NDTV Khabar

आज सुबह 11 बजे शुरू होगी राष्ट्रपति चुनाव के वोटों की गिनती, रामनाथ कोविंद की जीत तय...

लोकसभा के सेक्रेटरी जनरल अनूप मिश्रा मतगणना प्रक्रिया के लिए कर्ताधर्ता (पीठासीन अधिकारी ) हैं.

360 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
आज सुबह 11 बजे शुरू होगी राष्ट्रपति चुनाव के वोटों की गिनती, रामनाथ कोविंद की जीत तय...

खास बातें

  1. सेक्रेटरी जनरल मतगणना प्रक्रिया के लिए कर्ताधर्ता पीठासीन अधिकारी हैं.
  2. पहले उन मतपेटियों को खोला जाएगा, जिनमें संसद भवन में वोट पड़े थे.
  3. औपचारिक रूप से घोषणा के लिए गुरुवार शाम करीब 5 बजे तक इंतज़ार करना होगा.
नई दिल्‍ली: राष्ट्रपति पद के चुनावी नतीजे आने से पहले आंकड़ों के हिसाब से एनडीए के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद का चुना जाना तय माना जा रहा है... लेकिन औपचारिक रूप से घोषणा के लिए गुरुवार शाम करीब 5 बजे तक इंतज़ार करना होगा. गुरुवार को राष्ट्रपति वोटों की गिनती का काम सुबह 11 बजे संसद भवन में शुरू होगा. लोकसभा के सेक्रेटरी जनरल अनूप मिश्रा इस प्रक्रिया के लिए कर्ताधर्ता (पीठासीन अधिकारी ) हैं.

ये भी पढ़ें... 
चाचा शिवपाल ने 'कह कर' दिया कोविंद को वोट, बोले - 'पार्टी ने मेरी राय नहीं ली तो मैं क्यों मानूं'

17 जुलाई को वोटिंग संसद और राज्यों की विधानसभाओं में हुई थी और अब सारे देश से मतपेटियां संसद भवन परिसर में पहुंच चुकी हैं. गुरुवार को वोटों की गिनती की शुरुआत होगी तो पहले उन मतपेटियों को खोला जाएगा, जिनमें संसद भवन में वोट पड़े थे. उसके बाद राज्यों से आई मतपेटियों के वोट गिने जाएंगे.
  • संसद भवन में वोटों की गिनती के लिए 4 टेबल हैं, यानी 4 जगह पर एक साथ वोट गिने जाएंगे.
  • राष्ट्रपति के चुनाव के लिए कुल साढ़े दस लाख वोट हैं और 8 राउंड की मतगणना होगी.
  • राष्ट्रपति चुने जाने के लिए कुल वोटों के आधे से एक वोट अधिक हासिल करना ज़रूरी है.
  • इस चुनाव में हर वोटर (सांसद और विधायक) को एक से अधिक पसंद बतानी होती हैं. यानी पहली पसंद, दूसरी पसंद इत्यादि.
  • मतगणना के वक्त पहले वोटरों के पहली पसंद को जोड़ा जाता है. फिर अगले राउंड की गिनती शुरू होती है, जिसमें वोटरों की
  • दूसरी, तीसरी पसंद को गिना जाता है.

ये भी पढ़ें...
राष्ट्रपति चुनाव : क्रॉस वोटिंग से विपक्ष को झटका, पढ़ें मतदान से जुड़ी 10 खास बातें



राष्ट्रपति के चुनाव में कोई व्हिप जारी नहीं होता है और इसलिए सांसद और विधायक किसी भी उम्मीदवार को वोट दे सकते हैं. सासंदों और विधायकों की ताकत को देखते हुए एनडीए के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को सात लाख से अधिक वोट मिलेंगे और उन्हें जीतने में कोई दिक्कत नहीं होनी चाहिए.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement