केंद्रीय मंत्री ने कहा- जम्मू-कश्मीर मुद्दे से निपटने में गलत थे नेहरू, सरदार पटेल की नीति थी सही 

प्रसाद ने कहा कि देश के पहले गृह मंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल की सोच भारत में जम्मू कश्मीर के विलय को लेकर सही दिशा में थी.

केंद्रीय मंत्री ने कहा- जम्मू-कश्मीर मुद्दे से निपटने में गलत थे नेहरू, सरदार पटेल की नीति थी सही 

रविशंकर प्रसाद ने जवाहर लाल नेहरू को लेकर दिया बयान

नई दिल्ली:

जम्मू-कश्मीर के मुद्दे से न निपटने के लिए मोदी सरकार के कई मंत्री देश के प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू पर आरोप लगाते रहे हैं. इसी कड़ी एक और केंद्रीय मंत्री का नाम जुड़ गया है. केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने रविवार को दावा किया कि नेहरू ने स्वतंत्रता के बाद जम्मू कश्मीर के मुद्दे को लेकर गलत रुख अपनाया था. प्रसाद ने कहा कि देश के पहले गृह मंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल की सोच भारत में जम्मू कश्मीर के विलय को लेकर सही दिशा में थी. उन्होंने कहा कि स्वतंत्रता के समय देश में 660 रियासतें थीं. जम्मू कश्मीर को छोड़कर सरदार पटेल ने बाकी सभी रियासतों के भारत में विलय का काम देखा और वहां किसी तरह की कोई समस्या नहीं हई.

Newsbeep

हर गलती के लिए नेहरू को ज़िम्मेदार ठहराना स्कूली बच्चे का 'होमवर्क कुत्ता चबा गया' जैसा बहाना : महबूबा मुफ्ती

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


केंद्रीय मंत्री ने कहा कि जम्मू कश्मीर का मुद्दा जवाहरलाल नेहरू ने देखा और समस्या आज तक बनी हुई है. केंद्र द्वारा जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35ए को रद्द किये जाने के फैसले को लेकर केंद्रीय कानून मंत्री भाजपा के जन जागरण अभियान को संबोधित कर रहे थे. यह दिखाता है कि पटेल की सोच सही थी जबकि नेहरू का रुख गलत. हमें पहले यह निश्चित रूप से मानना होगा. पटेल के सचिव वी शंकर द्वारा लिखी किताब का संदर्भ देते हुए प्रसाद ने कहा कि तत्कालीन गृह मंत्री ने उन्हें बताया था कि अनुच्छेद 370 उस दिन रद्द हो जाएगा जब साहस वाला कोई नेता आएगा. उन्होंने कहा कि साहस और दृढ़ता वाला एक नेता यहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रूप में है, जिन्होंने 70 साल बाद एक झटके में अनुच्छेद 370 को रद्द कर दिया.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)