Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

CAA और NRC पर उप राष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने कहा, ''इस पर बात सकारात्मक बात करने की है जरूरत''

उप -राष्ट्रपति ने कहा, ''प्रदर्शनों के दौरान हिंसा की गुंजाइश नहीं होनी चाहिए.'' उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी ने सर्वाधिक विकट चुनौतियों में भी हिंसा के सभी प्रकारों से परहेज किया था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
CAA और NRC पर उप राष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने कहा, ''इस पर बात सकारात्मक बात करने की है जरूरत''

उप राष्ट्रपति ने कहा, अगर हम CAA और NRC के बारे में चर्चा करेंगे तो हमारा तंत्र मजबूत होगा.

खास बातें

  1. सीएए और एनआरसी को लेकर उप राष्ट्रपति ने दिया बयान
  2. कहा- इस पर सकारात्मक चर्चा करने की है जरूरत
  3. कहा- इससे हमारा तंत्र मजबूत होगा
हैदराबाद:

उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू (Venkaiah Naidu) ने रविवार को हैदराबाद में कहा कि संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) जैसे मुद्दों पर विचारपूर्ण और सकारात्मक बहस जरूरी है और प्रदर्शन के दौरान हिंसा के लिए कोई जगह नहीं होनी चाहिए. नायडू ने कहा, ''सीएए हो या एनपीआर, इन पर देश के लोगों को संवैधानिक संस्थाओं, सभाओं और मीडिया में विचारपूर्ण, सार्थक व सकारात्मक चर्चा में हिस्सा लेना चाहिए कि यह कब आया, क्यों आया, इसका क्या प्रभाव होगा और क्या इसमें किसी बदलाव की जरूरत है.''

यह भी पढ़ें: उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू बोले- हमारा पड़ोसी देश भारत में जानबूझकर पैदा करना चाहता है समस्या

टिप्पणियां

उन्होंने कहा, ''अगर हम इस बारे में चर्चा करेंगे तो हमारा तंत्र मजबूत होगा और जनता की जानकारी बढ़ेगी.'' अविभाजित आंध्र प्रदेश के दिवंगत मुख्यमंत्री एम चन्ना रेड्डी के जयंती समारोहों का उद्घाटन करते हुए उप राष्ट्रपति ने कहा कि केंद्र को भी असंतोष प्रकट कर रहे लोगों की आशंकाओं को दूर करना चाहिए.


उन्होंने कहा, ''लोकतंत्र में सहमति, असहमति बुनियादी सिद्धांत है. हम किसी चीज को पसंद करते हैं या नहीं, दोनों पक्षों को सुना जाना चाहिए और उस हिसाब से कार्रवाई होनी चाहिए.''प्रदर्शनों के दौरान हिंसा की गुंजाइश नहीं होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी ने सर्वाधिक विकट चुनौतियों में भी हिंसा के सभी प्रकारों से परहेज किया था. उप-राष्ट्रपति ने संसद और विधानसभाओं की गरिमा बनाये रखने व उनमें चर्चाओं का स्तर बढ़ाने पर जोर दिया. उन्होंने कहा कि नीतियों की आलोचना करते समय निजी हमले नहीं किए जाने चाहिए.



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें. India News की ज्यादा जानकारी के लिए Hindi News App डाउनलोड करें और हमें Google समाचार पर फॉलो करें


 Share
(यह भी पढ़ें)... ट्रेनों में तत्‍काल रिजर्वेशन कराने वालों के लिए खुशखबरी! रेलवे ने उठाया यह बड़ा कदम

Advertisement