यूपी CM योगी आदित्यनाथ ने हाथरस गैंगरेप पीड़िता के परिवार से वीडियो लिंक के जरिए बात की

उत्तर प्रदेश के हाथरस में एक महिला के साथ सामूहिक बलात्कार और मौत पर देश भर में गुस्सा है. खासकर जिस तरह से पुलिस ने उसके परिवार की इच्छाओं के खिलाफ कल रात उसका अंतिम संस्कार किया उसके बाद से लोगों में और भी गुस्सा है.

यूपी CM योगी आदित्यनाथ ने हाथरस गैंगरेप पीड़िता के परिवार से वीडियो लिंक के जरिए बात की

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (फाइल फोटो).

लखनऊ:

उत्तर प्रदेश के हाथरस में एक महिला के साथ सामूहिक बलात्कार और मौत पर देश भर में गुस्सा है. खासकर जिस तरह से पुलिस ने उसके परिवार की इच्छाओं के खिलाफ कल रात उसका अंतिम संस्कार किया उसके बाद से लोगों में और भी गुस्सा है. अब इस सब के बीच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वीडियो-लिंक के माध्यम से पीड़िता के परिवार से बात की.

यह भी पढ़ें:हाथरस गैंगरेप पर BJP नेता कैलाश विजयवर्गीय का बयान- 'योगीजी के प्रदेश में कभी भी गाड़ी पलट जाती है'

मुख्यमंत्री ने आज मामले की जांच के लिए एक विशेष टीम का गठन किया और मुकदमे के लिए एक फास्ट-ट्रैक कोर्ट का आदेश दिया. उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनसे बात की थी और आरोपियों के खिलाफ कड़ी से कड़ी सजा की मांग की थी. योगी आदित्यनाथ ने कहा, "आदरणीय प्रधानमंत्री @narendramodi जी ने हाथरस की घटना पर बात की है और कहा है कि दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए." 

यह भी पढ़ें:हाथरस गैंगरेप : पीड़िता की मौत की खबर मिलने के वक्त पिता के साथ फोन पर थीं प्रियंका गांधी

बता दें कि उत्तर प्रदेश के हाथरस में गैंगरेप पीड़ित 20 वर्षीय युवती का अंतिम संस्कार रोकने के लिए परिजनों ने लाख जतन किए लेकिन पुलिस ने किसी की भी नहीं सुनी. मृतक की मां एम्बुलेंस के आगे सड़क पर रोती बिलखती रही, दहाड़ मारकर रोती रही. कहती रहीं कि एक बार बेटी का मुंह दिखा दो लेकिन उसकी फरियाद किसी ने नहीं सुनी. यहां तक कि गांव और परिवार की महिलाएं एम्बुलेंस की बोनट पर भी लदकर अड़ गईं लेकिन दल-बल के साथ पहुंची पुलिस ने उन्हें भी हटाकर मृतक का अंतिम संस्कार कर दिया. महिलाएं गुहार लगाती रहीं कि शव उन्हें सौंप दिया जाय ताकि अंतिम बार उसे घर ले जा सकें लेकिन पुलिस के कानों पर जूं तक नहीं रेंगी.

यह भी पढ़ें:हाथरस गैंगरेप केस पर CM योगी ने तोड़ी चुप्पी, बोले- 'कतई नहीं बचेंगे दोषी, PM को भी दी जानकारी'

वीडियो में साफ दिख रहा है कि महिलाएं एम्बुलेंस के बोनट पर अड़ी हुई हैं और उसे आगे नहीं बढ़ने दे रहीं. मृतक की मां रोड पर एम्बुलेंस के आगे दहाड़ मार कर रो रही है. वह छाती पीट-पीटकर बेटी का मुंह दिखाने को कह रही है लेकिन पुलिस ने न तो शव सौंपा, न ही घर ले जाने दिया और न ही उसे देखने दिया. मृतक युवती के पिता और भाई ने पुलिस से बहस करने के बाद जिलाधिकारी से भी अपील की कि लाश को एक बार घर ले जाने दें. उन लोगों ने अपील की कि आधी रात में दाह संस्कार करने की उनकी परंपरा नहीं है, सुबह गांव में भारी संख्या में पुलिस तैनात थी. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

ग्रामीणों के विरोध को देखते हुए पुलिसवालों ने स्कॉट कर डेडबॉडी का दाह संस्कार कर दिया. आरोप है कि इस दौरान पीड़ित परिजनों को पुलिस ने घर में बंद कर दिया था. विरोध के बीच पुलिस एम्बुलेंस को सीधे अंतिम संस्कार वाले स्थान पर लेकर गई और रात करीब 2.30 बजे उसका दाह संस्कार कर दिया गया.

प्रशासन का दावा- परिवार वालों की मौजूदगी में अंतिम संस्कार किया गया