चीन समेत पड़ोसी देशों के साथ भारत के संबंध खराब हुए हैं? केंद्रीय मंत्री ने जवाब दिया- 'नहीं'

पड़ोसी देशों के साथ संबंधों को लेकर पूछे गए सवाल में केंद्रीय मंत्री विदेश राज्यमंत्री वी मुरलीधरन (V Muraleedharan) ने कहा कि भारत के किसी भी देश के साथ संबंध खराब नहीं हुए हैं.

चीन समेत पड़ोसी देशों के साथ भारत के संबंध खराब हुए हैं? केंद्रीय मंत्री ने जवाब दिया- 'नहीं'

LAC पर भारत-चीन के बीच तनातनी बरकरार है. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

पड़ोसी देशों के साथ संबंधों को लेकर पूछे गए सवाल में केंद्रीय मंत्री विदेश राज्यमंत्री वी मुरलीधरन (V Muraleedharan) ने कहा कि भारत के किसी भी देश के साथ संबंध खराब नहीं हुए हैं. दरअसल टीएमसी (Trinamool Congress) सांसद सौगाता रॉय (Sougata Ray) ने यह सवाल किया था. उन्होंने पूछा था, 'क्या पड़ोसी देश जैसे- नेपाल, चीन, बांग्लादेश, श्रीलंका, अफगानिस्तान और म्यांमार से भारत के संबंध बिगड़े हैं.' केंद्रीय मंत्री वी मुरलीधरन ने साफ-साफ जवाब देते हुए कहा, 'नहीं.'

पूर्वी लद्दाख में भारतीय और चीनी सैनिकों में गतिरोध के बीच विदेश राज्य मंत्री वी मुरलीधरन ने अपने जवाब में कहा कि चीन और पांच अन्य देशों के साथ संबंध बिगड़े नहीं हैं. रॉय ने यह भी पूछा कि चीन के उक्त पांच देशों में से किसी के साथ अच्छे संबंध हैं या नहीं और भारत के पड़ोसी देशों के साथ सौहार्दपूर्ण रिश्तों के लिए क्या कदम उठाए गए हैं.

सितंबर की शुरुआत में भारत और चीन ने 'चेतावनी के तौर पर' 100-200 गोलियां दागीं : सूत्र

मुरलीधरन ने इन सवालों का जवाब देते हुए कहा कि सरकार पड़ोसी देशों के साथ भारत के संबंधों को ‘सर्वोच्च प्राथमिकता' देती है. उन्होंने कहा, ‘‘भारत अपने पड़ोसियों का सक्रिय राजनीतिक और आर्थिक साझेदार है और इन देशों के साथ विकास परियोजनाओं समेत अनेक परियोजनाओं में शामिल है.' मंत्री ने कहा कि भारत के उसके पड़ोसी देशों के साथ गहन शैक्षणिक, सांस्कृतिक, कारोबारी और निवेश के संबंध हैं.

असदुद्दीन ओवैसी का रक्षामंत्री के बयान पर हमला, राष्ट्रीय सुरक्षा के नाम पर हो रहा है 'घिनौना मज़ाक'

गौरतलब है कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बीते मंगलवार संसद में बयान देते हुए कहा था कि चीन लद्दाख में लगभग 38,000 वर्ग किमी क्षेत्र पर अवैध कब्जा किए हुए हैं. उन्होंने बताया, 'मई के मध्य में, चीन ने पश्चिमी सेक्टर के हिस्सों में LAC पार करने की कोशिश की थी. इसमें गोगरा, कोंगका ला और पैंगॉन्ग झील का उत्तरी किनारा शामिल थे. किसी को भी देश की सीमाओं की सुरक्षा को लेकर हमारी प्रतिबद्धता पर शक नहीं करना चाहिए. भारत मानता है कि पारस्परिक सम्मान और संवेदनशीलता पड़ोसियों के साथ शांतिपूर्ण संबंधों का आधार है.'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

VIDEO: भारत-चीन विवाद के बीच LAC पर सेना का मजबूत मोर्चा