NDTV Khabar

देश के कई इलाकों में पानी का 'संकट', कहीं पानी पर पहरा तो कई तालों में है बंद

देश के कई इलाक़ों में लोग पानी के संकट से जूझ रहे हैं. पानी की किल्लत के चलते शिमला में आज से 5 दिनों तक सभी सरकारी स्कूल बंद हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
देश के कई इलाकों में पानी का 'संकट', कहीं पानी पर पहरा तो कई तालों में है बंद

शिमला, अजमेर और सोनभद्र समेत देश के कई इलाकों में पानी का संकट

खास बातें

  1. शिमला में आज से 5 दिनों तक सभी सरकारी स्कूल बंद
  2. अजमेर में पारा लगातार 40 डिग्री से ऊपर चल रहा है
  3. उत्तर प्रदेश में भी कई ज़िलों में ऐसे गांव हैं जहां हालात बदतर हैं
नई दिल्ली: देश के कई इलाक़ों में लोग पानी के संकट से जूझ रहे हैं. पानी की किल्लत के चलते शिमला में आज से 5 दिनों तक सभी सरकारी स्कूल बंद हैं. पिछले कुछ दिनों से शहर अब तक के सबसे बड़े पानी के संकट से जूझ रहा है. कई होटल मालिकों ने बुकिंग रद्द कर दी है. ये संकट कई सालों तक सरकार और प्रशासन की अनदेखी का नतीजा है.   

मुंबई : प्री मॉनसून बारिश में 13 लोगों की मौत

वहीं राजस्थान के अजमेर में पारा लगातार 40 डिग्री से ऊपर चल रहा है. लोग पानी की टंकियों पर ताले लगाकर रखने लगे हैं. पानी के टैंकर आने पर लड़ाई का माहौल बन जाता है. राजस्थान के अजमेर जहां लोगों ने पानी के ड्रमों में ताला लगा दिया गया है ताकि कोई पानी न चुरा ले जाए. अजमेर के वैशाली नगर के लोगों का कहना है कि 4 दिनों में एक बार टैंकर से पानी आता है.

पानी के संकट से घिरे शिमला में विरोध प्रदर्शन, सरकारी स्कूल बंद

उत्तर प्रदेश में भी कई ज़िलों में ऐसे गांव हैं जहां हालात बदतर हैं. खासकर थर्मल पॉवर हब सोनभद्र में, जहां लोग एक एक बूंद को तरस रहे हैं. यहां तेज़ गर्मी में गाउंड वॉटर काफी नीचे हो गया है. बढ़ती गर्मी के साथ यूपी के सोनभद्र इलाके में पानी की मुश्किल गहराती जा रही है. यहां के दूरदराज के कई ऐसे गांव हैं जहां हैंडपंप तक नहीं है और लोगों को पीने के पानी के लिए मीलों पैदल चलना होता है. खास बात ये है कि पानी के लिए जारी इस संघर्ष में सबसे ज्यादा बोझ घर की महिलाओं पर होता है.

शिमला नगर निगम ने बिल न जमा करने वाले 40 होटलों के कनेक्शन काटने के दिये आदेश

राजधानी लखनऊ से करीब 450 किमी दूर पूर्वी यूपी के सोनभद्र जिले के गांव सोनमगर की महिलाओं का पानी के लिए ये संघर्ष सूरज की पहली किरण के साथ ही शुरू हो जाता है. करीब 1200 लोगों के इस गांव में एक भी हैंडपंप नहीं है और ना पानी की पाइप ही यहां तक आता है. यूपी सरकार ने सोनभद्र को सूखाग्रस्त घोषित कर दिया है.  इस गर्मी में पारा 40 डिग्री के पार है साथ ही पथरीला इलाके होने की वजह से सोननगर इलाके के तमाम जलस्रोत सूख चुके हैं. ऐसे में पानी के लिए कम से कम तीन से चार किमी चलना होता है, जहां छोटे नाले या ऐसे गड्ढे मौजूद हैं.

ठंडा पानी पीने के नुकसान, सर्दी-खांसी ही नहीं इन 5 परेशानियों की वजह है Cold Water

देश की राजधानी का भी हाल बुरा है, संजय कैंप, संगम बिहार, तुग़लकाबाद में पानी की दिक़्क़त है. टैंकर से आए पानी को भरने के लिए होड़ लगती है कि कौन कितना पानी ले पाता है. दिल्ली और हरियाणा के बीच पानी के बंटवारे की लड़ाई का असर भी जनता पर पड़ रहा है. मार्च में वज़ीरपुर इंडस्ट्रियल एरिया में टैंकर से पानी लेने को लेकर लड़ाई हुई झगड़े को रोकने गए लाल बहादुर को कुछ लोगों ने बुरी तरह पीटा जिससे उनकी मौत हो गई.

टिप्पणियां
VIDEO: सूखता जल, कैसे निकले हल?


 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
 Share
(यह भी पढ़ें)... UPTET LIVE: Answer key कुछ ही देर में हो सकती है जारी

Advertisement