संसदीय समितियों की वर्चुअल बैठक की मांग खारिज होने के आसार, संवेदनशील सूचनाएं लीक होने का खतरा : सूत्र 

आज लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला और राज्य सभा के सभापति एम वेंकैय्या नायडू की इसी मुद्दे पर होगी तीसरी बैठक दोनों सदनों के महासचिवों की एक कमेटी बनाई गई थी.

नई दिल्ली:

देश में कोरोनावायरस (Coronavirus) महामारी का कहर तेजी से फैलता जा रहा है. अब तक 1.25 लाख से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं. इस बीच, संसदीय समितियों की वर्चुअल बैठक की विपक्ष की मांग नामंज़ूर होने के आसार है. सूत्रों के मुताबिक, संसदीय समितियों की वर्चुअल बैठक के लिए सुरक्षित प्लेटफ़ॉर्म की तलाश में निराशा हाथ लगी है. संसदीय समितियों की बैठक में गोपनीयता बनाए रखना अहम है. ऐसे में असुरक्षित प्लेटफ़ॉर्म से संवेदनशील सूचनाएं लीक होने का ख़तरा है. 

सूत्रों के अनुसार, अब रेल और हवाई सेवाएं बहाल हो रही हैं, ऐसे में संसदीय समितियों के सदस्यों को आवागमन में दिक्कत नहीं आएगी. एक जून से बैठकें शुरू की जा सकती हैं. कई विपक्षी सांसदों और संसदीय समितियों के अध्यक्षों ने वर्चुअल मीटिंग की मांग की थी. मांग करने वालों में भर्तहरि महताब, शशि थरूर, जयराम रमेश, अधीर रंजन चौधरी समेत अन्य लोग शामिल थे. 

आज लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला और राज्य सभा के सभापति एम वेंकैय्या नायडू की इसी मुद्दे पर तीसरी बैठक होगी. दोनों सदनों के महासचिवों की एक कमेटी बनाई गई थी. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

दुनियाभर के देशों के साथ-साथ भारत में भी कोरोनावायरस (COVID-19) का कहर तेजी से बढ़ता जा रहा है. रिपोर्ट्स के अनुसार, 180 से ज्यादा देशों में फैल चुका यह वायरस अब तक सवा तीन लाख से ज्यादा जानें ले चुका है. दुनियाभर में 51 लाख से ज्यादा लोग इससे संक्रमित हो चुके हैं. यह आंकड़ा हर रोज बढ़ता जा रहा है. स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा शनिवार सुबह जारी आंकड़ों के अनुसार, भारत में इस वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 1,25,101 हो गई है. पिछले 24 घंटों में कोरोना के 6,654 नए मामले सामने आए हैं और 137 लोगों की मौत हुई है.

वीडियो: देश में लॉकडाउन लागू नहीं किया गया होता तो 20 लाख अधिक कोरोना के मामले होते : सरकार