NDTV Khabar

यूपी के मऊ में सिलेंडर फटने के बाद गिरी दो मंजिला इमारत, 13 की मौत

करीब एक दर्जन लोग इस हादसे में घायल हो गए, जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
यूपी के मऊ में सिलेंडर फटने के बाद गिरी दो मंजिला इमारत, 13 की मौत

राहत एवं बचाव कार्य जारी है.

मऊ:

मऊ जिले के वालिदपुर में दो मंजिला एक मकान में सोमवार की सुबह हुए सिलिंडर विस्फोट में कम से कम 13 लोगों की मौत हो गई और करीब 15 लोग घायल हो गए हैं. मोहम्दाबाद कोतवाली क्षेत्र के नगर पंचायत वालिदपुर मुहल्ले में सुबह उस समय अफरा तफरी का माहौल हो गया जब वहां रहने वाले छोटू विश्वकर्मा के घर पर खाना पकाते समय गैस सिलिंडर में विस्फोट हो गया। 

छोटू विश्वकर्मा के पड़ोसियों कन्हैया विश्वकर्मा और कटवारी धोबी के मकान अगल बगल थे. विस्फोट में तीनों के मकान धराशायी हो गये. बचाव अभियान के दौरान घायलों को निकाला गया.

अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी ने बताया कि अभी तक जिला अधिकारी से प्राप्त जानकारी के अनुसार, विस्फोट में कम से कम 13 लोगों की जान चली गई. उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मऊ जिले में सिलिंडर फटने से लोगों की जान जाने पर गहरा शोक व्यक्त किया है. उन्होंने जिला प्रशासन के अधिकारियों को घायलों के उपचार की समुचित व्यवस्था करने तथा पीड़ितों को हरसंभव मदद एवं राहत प्रदान करने के निर्देश दिए हैं. 

मुख्यमंत्री ने मृतकों के शोक संतप्त परिजनों के प्रति संवेदना भी व्यक्त की है. मऊ के जिला अधिकारी ग्यान प्रकाश त्रिपाठी के अनुसार, खाना पकाते समय हुए इस विस्फोट में करीब 15 लोग घायल हुए हैं जिनका इलाज चल रहा है. विस्फोट इतना भीषण था कि आसपास के मकानों को भी नुकसान पहुंचा है। राहत एवं बचाव कार्य जारी है.


टिप्पणियां

पुलिस अधीक्षक अनुराग आर्य ने बताया कि सुबह लगभग साढ़े सात बजे हादसे की जानकारी मिली। घायलों को इलाज के लिए जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है. अभी सात लोगों के शव निकाले जा चुके हैं.

LPG सिलेंडर का इस्तेमाल करने में इन 8 बातों का जरूर रखें ध्यान

  1. गैस नली के साथ रबर ट्यूब बदलें. सुरक्षा नली अग्निरोधी हैं, इसलिए ज्यादा सुरक्षित है और लेकिन इसका इस्तेमाल 5 साल तक ही करें. खाना पकाते समय सूती कपड़ें पहने.
  2. लीक की जांच करने के लिए जलती माचिस की तीली का प्रयोग न करें. एक आसान तरीका है, कि कुछ सेकंड के लिए सिलेंडर वाल्व पर अंगूठा रखे, रिसाव के मामले में आप रिसने वाली गैस का दबाव महसूस कर सकते हैं. साबुन के घोल को डाट / लीक के लिये केवल जाँच के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है.  
  3. पहले माचिस की तीली जलाए, फिर बर्नर नॉब को खोलें.
  4. गैस लीक होने की स्थिति में रेग्युलेटर और बर्नर नॉब्स को बंद करें. सभी दरवाजे और खिड़कियां खोल दें.  बिजली के स्विच ऑन ना करें. तुरंत डिस्ट्रीब्यूटर से संपर्क करें. 
  5. सिलेंडर से जुड़ी नायलॉन धागे के साथ सुरक्षा कैप को संभाल कर रखें. यदि कोई हो रिसाव हैं तो रोकने के लिए वाल्व पर कैप लगा दें
  6. कभी भी बर्तन को,  जलते बर्नर पर ना छोड़ें. उबाल आने पर लौ बुझ सकती हैं और गैस रिसाव का कारण बन सकता है.  गैस स्टोव हमेशा सिलेंडर से ऊपर प्लेटफॉर्म पर रखें.
  7. रात को सोते समय रेग्यूलेटर जरूर बंद कर दें.  बच्चों को एलपीजी लगी जगह पर खेलने की अनुमति न दें.  एलपीजी. लगाने के बाद से हर दो साल में जांच करवाएं.
  8. सिलेंडर की एक्सपाइरी डेट भी जरूर चेक करें.  


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement