यूपी में मकर संक्रांति के आसपास शुरू होगा कोरोना का टीकाकरण : योगी आदित्यनाथ

UP के 6 जिलों में शनिवार को टीकाकरण के अभ्यास के तौर पर ड्राई रन ( Vaccination Dry run) भी हुआ. पांच जनवरी को पूरे राज्य में वैक्सीनेशन के इंतजाम का जायजा लेने के लिए ड्राई रन होगा.

यूपी में मकर संक्रांति के आसपास शुरू होगा कोरोना का टीकाकरण : योगी आदित्यनाथ

UP के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गोरखपुर के अधिवक्ता चैंबर्स का किया उद्घाटन (प्रतीकात्मक)

लखनऊ:

उत्तर प्रदेश (UP) के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने कहा है कि राज्य में कोरोना का टीकाकरण (Covid Vaccination) जनवरी मध्य में मकर संक्रांति के आसपास शुरू हो सकता है. यूपी के 6 जिलों में शनिवार को टीकाकरण के अभ्यास के तौर पर ड्राई रन (Dry run) भी हुआ. पांच जनवरी को पूरे राज्य में वैक्सीनेशन के इंतजाम का जायजा लेने के लिए ड्राई रन होगा. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यह जानकारी दी है.

योगी ने कहा कि 10 माह से अमेरिका और ब्रिटेन जैसी दुनिया की बड़ी ताकतें कोरोना से पस्त रही हैं. वहीं देश और प्रदेश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Pm Narendra Modi) के नेतृत्व में इस पर काबू पाया गया है. सीएम योगी ने गोरखपुर कलेक्ट्रेट परिसर में बहुमंजिला अधिवक्ता भवन के शिलान्यास समारोह में यह बात कही. उन्होंने कहा कि सबसे बड़ी आबादी वाले उत्तर प्रदेश में कोरोना नियंत्रण के सबसे अच्छे नतीजों की वजह से डब्लूएचओ से सराहना मिली है. मुख्यमंत्री ने कहा कि दो माह पूर्व कोरोना के 68000 से अधिक एक्टिव पॉजिटिव केस थे जो आज 13000 पर आ गए हैं. उत्तर प्रदेश में कोरोना की रिकवरी दर 97 प्रतिशत और मृत्यु दर एक प्रतिशत के आसपास है. 

कोरोना पर ब्रेक, विकास को दी रफ्तार
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कोरोना काल में 40 लाख से अधिक प्रवासी कामगार उत्तर प्रदेश में वापस आए. इन प्रवासी कामगारों को उनके घर के पास रोजगार दिलाने के साथ सरकार ने कोरोना की रफ्तार पर ब्रेक लगाकर विकास की रफ्तार को थमने नहीं दिया. गोरखपुर से भी आज 8 शहरों के लिए फ्लाइट सेवा है. पूर्वांचल एक्सप्रेस वे और गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस वे के साथ ही सड़कों का जाल बिछाया जा रहा है. 1947 के बाद से 2017 तक प्रदेश में सिर्फ 12 राजकीय मेडिकल कॉलेज थे, तीन साल में हमने 30 नए राजकीय मेडिकल कॉलेज बनाने शुरू किए. गोरखपुर और रायबरेली में एम्स के साथ ही वाराणसी में एम्स जैसा संस्थान बनाया जा रहा है. मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री द्वारा शहरी आवास योजना के तहत किए गए शिलान्यास का जिक्र करते हुए कहा कि शहरी आवास योजना में 2016 में यूपी का देश मे 26वां स्थान था और अब यह प्रदेश प्रथम पायदान पर है. 

प्रदेश की हर तहसील में बनेंगे अधिवक्ता चैंबर्स
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गोरखपुर कलेक्ट्रेट और सदर तहसील के लिए 9 करोड़ 8 लाख 48 हजार रुपये की लागत से बनने वाले अधिवक्ता चैंबर्स का बटन दबाकर शिलान्यास किया. पूरे प्रदेश की सभी तहसीलों में सुविधायुक्त अधिवक्ता चैंबर्स बनाए जाएंगे. इसकी शुरुआत गोरखपुर से हो रही है. सीएम योगी ने कहा कि ये चैम्बर सिर्फ अधिवक्ताओं के लिए नहीं बन रहे बल्कि ये ये आम आदमी के लिए न्याय पाने का मंच बनेंगे. यह वास्तव में सबसे पीड़ित व्यक्ति को न्याय दिलाने के कार्य का शुभारंभ है. 


एक जगह होंगे सभी विभागीय कार्यालय
सीएम योगी ने बताया कि प्रदेश सरकार ने सभी मंडलीय विभागीय कार्यालयों को एक एकीकृत भवन में लाने का निर्णय लिया है. गोरखपुर और वाराणसी कमिश्नरी से इसकी शुरुआत की गई है. यहां जनता और अधिवक्ताओं को एक ही जगह सारी सुविधा मिल जाएगी. यहां ऐसी कैंटीन की भी व्यवस्था की जाएगी. जहां गांव से आए लोगों को सस्ते में भोजन मिल जाएगा. मंडलीय कार्यालयों की ही भांति जिला स्तर के कार्यालयों को भी एकीकृत भवन में लाया जाएगा.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


भय का विनाश कर योगी ने किया विकास: रविकिशन
शिलान्यास समारोह में सांसद रविकिशन शुक्ल ने कहा कि गोरखपुर हिंदुस्तान के पटल पर चमकता दिखाई दे रहा है तो उसके पीछे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का संघर्ष है. योगी जी ने यहां से माफिया और भय का विनाश कर विकास किया है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का स्वागत करते हुए जिला अधिवक्ता एसोसिएशन के अध्यक्ष अमिताभ त्रिपाठी ने कहा कि अधिवक्ता समाज के प्रति मुख्यमंत्री सदैव संवेदनशील रहते हैं. इसका प्रमाण ही कि मुख्यमंत्री जी ने एसोसिएशन के लोगों को खुद बुलाकर इस बहुमंजिला अधिवक्ता भवन की स्वीकृति की सौगात दी है.