायत की उम्मीद नहीं कर सकते. उन्होंने कहा कि आतंकवाद व आतंकवादियों के खिलाफ लड़ाई जारी रहेगी. उनके बयान में यह भी कहा गया, "शांति व सामान्य स्थिति के विरोधी लोगों से सख्ती से निपटा जाएगा."

यह मानना सहज नहीं है कि अमित शाह का जम्मू एवं कश्मीर का पहला दौरा आगामी अमरनाथ यात्रा के सुरक्षा इंतजाम को देखने के लिए था. अगर उनके राज्य के दौरा करने का मूल उद्देश्य यह होता तो दक्षिण ब्लॉक से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सभी हितधारकों से बात करना यात्रा के शांतिपूर्ण संचालन के लिए बेहतर होता और यात्रा की सुरक्षा की समीक्षा के लिए ज्यादा प्रभावी होता.

जम्मू-कश्मीर में राष्ट्रपति शासन के विस्तार को लोकसभा में मंजूरी


अमित शाह के करीबी सूत्रों के अनुसार, दो दिवसीय दौरा सख्त व स्पष्ट संदेश देने के लिए है कि अगर कोई अलगाववादी खेमा वार्ता के लिए आमंत्रित किए जाने का इंतजार कर रहा है, जैसा कि नई दिल्ली अतीत में करता रहा है, तो यह गलत है.

अमित शाह के करीबी सूत्रों ने कहा, "सच्चाई यह है कि केंद्रीय गृहमंत्री के रूप में कार्यभार संभालने के तुरंत बाद शाह ने नई दिल्ली में तीन शीर्ष स्तर की सुरक्षा बैठकें कीं और ये सभी जम्मू एवं कश्मीर में समग्र सुरक्षा से जुड़ी हैं."

जम्मू-कश्मीर पर बोले अमित शाह, जिनके मन में भारत का विरोध है, उनके अंदर डर होना चाहिए, हम टुकड़े-टुकड़े गैंग के मेंबर नहीं हैं

अंदरूनी सूत्रों ने कहा कि अमित शाह की राज्य के भाजपा नेताओं के साथ श्रीनगर की बैठक भाजपा कार्यकर्ताओं के परिजनों को दिए गए मुआवजे तक सीमित रही. आतंकवादियों द्वारा इन भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या की गई थी.

भाजपा नेताओं की अमित शाह के साथ बैठक पर एक सूत्र ने कहा, "राज्य की राजनीति कैसे चलनी चाहिए, इस पर एक शब्द नहीं कहा गया. यहां तक कि राज्य के भाजपा नेताओं से भी कोई बात नहीं हुई."

VIDEO : अमित शाह के भाषण के दौरान कश्मीर मुद्दे पर विपक्ष का खालीपन

टिप्पणियां

(आईएएनएस)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement