NDTV Khabar

Ayodhya Verdict: UP पुलिस के DGP ने फैसले से पहले की अपील, कहा - सोशल साइट्स पर कोई भी मैसेज फॉरवर्ड करने से पहले आप... 

उत्तर प्रदेश पुलिस ने इस दौरान किसी तरह की अफवाह फैलाने वालों पर नकेल कसने की भी तैयारी की है. उत्तर प्रदेश पुलिस के डीजीपी ओपी सिंह ने सोशल साइट्स पर निगरानी को लेकर एक अपील जारी की है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Ayodhya Verdict: UP पुलिस के DGP ने फैसले से पहले की अपील, कहा - सोशल साइट्स पर कोई भी मैसेज फॉरवर्ड करने से पहले आप... 

अयोध्या मामले में फैसले से पहले यूपी पुलिस की अपील

खास बातें

  1. यूपी पुलिस ने फैसले से पहले की अपील
  2. डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि सतर्क रहें
  3. आज आएगा अयोध्या मामले पर फैसला
नई दिल्ली:

अयोध्या में विवादित भूमि को लेकर आज सुप्रीम कोर्ट की पांच जजों की पीठ अपना पैसला सुनाने वाली है. फैसले से पहले पीएम मोदी और उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने आम लोगों से फैसले के बाद शांति बनाए रखने की अपील भी की है. इस फैसले के मद्देनजर अयोध्या समते देश के कई हिस्सों की सुरक्षा बढ़ा दी गई है. उत्तर प्रदेश पुलिस ने इस दौरान किसी तरह की अफवाह फैलाने वालों पर नकेल कसने की भी तैयारी की है. उत्तर प्रदेश पुलिस के डीजीपी ओपी सिंह ने सोशल साइट्स पर निगरानी को लेकर एक अपील जारी की है. उन्होंने अपनी अपील में आम लोगों से सोशल साइट्स पर आने वाले किसी भी मैसेज को आगे बढ़ाने से पहले उसकी सत्यता जांचने का अनुरोध किया है. साथ ही लोगों से ऐसे मैसेज को आगे बढ़ाने से बचने की बात भी की है. उन्होंने अपनी अपील में कहा है कि प्रिय प्रदेशवासियों जैसा कि आप सबको पता है कि अयोध्या मामले में शनिवार को सुप्रीम कोर्ट की पांच जजों की बेंच का फैसला आ जाएगा.

Ayodhya Verdict: सरकार ने बढ़ाई फैसला सुनाने जा रहे सभी 5 जजों की सुरक्षा


आप सब से अपील है कि किसी भी तरह का मैसेज फॉरवर्ड करने से पहले उसकी सत्यता अवश्य जांच लें. अन्यथा आपके द्वारा किया गया एक भी गलत मैसेज लाखों लोगों के लिए मुसीबत का सबब और प्रदेश के माहौल को खराब करने का कारण बन सकता है. जिसके जिम्मेदार पूरी तरह से आप होंगे. उत्तर प्रदेश पुलिस सोशल मीडिया (व्हाट्सएप, फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब आदि) की पूरी निगरानी कर रही है. बावजूद इसके अगर कोई यह सोचकर कि पकड़ा नहीं जाऊंगा और गलत मैसेज फॉरवर्ड करता है तो यह उसकी गलतफहमी होगी. 

अयोध्या मामले में फैसले से पहले आज होगी कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक

पुलिस आपके सहयोग और सहायता  के लिए तत्पर है. और आप से भी अपेक्षा करती है कि पुलिस का पूरा सहयोग करेंगे. हम यह भी अपेक्षा करते हैं कि अफवाह फैलाने वालों के खिलाफ 112 नंबर, ट्विटर सेवा व निकटतम थाने के थाना अध्यक्ष या प्रभारी निरीक्षक को सूचना देंगे.  यदि आपके क्षेत्र में कोई अनजान व्यक्ति या समूह सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिए गए निर्णय के विरोध में भड़काने की कोशिश करता है या बरगलाने की कोशिश करता है तो उसकी भी सूचना तत्काल पुलिस को दे सकते हैं. हम आपको विश्वास दिलाते हैं की प्रदेश के अमन-चैन से खिलवाड़ करने वालों के खिलाफ सख्ती से पेश आएंगे और कार्रवाई करेंगे. साथ ही आप की सुरक्षा का पूरा ख्याल रखेंगे. 

