NDTV Khabar

यूपी में 'काम बोलता है' नहीं चला तो समाजवादी पार्टी और अखिलेश यादव 'साइकिल' पर लौटे...

734 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
यूपी में 'काम बोलता है' नहीं चला तो समाजवादी पार्टी और अखिलेश यादव 'साइकिल' पर लौटे...

समाजवादी पार्टी ने 2022 चुनाव के लिए तैयारी शुरू की

नई दिल्ली: यूपी में बीजेपी की सरकार बन चुकी है. सीएम योगी आदित्यनाथ सत्ता पर काबिज हो चुके हैं. ऐसे में समाजवादी पार्टी ने एक बार फिर लोगों को एक स्लोगन के जरिए रिझाने की कोशिश की है. 'काम बोलता है' ने समाजवादी पार्टी के टायर को ऐसा पंचर किया कि उन्हें सलोगन बदलने के बारे में इतना जल्द सोचना पड़ गया. गौरतलब है कि चुनाव के दौरान अखिलेश ने काम बोलता है नारे के जरिए चुनाव प्रचार किया था, लेकिन नाकामी मिलने के बाद अब पार्टी ने स्लोगन को बदल दिया है. अब उनका नारा है -आपकी साइकिल सदा चलेगी, आपके नाम से, फिर प्रदेश का दिल जीतेंगे हम मिलकर अपने काम से.

विधानसभा चुनाव के दौरान समाजवादी पार्टी ने कांग्रेस के साथ गठबंधन किया था और काम बोलता है नारा दिया था. पूरे चुनाव प्रचार के दौरान अखिलेश ने अपने काम का हवाला देकर वोट मांगे थे. अखिलेश के काम बोलता है नारे पर पीएम नरेंद्र मोदी भी अपनी रैलियों में 'कारनामा बोलता है' कहते दिखे थे. खैर समाजवादी पार्टी हार चुकी है. समाजवादी पार्टी के मार्गदर्शक मुलायम सिंह यादव ने हार का ठीकरा कांग्रेस के सिर फोड़ा. खैर- इस नए सलोगन से समाजवादी ने
2022 के विधानसभा चुनावों का बिगुल बजा दिया है. इससे साफ है कि समाजवादी पार्टी 2022 की तैयारियों में अभी से जुट गई है. वह अपनी तरफ से कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती.

उल्लेखनीय है कि योगी आदित्यनाथ यूपी की सत्ता पर काबिज हैं. 10 दिन में उन्होंने कई फैसले लिए, जिनमें अवैध बूचड़खानों पर कार्रवाई और एंटी रोमियो स्क्वॉड भी शामिल है. इसके अलावा उन्होंने सरकारी कार्यालयों में पान-गुटखा खाने पर बैन लगा दिया. आम लोगों की जल्द सुनवाई के लिए उन्होंने थानों पर भी नकेल कसी है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement