NDTV Khabar

...जब उन्नाव मामले को लेकर स्कूली छात्रा के सवाल पर हुई पुलिस की बोलती बंद

बाराबंकी में यूपी पुलिस बालिका जागरूकता कार्यक्रम कर रही थी. पुलिस लड़कियों को छेड़छाड़ की शिकायत के लिए एक हेल्पलाइन नंबर दे रही थी. इसी दौरान एक स्कूली छात्रा के सवाल ने पुलिस की बोलती बंद कर दी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
...जब उन्नाव मामले को लेकर स्कूली छात्रा के सवाल पर हुई पुलिस की बोलती बंद

बाराबंकी में यूपी पुलिस ने किया बालिका जागरूकता कार्यक्रम

खास बातें

  1. स्कूली छात्रा ने कर दी पुलिस की बोलती बंद
  2. उन्नाव केस को लेकर छात्रा ने किया सवाल
  3. स्कूल में चल रहा था बालिका जागरूकता कार्यक्रम
नई दिल्ली:

उन्नाव रेप पीड़िता के एक्सीडेंट को लेकर मचे सियासी घमासान के बीच बाराबंकी में यूपी पुलिस बालिका जागरूकता कार्यक्रम कर रही थी. पुलिस लड़कियों को छेड़छाड़ की शिकायत के लिए एक हेल्पलाइन नंबर दे रही थी. इसी दौरान एक स्कूली छात्रा के सवाल ने पुलिस की बोलती बंद कर दी. बाराबंकी के एक स्कूल की छात्रा ने यूपी पुलिस से ऐसा सवाल पूछ लिया कि पुलिस जवाब देने में नाकाम रही. छात्रा ने कहा कि उन्नाव की एक लड़की ने शिकायत की तो उसके पूरे परिवार को ट्रक से उड़ा दिया गया. ऐसे में अगर छेड़खानी करने वाला कोई ताकतवर आदमी हो तो शिकायत कैसे करें?

यह भी पढ़ें: उन्नाव केस में कुलदीप सेंगर के बाद BJP के एक और नेता का नाम आया सामने, FIR में 'आरोपी नंबर-7' है ये शख्स


छात्रा ने कहा, 'सर, जैसा आपने कहा कि हमें डरना नहीं चाहिए और आवाज उठानी चाहिए. विरोध करना चाहिए. तो सर मेरा यह सवाल था कि थोड़े दिन पहले बीजेपी नेता ने एक लड़की का रेप किया और फिर उसके पिता कि एक्सीडेंटली मौत हो गई. ये सबको पता है कि उसके पिता की जो मौत हुई वह ऐक्सिडेंट नहीं था. 

यह भी पढ़ें: उन्नाव मामले पर बोलीं प्रियंका गांधी, अब बीजेपी नेताओं की लीपापोती सामने आ रही है, हम मजबूती से...

इसके बाद रेप पीड़िता लड़की की गाड़ी को ट्रक ने टक्कर मार दिया गया. हर किसी को पता है कि ये कोई एक्सीडेंट की घटना नहीं है. ट्रक की नंबर प्लेट को छुपाया गया था. छात्रा ने कहा कि सामने वाला अगर साधारण व्यक्ति हो तो विरोध किया जा सकता है, लेकिन अगर वह एक नेता है या पावरफुल व्यक्ति हो तब क्या करना चाहिए? छात्रा ने कहा कि जैसा हमने निर्भया के मामले में देखा. हम विरोध जताते हैं तो क्या गारंटी है कि हमें इंसाफ मिलेगा? क्या गारंटी है कि मैं सेफ रहूंगी? क्या गारंटी है कि मेरे साथ कुछ नहीं होगा? इस पर पुलिस अधिकारी ने कहा कि निश्चित रूप से बालिकाओं की सुरक्षा बढ़ेंगी और वह जागरूक होंगी. अपनी आवाज को उठाएंगी. 

यह भी पढ़ें: कोर्ट तय नहीं, जज भी नदारद - बस, लंबित पड़ा है उन्नाव रेप पीड़िता का केस

बता दें कि उन्नाव बलात्कार पीड़िता की सड़क दुर्घटना में CBI ने केस दर्ज कर लिया है. 10 मुख्य आरोपियों और 20 अज्ञात लोगों के ख़िलाफ़ केस दर्ज किया गया है. बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को मुख्य आरोपी बनाया गया है. आरोपियों पर हत्या, हत्या की कोशिश, साज़िश रचने की धारा लगाई गई है. इस FIR में योगी सरकार के एक मंत्री के दामाद का भी नाम शामिल है. मंत्री रणवेन्द्र प्रताप सिंह के दामाद अरुण सिंह को भी नामज़द किया गया है. अरुण सिंह नवाबगंज के ब्लॉक प्रमुख हैं.

टिप्पणियां

यह भी पढ़ें: CBI ने उन्नाव रेप पीड़िता के साथ हुई दुर्घटना मामले में कुलदीप सिंह सेंगर और अन्य 10 के खिलाफ दर्ज किया मामला 

वहीं इस पूरे मामले में सीबीआई की टीम आज रायबरेली के उस घटनास्थल पर पहुंची जहां यह सड़क दुर्घटना हुई थी. 12 सदस्यों की इस टीम ने जांच शुरू कर दी है. सीबीआई ने डीएम और एसएसपी से भी पूछताछ की है. इसके अलावा इस दुर्घटना के वक्त आसपास की चाय और पान की दुकान चलाने वाले दुकानदारों से भी पूछताछ हुई है जो इस मामले में चश्मदीद गवाह हैं.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement