अर्थव्यवस्था, जीएसटी के बारे में चर्चा है लोकतंत्र के लिए अच्छी : उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू

देश, उसकी अर्थव्यवस्था और जीएसटी , उनके प्रभावों आदि के बारे में भी चर्चा चल रही है. यह चर्चा होने दीजिए. यह हमेशा लोकतंत्र के लिए अच्छा है.

अर्थव्यवस्था, जीएसटी के बारे में चर्चा है लोकतंत्र के लिए अच्छी : उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडु.

नई दिल्ली:

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने कहा कि अर्थव्यवस्था और जीएसटी पर चर्चा होती रहनी चाहिए क्योंकि ऐसी बहस एवं विचार विमर्श लोकतंत्र के लिए सदैव अच्छे हैं. उपराष्ट्रपति कहा कि दीर्घावधि में जीएसटी सभी के लिए लाभकारी होगा. नायडू ने रेलवे एवं मेट्रो परियोजनाओं में प्रौद्योगिकी उन्नयन पर आयोजित अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में अपने संबोधन में कहा , ‘‘देश, उसकी अर्थव्यवस्था और जीएसटी , उनके प्रभावों आदि के बारे में भी चर्चा चल रही है. यह चर्चा होने दीजिए. यह हमेशा लोकतंत्र के लिए अच्छा है. ’’ 

यह भी पढ़ें : देवी सरस्वती शिक्षा, दुर्गा रक्षा और देवी लक्ष्मी वित्त मंत्री : वेंकैया नायडू

दिल्ली में हो रही जीएसटी परिषद की बैठक के दिन ही उपराष्ट्रपति ने कहा कि लोगों को समझना चाहिए कि किसी भी बदलाव या किसी भी सुधार के रास्ते में शुरुआत में कुछ रुकावटें, कुछ मुश्किलें आती ही हैं. उन्होंने कहा, ‘‘आखिरकार, प्रधानमंत्री के सुधार, कार्य निष्पादन एवं बदलाव के मंत्र का कुछ मतलब है.’’ उन्होंने कहा कि जीएसटी भारत का अबतक का सबसे बड़ा क्रांतिकारी कर सुधार है.

Newsbeep

यह भी पढ़ें : दीर्घकालिक लाभ के लिए झेलनी होगी अल्पकालिक परेशानी : वेंकैया नायडू

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


खबरों का हवाला देते हुए नायडू ने कहा कि विश्व बैंक एवं बड़ी बहुराष्ट्रीय कंपनियों ने भी जीएसटी पर मुहर लगा दी है और भारतीयों की भावी पीढ़ियां इस कर सुधार से खुश होंगी.
VIDEO: नायडू पर पीएम मोदी का बयान

जीएसटी पर राजनीतिक बहस भी होने देना चाहिए तथा सरकार को सकारात्मक एवं अहम बिंदुओं का संज्ञान लेना चाहिए तथा उस हिसाब से जरुरी सुधार करना चाहिए.(भाषा)