अयोध्या फैसला: जामिया मिल्लिया में आज नहीं होगी कोई क्लास, कुलपति ने की शांति रखने की अपील

वहीं, केंद्र सरकार ने अयोध्या (Ayodhya Verdict) समेत देश के सभी संवेदनशील इलाकों में सुरक्षा चाकचौबंद कर दी है. साथ ही फैसले के केंद्र सरकार ने उन सभी पांच जजों जिनमें चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया रंजन गोगोई (CJI Ranjan Gogoi), जस्टिस एस ए बोबडे, जस्टिस धनन्जय वाई चन्द्रचूड़ , जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस एस अब्दुल नजीर शामिल हैं, की सुरक्षा भी बढ़ा दी है. सूत्रों के अनुसार CJI रंजन गोगोई की सुरक्षा को Z श्रेणी का कर दिया  गया है. 

अयोध्या मामले पर फैसले के चलते यूपी, दिल्ली समेत कई राज्यों में बंद रहेंगे स्कूल-कॉलेज

इस फैसले से पहले पीएम मोदी ने देशवासियों से फैसले के बाद देश में शांति बनाए रखने की अपील की है. उन्होंने शुक्रवार की शाम एक के बाद एक किए कई ट्वीट में लिखा कि देश की न्यायपालिका के मान-सम्मान को सर्वोपरि रखते हुए समाज के सभी पक्षों ने, सामाजिक-सांस्कृतिक संगठनों ने, सभी पक्षकारों ने बीते दिनों सौहार्दपूर्ण और सकारात्मक वातावरण बनाने के लिए जो प्रयास किए, वे स्वागत योग्य हैं. कोर्ट के निर्णय के बाद भी हम सबको मिलकर सौहार्द बनाए रखना है. एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा कि अयोध्या पर कल सुप्रीम कोर्ट का निर्णय आ रहा है. पिछले कुछ महीनों से सुप्रीम कोर्ट में निरंतर इस विषय पर सुनवाई हो रही थी, पूरा देश उत्सुकता से देख रहा था. इस दौरान समाज के सभी वर्गों की तरफ से सद्भावना का वातावरण बनाए रखने के लिए किए गए प्रयास बहुत सराहनीय हैं.

Ayodhya Case Final Verdict: अयोध्या मामले पर फैसले से पहले पीएम मोदी ने जनता से की यह अपील

फैसले से पहले शुक्रवार को अयोध्या में सुरक्षा और कड़ी हो गई. राम जन्मभूमि मंदिर की तरफ जाने वाले सारे रास्ते बंद कर दिए गए हैं. अब वहां से सिर्फ़ पैदल गुज़रा जा सकेगा. सीएम योगी आदित्यनाथ ने हर जिले में एक कंट्रोल रूम बनाने और लखनऊ और अयोध्या में दो हेलीकॉप्टर तैयार रखने के आदेश दिए हैं. पूरे यूपी में पुलिस दंगों से निपटने के लिए रिहर्सल कर रही है. टेंपरेरी जेलें बना दी गई हैं. वहां जरूरत पड़ने पर गिरफ्तार लोगों को रखा जा सकेगा.

अयोध्या में नाकेबंदी और सख़्त हो गई है. राम जन्मभूमि मंदिर जाने वाले सारे रास्ते आज गाड़ियों के लिए सील कर दिए गए. झगड़े वाली जगह के चारों तरफ 67 एकड़ जमीन पहले से केन्द्र सरकार के कब्ज़े और सेंट्रल फोर्सस की निगरानी में हैं. अब उसकी तरफ जाने वाले रास्तों को गाड़ियों के लिए पूरी तरह बंद कर दिया गया है. इसके साथ पूरे अयोध्या में पुलिस जनता के बीच जाकर उन्हें समझाने और हिफ़ाज़त का भरोसा दिलाने की कोशिश कर रही है.

जिस अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट सुनाएगा फैसला, जानें उसका इतिहास, अब तक क्या-क्या हुआ?

अयोध्या के सारे प्रमुख मंदिरों के आसपास बड़े पैमाने पर सिक्‍योरिटी लगा दी गई. जिन जगहों पर सुरक्षा बढ़ाई गई है उनमें राम जन्मभूमि कॉम्प्लेक्स, हनुमानगढ़ी, दशरथ महल, कनक भवन, मंदिर निर्माण कार्यशाला राम की पैड़ी, कारसेवक पुरम, सरयू घाट वगैरह शामिल हैं. लेकिन प्रशासन का कहना है कि वहां सुरक्षा पूरी रहेगी लेकिन ज़िंदगी अपनी रफ़्तार से चलेगी. स्कूल, कॉलेज, बाजार सब खुलेंगे और कोई पाबंदी नहीं रहेगी.

Ayodhya Case Verdict Updates: सुप्रीम कोर्ट कल सुबह 10.30 बजे सुनाएगा फैसला, पीएम मोदी ने जनता से की अपील

अयोध्‍या के जिलाधिकारी अनुज झा ने कहा, 'शादी-ब्‍याह का सीजन है. जैसा तय किया है वैसा ही रहेगा. कहीं कोई समस्‍या आती है तो हम तुरंत समन्‍वय स्‍थापित करेंगे. सबके पास हमारे नंबर बंटे हैं. जो भी संपर्क करेगा, उसकी समस्‍या का हम समाधान करेंगे. ऐसी व्‍यवस्‍था की जा रही है कि सारे कार्यक्रम सामान्‍य ढंग से चलते रहें.'

Ayodhya Case Final Verdict:अयोध्या मामले पर फैसले से पहले पीएम मोदी ने जनता से की यह अपील

अयोध्या में ज़्यादातर लोग मंदिरों से ही रोज़ी पाते हैं. यहां की जनता बाज़ारों में छोटी-छोटी दुकानों में पूजा सामग्री वगैरह बेचकर गुज़ारा करती है. किसी तरह की अशांति उनकी ज़िंदगी मुश्किल कर देती है. इसलिए यहां साधु-संत, मस्जिद के पक्षकार और अवाम सभी अमन चाहते हैं.

कल सुबह जिस अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट सुनाएगा फैसला, जानें उसका इतिहास, अब तक क्या-क्या हुआ?

दशरथ गद्दी के महंत बृजमोहन दास कहते हैं, 'मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम का जीवन मर्यादा का जीवन है. आज पूरे भारत के लोगों को मर्यादा का पालन करना पड़ेगा. कोर्ट के फैसले का सबको सम्मान करना पड़ेगा. और अपनी एकता, अखंडता को बरकरार रखना पड़ेगा, क्‍योंकि रामजी ने सदा सबको गले लगाया है और अयोध्‍या की भूमि में सदियों से पूरे विश्‍व को एक आइना दिखाया है. एक जीवन जीने की प्रवृत्ति सिखाई है.'

Ayodhya Case : फैसले के मद्देनजर फरीदाबाद में सतर्कता, पुलिस को सख्त निर्देश

बाबरी मस्जिद केस के मुद्दई इकबाल अंसारी ने कहा कि 'हम तो यही संदेश देना चाहते हैं कि हम हिंदुस्तान के निवासी हैं, हिंदुस्तान का संविधान मानते हैं. संविधान जो भी फ़ैसला करेगा, हम खुशी-खुशी उसको मान लेंगे. और लोग उसको मान लें..कोई ऐसा वाद-विवाद न करें जिससे  अगल-बगल में रहने वाले लोगों के बीच बदअमनी फैले.'

अयोध्या मामला: सुप्रीम कोर्ट में 5 जजों की बेंच कल सुबह 10.30 बजे सुनाएगी फैसला

हर जिले में दंगों को रोकने की रिहर्सल हो रही है. पुलिस को टियर गैस फेंकने, ग्रेनेड फेंकने की रिहर्सल कराई जा रही है. फ़िरोज़बाद में तो घुड़सवार पुलिस को बलवाइयों को खदेड़ने की ट्रेनिंग देने के लिए घोड़े ना होने पर पुलिस वालों से ही घोड़े की एक्टिंग कराई गई.

VIDEO : अयोध्या में मिश्रित आबादी वाले इलाकों पर ध्यान केंद्रित

टिप्पणियां



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement