Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

BSF के डीजी बोले, स्नाइपर हमलों से बचने के लिए तैयार कर रहे हैं बुलेटप्रूफ बंकर, देंगे मुंहतोड़ जवाब

बीएसएफ के डीजी ने कहा कि सीमा पार होने वाले स्नाइपर हमले से बचाव के लिए ऐसे देसी बुलेटप्रूफ बंकर तैयार किये जा रहे है जिससे न केवल जवान इन हमलों से अपना बचाव कर पायेंगे.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
BSF के डीजी बोले, स्नाइपर हमलों से बचने के लिए तैयार कर रहे हैं बुलेटप्रूफ बंकर, देंगे मुंहतोड़ जवाब

बीएसएफ के डीजी ने कहा कि बंकर तैयार करने में डीआरडीओ समेत कई एजेंसियों की मदद ली गई है. 

नई दिल्ली :

राजस्थान के जैसलमेर इंटरनेशनल बॉर्डर पर एक खास समुदाय की तादाद बढ़ने को लेकर बीएसएफ ने अपनी रिपोर्ट गृह मंत्रालय को भेजी है. बीएसएफ के डीजी रजनीकांत मिश्रा ने साफ किया कि यह रिपोर्ट किसी धर्म या समुदाय को लेकर तैयार नही की गई है, लेकिन जहां पर वे तैनात रहते हैं वहां की हर हरकत पर नजर रखते हैं. जहां कहीं भी कुछ बदलाव होता है तो  उसकी जानकारी सरकार को देते है. डीजी ने ये भी कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच करतारपुर कॉरिडोर के खुलने से सुरक्षा के लिए कोई खतरा नहीं है, क्योंकि बीएसएफ पहले से ही वाघा और अटारी इंटरनेशनल बार्डर पर लोगों की आवाजाही पर नजर रखती है. अपने सलाना प्रेस कांफ्रेंस में बीएसएफ के डीजी ने कहा कि सीमा पार होने वाले स्नाइपर हमले से बचाव के लिए ऐसे देसी बुलेटप्रूफ बंकर तैयार किये जा रहे है जिससे न केवल जवान इन हमलों से अपना बचाव कर पायेंगे, बल्कि ऐसे हमलों का मुंहतोड़ जवाब भी देंगे. इसके लिए डीआरडीओ समेत कई एजेंसियों की मदद ली गई है. 

सेना पर हमले स्नाइपर की ओर से किए गए या नहीं, हम कर रहे हैं जांच : बिपिन रावत


डीजी ने कहा कि सीमा पार से पाक रेंजर्स की हर हरकत पर  कांप्रिहेंसिव इंटिग्रेटेड बार्डर मैनेजमेंट सिस्टम से नजर रखी जा रही है. डीजी ने कहा कि जब जम्मू बॉर्डर पर हेड कांस्टेबल नरेन्द्र सिंह पाक बैट कार्रवाई में शहीद हुए थे तो उसके बाद सीमा पार उचित जवाबी कार्रवाई की गई. हालांकि इससे पाक को क्या नुकसान हुआ इसका खुलासा नहीं किया जा सकता है. इतना तय है कि उनको अच्छा-खासा नुकसान पहुंचा था. ऐसी घटनाओं के बाद फोर्स ने पिछले पांच सालों से इस बार्डर हुए ऐसी हर घटना का वैज्ञानिक विश्लेषण अध्ययन शुरु किया है, ताकि फिर किसी भी पाक के नपाक हरकत से निपटा जा सकें. बांग्लादेश बॉर्डर पर रोंहिग्या मुसलमानों की अवैध घुसपैठ अब बड़ा मुद्दा नही है. रजनीकांत मिश्रा के मुताबिक उन्हें इंटरसेप्ट्स से मिली जानकारी के अनुसार इस साल 54 रोंहिग्या मुसलमान सीमा पार आए और यहां से 176 वापस चले गए. बीएसएफ डीजी ने साफ किया कि सीमा पर किसी अप्रिय हालात से निपटने के लिए किसी निर्देश की जरुरत है. हालात के मद्धेनजर हम कोई भी फैसला लेने के लिए स्वतंत्र हैं. 

टिप्पणियां

जम्मू-कश्मीर में बढ़े स्नाइपर हमले, बीते 7 दिनों में 3 जवान शहीद, VIPs को सबसे ज्यादा खतरा  

VIDEO: जम्मू कश्मीर : स्नाइपर हमले कर रहे हैं आतंकी?



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... शाहीन बाग फिर पहुंचे मध्यस्थ, कहा- तकलीफें दूर करने के लिए मिलकर रास्ता निकालें

Advertisement