उपराष्ट्रपति चुनाव: विपक्षी दलों के 24 सांसदों ने अपनी पार्टी से की 'दगाबाजी'

जदयू के 12 सांसदों ने राष्ट्रपति चुनाव में राजग का समर्थन करने के बाद उप राष्ट्रपति चुनाव में विपक्ष का साथ दिया.

उपराष्ट्रपति चुनाव: विपक्षी दलों के 24 सांसदों ने अपनी पार्टी से की 'दगाबाजी'

उप राष्ट्रपति चुनाव: क्रॉस-वोटिंग, अमान्य वोटों से हुआ विपक्ष का नुकसान.

खास बातें

  • एनडीए उम्मीदवार वेंकैया नायडू नए उपराष्‍ट्रपति चुने गए हैं
  • विपक्ष के उम्मीदवर गोपालकृष्‍ण गांधी को 272 वोटों से हराया
  • वेंकैया नायडू को 516 वोट मिले जबकि गांधी को 244 मत
नई दिल्ली:

भाजपा सूत्रों ने शनिवार को कहा कि विपक्षी पार्टियों के करीब 24 सांसदों ने उप राष्ट्रपति चुनाव में अपने नेतृत्व का निर्देश नहीं माना और राजग उम्मीदवार एम वेंकैया नायडू के पक्ष में मतदान किया. नायडू को 516 वोट मिले, हालांकि पहले करीब 495 सदस्यों का समर्थन मिलने की उम्मीद थी. पूर्व केंद्रीय मंत्री नायडू को 68 फीसदी वोट मिले, जबकि विपक्ष के उम्मीदवार गोपालकृष्ण गांधी को 32 फीसदी वोट हासिल हुए. विपक्ष के लिए चिंता का विषय यह है कि उसके उम्मीदवार गांधी को राष्ट्रपति पद की उसकी उम्मीदवार मीरा कुमार को मिले वोटों से 19 वोट अधिक है, हालांकि 40 और सांसदों ने उन्हें अपना समर्थन देने की बात की थी.

ये भी पढ़ें:  जीत के मामले में नायडू ने तोड़ा 30 साल पुराना रिकॉर्ड, जानिए रोचक आंकड़े

मीरा कुमार को 225 वोट मिले थे, जबकि गांधी को 244 वोट हासिल हुए. बीजद के 28 और जदयू के 12 सांसदों ने राष्ट्रपति चुनाव में राजग का समर्थन करने के बाद उप राष्ट्रपति चुनाव में विपक्ष का साथ दिया.

ये भी पढ़ें: वेंकैया नायडू चुने गए देश के नए उपराष्ट्रपति, गोपालकृष्ण गांधी को हराया 

मतगणना के बाद राजग इस नतीजे पर पहुंचा कि जो 40 वोट विपक्ष के उम्मीदवार को जाने वाले थे उनमें से सिर्फ छह गए, इसका मतलब यह कि उसके पक्ष में बड़े पैमाने पर क्रॉस-वोटिंग हुई है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

अधिकारियों के अनुसार 11 वोटों को अमान्य करार दिया गया. कुल 14 सदस्यों ने अलग अलग कारणों से मतदान में हिस्सा नहीं लिया जिनमें से तृणमूल कांग्रेस के चार, भाजपा, कांग्रेस एवं आईयूएमएल के दो तथा राकांपा एवं पीएमके एक-एक सदस्य शामिल हैं.

इनुपट: भाषा