जिस आईपीएस ने कभी योगी आदित्यनाथ पर की थी कार्रवाई, अब यूपी सरकार ने इस मामले में किया निलंबित

जिस आईपीएस अफसर जसवीर सिंह(IPS officer Jasvir Singh) ने कभी महराजगंज में पुलिस अधीक्षक रहते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ(तब गोरखपुर सांसद) को गिरफ्तार किया था, अब यूपी सरकार ने उन्हें निलंबित कर दिया है.

जिस आईपीएस ने कभी योगी आदित्यनाथ पर की थी कार्रवाई, अब यूपी सरकार ने इस मामले में किया निलंबित

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ की फाइल फोटो.

खास बातें

  • आईपीएस जसवीर सिंह को योगी सरकार ने किया निलंबित
  • आरोप- कोड ऑफ कंडक्ट का उल्लंघन कर दिया इंटरव्यू
  • बिना अनुमति के अनुपस्थित रहने का भी आरोप
नई दिल्ली:

जिस आईपीएस अफसर जसवीर सिंह(IPS officer Jasvir Singh) ने कभी महराजगंज में पुलिस अधीक्षक रहते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ(तब गोरखपुर सांसद) को गिरफ्तार किया था, अब यूपी सरकार ने उन्हें निलंबित कर दिया है. मौजूदा वक्त वह अपर पुलिस महानिदेशक रूल्स एंड मैनुअल पद पर तैनात हैं.उनके खिलाफ निलंबन की कार्रवाई 14 फरवरी को हुई. योगी सरकार आने के बाद से जसवीर सिंह साइडलाइन चल रहे थे. दरअसल आईपीएस जसवीर सिंह ने एक मीडिया संस्थान को इंटरव्यू दिया था, जिसमें उन्होंने अपनी सर्विस से जुड़ी बातें उन्होंने साझा की थी. एक न्यूज पोर्टल पर यह इंटरव्यू प्रसारित हुआ तो सरकार ने इसे गंभीरता से लिया. जिसके बाद उन्हें निलंबित कर दिया गया.

यह भी पढ़ें- उत्‍तर प्रदेश : IPS हिमांशु कुमार निलंबित, BJP सरकार आते ही तबादलों पर सवाल उठाए थे

निलंबन के पीछे विवादास्पद बयान देने और अनाधिकृत रूप से ड्यूटी से गायब होने की वजह बताई गई है. आरोप है कि इंटरव्यू के दौरान आईपीएस जसवीर सिंह ने ऐसे बयान दिए, जो सरकारी अधिकारियों-कर्मियों के लिए बनाए गए आचरण नियमावली की शर्तों के विपरीत रहा. उत्तर प्रदेश काडर के 1992 बैच के अधिकारी जसवीर सिंह के निलंबन की पुष्टि प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार ने की. उन्होंने बताया कि इंटरव्यू में विवादास्पद बयान देने और चार फरवरी से ड्यूटी से अनाधिकृत रूप से अनुपस्थित रहने के यह कार्रवाई की गई.एडीजी ने 30 जनवरी को इंटरव्यू दिया था.

यह वही आईपीएस अफसर हैं, जिन्होंने महराजगंज का एसपी रहते  वर्तमान मुख्यमंत्री एवं गोरखपुर के तत्कालीन सांसद योगी आदित्यनाथ के खिलाफ निषेधाज्ञा का उल्लंघन करने के एक मामले में रासुका लगाने की कार्रवाई शुरू की थी. प्रतापगढ़ में एसपी रहते हुए विधायक राजा भैया के खिलाफ कार्रवाई करने पर भी सुर्खियों में रहे थे. जसवीर सिंह मूलतः पंजाब के होशियारपुर निवासी हैं. 

पिता रहे हैं सेना में
आईपीएस जसवीर सिंह के पिता सेना में रहे हैं. उनकी गिनती साफ-सुथरी छवि के पुलिस अफसरों में होती है. हालांकि उनकी हर सरकार से पटरी नहीं खाई. चाहे सरकार सपा-बसपा की रही हो या फिर भाजपा की. जब 2002 में उन्होंने महराजगंज में एसपी रहते हुए गोरखपुर के तत्कालीन सांसद योगी आदित्यनाथ पर रासुका के तहत एक्शन लिया था तो दो दिन बाद ही उनका बसपा सरकार में ट्रांसफर हो गया था. सर्विस के दौरान कई नेताओं से जसवीर सिंह  भिड़ चुके हैं. बताया जा रहा है कि इंटरव्यू में जसवीर सिंह ने अपने ट्रांसफर और सरकार की नीतियों को लेकर सवाल उठाए थे, जिसे शासन ने सर्विस कंडक्ट रूल्स के विपरीत मानते हुए कार्रवाई की. 
 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

वीडियो- योगी ने विपक्ष को 'गुंडा' कहा