NDTV Khabar

Unnao Rape Case: पीड़िता ने आधी व्हीलचेयर और आधी स्ट्रेचर पर दी गवाही, दो आरोपियों की पहचान की, 6 घंटे चली AIIMS में बनाई गई कोर्ट की कार्यवाही

Unnao Case: वकील ने बताया कि उसने आधी गवाही व्हीलचेयर पर बैठ कर दी और आधी गवाही स्ट्रेचर पर दी. उन्होंने बताया कि कार्यवाही सुबह 11 बजे से शाम पांच बजे तक बिना किसी गड़बड़ी के चलती रही जहां चिकित्सीय जरूरतों के हिसाब से बीच-बीच में विराम भी दिया गया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
नई दिल्ली:

Unnao Rape Case: दिल्ली की एक अदालत ने एम्स अस्पताल में एक 'असाधारण' अस्थायी अदालत लगा कर उन्नाव बलात्कार कांड की पीड़िता का बुधवार को बयान दर्ज किया. यह न्यायपालिका के इतिहास में एक 'ऐतिहासिक क्षण' रहा. यह मामला भाजपा से निष्कासित विधायक कुलदीप सेंगर द्वारा 2017 में पीड़िता के कथित बलात्कार से जुड़ा हुआ है. पीड़िता के वकील ने बताया कि महिला ने जयप्रकाश नारायण एपेक्स ट्रॉमा सेंटर के सेमिनार हॉल के 'बंद कमरे' में जिला न्यायाधीश धर्मेश शर्मा के सामने गवाही दी, जहां उसने मामले के दो आरोपियों की पहचान की. इस साल 28 जुलाई को हुई सड़क दुर्घटना के बाद से वह अस्पताल में भर्ती है.

वकील ने बताया कि उसने आधी गवाही व्हीलचेयर पर बैठ कर दी और आधी गवाही स्ट्रेचर पर दी. उन्होंने बताया कि कार्यवाही सुबह 11 बजे से शाम पांच बजे तक बिना किसी गड़बड़ी के चलती रही जहां चिकित्सीय जरूरतों के हिसाब से बीच-बीच में विराम भी दिया गया. दिल्ली उच्च न्यायालय की अनुमति से अस्पताल में अस्थायी अदालत स्थापित की गई. महिला का इलाज कर रहे डॉक्टरों ने कहा था कि उसे अदालत परिसर ले जाने की सलाह नहीं दी सकती. बलात्कार पीड़िता से गुरुवार को जिरह की जाएगी. बंद कमरे में चलने वाली सुनवाई को आम लोग और प्रेस को देखने की अनुमति नहीं होती. 

उन्नाव रेप पीड़ित को न्याय दिलाने के लिए एम्स में पहुंचा कोर्ट, बन गया इतिहास


महिला को कथित तौर पर अगवा कर सेंगर ने उसके साथ 2017 में बलात्कार किया था, जब वह नाबालिग थी. इस साजिश में सेंगर के साथ सह-आरोपी शशि सिंह भी शामिल था. सेंगर और सह-आरोपी शशि सिंह को बुधवार को तिहाड़ जेल से कड़ी सुरक्षा के बीच एम्स लाया गया. अस्पताल के लॉबी से आने वाले रास्ते और सेमिनार हॉल के प्रवेश पर दिल्ली पुलिस के करीब 20 अधिकारियों तथा सीआरपीएफ अधिकारियों की तैनाती के साथ सुरक्षा कड़ी कर दी गई थी. कार्यवाही के दौरान विशेष अदालत के भीतर सीसीटीवी कैमरे बंद कर दिए गए थे. मरीजों एवं उनके रिश्तेदारों को प्रथम तल प्रवेश से घुसने की अनुमति नहीं थी. उन्हें भूतल पर अन्य प्रवेश से अस्पताल में घुसना था.

उन्नाव रेप केस: सुप्रीम कोर्ट ने जांच पूरी करने के लिए CBI को दिया दो और हफ्ते का वक्त

न्यायाधीश के 10 बजे अस्पताल पहुंच जाने के बाद अस्पताल के कर्मियों को भी उस रास्ते से आने की अनुमति नहीं थी. आरोपी के वकील सुनील प्रताप सिंह ने कहा कि महिला को व्हीलचेयर पर अदालत में लाया गया और पहले उसका इलाज कर रहे डॉक्टरों ने उसकी जांच की और फिर कार्यवाही शुरू की गई जब डॉक्टरों ने उसकी चिकित्सीय स्थिति के बारे में न्यायाधीश को बयान दे दिया. उन्होंने बताया कि हॉल में आरोपी भी मौजूद थे और अदालत के निर्देशों के मुताबिक बलात्कार पीड़िता और आरोपियों के बीच एक पर्दा लगा हुआ था.

कार्यवाही शाम पांच बजे तक चली और इस दौरान महिला को दवा लेने के लिए बीच-बीच में आराम दिया गया. अदालत के भीतर महिला के साथ एक नर्सिंग अधिकारी भी मौजूद थी जो उसके डॉक्टरों के साथ संपर्क में थी. 

झूठ पकड़ने वाली जांच के बाद अब CBI पीड़िता को टक्कर मारने वाले ट्रक चालक, हेल्पर का करा सकती है नार्को टेस्ट

महिला और उसके परिवार के वकील अधिवक्ता धर्मेंद्र मिश्रा ने बताया कि अस्थायी अदालत में की गई व्यवस्था 'असाधारण' थी और यह न्यायिक इतिहास के 'ऐतिहासिक क्षणों' में से एक थाउन्होंने बताया कि पीड़िता की बड़ी बहन को पूरी कार्यवाही के दौरान उसके साथ रहने की अनुमति दी गई. सुनील प्रताप सिंह ने कहा कि महिला की स्वास्थ्य स्थितियों के बावजूद, गवाही आराम से हुई. 

टिप्पणियां

स्वतंत्रता दिवस की बधाई देते पीएम, गृहमंत्री के साथ विज्ञापन में दिखे रेप आरोपी MLA कुलदीप सिंह सेंगर

VIDEO: प्राइम टाइम : उन्‍नाव रेप पीड़िता की इंसाफ़ की राह कितनी लंबी?



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement