NDTV Khabar

पाकिस्तान में मानवाधिकारों के उल्लंघन के आरोपों को लेकर अमेरिका चिंतित

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पाकिस्तान में मानवाधिकारों के उल्लंघन के आरोपों को लेकर अमेरिका चिंतित

प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर...

खास बातें

  1. अमेरिका ने कहा है कि वह घटनाक्रम पर करीबी नजर रखे हुए है.
  2. पाकिस्‍तान मुश्किल और महत्वपूर्ण सुरक्षा अभियानों में उलझा : अधिकारी
  3. अधिकारी ने कहा, अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का महत्व है.
वॉशिंगटन:

पाकिस्तान में एमक्यूएम के खिलाफ कार्रवाई के मद्देनजर मानवाधिकारों के कथित उल्लंघन को लेकर चिंता व्यक्त करते हुए अमेरिका ने कहा है कि वह घटनाक्रम पर करीबी नजर रखे हुए है और कराची में कानून के मुताबिक नियमों का अनुसरण करने के लिए सभी प्रयास किया जाना चाहिए.

पिछले कुछ सप्ताह के दौरान कराची में मुत्तहिदा कौमी मूवमेंट (एमक्यूएम) के सदस्यों और नेताओं के खिलाफ पाकिस्तान द्वारा कथित तौर पर घोर मानवाधिकारों के उल्लंघन के आरोपों को लेकर सवाल पूछे जाने पर विदेश मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया, 'पाकिस्तान अपने क्षेत्र में मुश्किल और महत्वपूर्ण सुरक्षा अभियानों में उलझा हुआ है. साथ ही अमेरिका पाकिस्तान में मानवाधिकारों के कथित उल्लंघनों के आरोपों को लेकर चिंतित है'. अमेरिका के अधिकारी ने कहा कि लोकतांत्रिक समाज की आधारशिला के रूप में सार्वजनिक सभा और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का महत्व है.

अधिकारी ने बताया कि हम मानवाधिकारों के मुद्दों पर पाकिस्तान सरकार के साथ काम करते रहे हैं और करते रहेंगे. हम देश में लोकतांत्रिक और जवाबदेह प्रक्रिया तथा कानून के शासन को मजबूत बनाने के प्रयासों में समर्थन करते रहेंगे.


एमक्यूएम के कार्यालयों पर बुलडोजर चलाए जाने, इसके नेता अल्ताफ हुसैन के भाषणों और पोस्टरों पर प्रतिबंध सहित उसके खिलाफ पाकिस्तानी बलों द्वारा की गई कार्रवाई को अमेरिकी समर्थन के बारे में पूछे गए सवालों के जवाब में अधिकारी ने कहा कि अमेरिका इन घटनाओं पर करीबी नजर रखे हुए है.

टिप्पणियां

अधिकारी ने कहा, कराची में कानून और व्यवस्था को बनाए रखने के लिए कानून के शासन के तहत सभी प्रयास किए जाने चाहिए.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement