NDTV Khabar

'एक देश, एक चुनाव' पर अखिलेश ने BJP को दी चुनौती, 2019 के साथ ही सारे चुनाव करा लेंं

'एक देश, एक चुनाव' को लेकर सरकारी कमेटी की रिपोर्ट आने के बाद अखिलेश यादव ने बीजेपी को चुनौती दी है कि वो 2019 के साथ ही सारे चुनाव करा ले,

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
'एक देश, एक चुनाव' पर अखिलेश ने BJP को दी चुनौती, 2019 के साथ ही सारे चुनाव करा लेंं

समाजवादी पार्टी के अध्‍यक्ष अखिलेश यादव

खास बातें

  1. समाजवादी पार्टी इसके लिए तैयार है
  2. आप 2019 में ही चुनाव करवा दो हम समाजवादी लोग पूरी तरह से तैयार हैं
  3. इससे अच्‍छा मौका कहां मिलेगा देश का सबसे प्रदेश है
नई दिल्ली:

'एक देश, एक चुनाव' को लेकर सरकारी कमेटी की रिपोर्ट आने के बाद अखिलेश यादव ने बीजेपी को चुनौती दी है कि वो 2019 के साथ ही सारे चुनाव करा ले, समाजवादी पार्टी इसके लिए तैयार है. उन्‍होंने कहा कि आप 2019 में ही चुनाव करवा दो हम समाजवादी लोग पूरी तरह से तैयार हैं. इससे अच्‍छा मौका कहां मिलेगा देश का सबसे बड़ा प्रदेश है. संदेश तो यहीं से जाएगा. इससे पहले 'एक देश एक चुनाव' तय करने को बनी सरकारी कमेटी ने अपनी रिपोर्ट सरकार को सौंप दी है. कमेटी ने यूपी में अगला विधानसभा चुनाव 2022 के बजाय 2024 लोकसभा चुनाव के साथ कराने की राय दी है. इस तरह योगी सरकार का कार्यकाल सात साल का हो जाएगा. कमेटी चाहती है कि दिसंबर 2021 के पहले होने वाले सारे चुनाव 2019 में लोक सभा चुनाव के साथ करा लिया जाए.

कर्नाटक में मंत्रिमंडल विस्तार आज, यूपी से बाहर पहली बार BSP को मंत्रिमंडल में मिलेेेेगी जगह, 10 बातें


विधि आयोग के सुझाव की तर्ज पर उत्तर प्रदेश के एक वरिष्ठ मंत्री की अध्यक्षता में गठित उच्च स्तरीय समिति ने अपनी रिपोर्ट में एक साथ चुनाव कराने की सिफारिश की है. समिति ने मंगलवार को अपनी रिपोर्ट मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सौंपी. रिपोर्ट में कहा गया है कि ऐसा प्रस्ताव है कि उदाहरण के लिये पहले लोकसभा और प्रदेशों के चुनाव एक साथ कराये जाएं. बाद में इसमें स्थानीय निकाय चुनावों को भी शामिल कर लिया जाए. यह रिपोर्ट 23 पन्नों की है. इसे सौंपने वाली सात सदस्यीय समिति की अध्यक्षता कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने की.

Birthday Special: वो 'सबक' जिसने बना दिया योगी आदित्यनाथ को 'फायरब्रांड' नेता

कमेटी का गठन मुख्यमंत्री ने किया था. 'एक देश, एक चुनाव और समान मतदाता पंजीकरण' शीर्षक वाली विस्तृत रिपोर्ट मुख्यमंत्री को सौंपने के बाद सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा, 'उत्तर-प्रदेश पहला राज्य है जो पंचायत स्तर तक के सभी चुनावों को एक साथ करवाने पर राष्ट्रीय स्तर पर विमर्श कराने के प्रधानमंत्री के विचार को आगे बढ़ा रहा है. हमने इसका अध्ययन किया और पाया कि यह संभव हो सकता है.' रिपोर्ट सौंपे जाने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा, 'हम इस रिपोर्ट को केंद्र को भेज रहे हैं और यह जनता के व्यापक हित में काफी अच्छा कदम होगा.' 

2019 के लोकसभा चुनाव से पहले सहयोगी बन रहे हैं बीजेपी के लिये सिरदर्द

टिप्पणियां

उन्होंने कहा ​कि समिति की रिपोर्ट में सुझाव है कि चुनाव प्रणाली को साफ सुथरा रखने के लिये आधार नंबर को मतदाताओं के नाम के साथ लिंक कर देना चाहिये इससे मतदाता के नाम का दोहराव नहीं हो सकेगा. प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री और राज्य सरकार के प्रवक्ता सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री के ‘एक देश - एक चुनाव’ के सुझाव के समर्थन में उत्तर प्रदेश लोकसभा और विधानसभाओं के चुनाव एक साथ कराने का पक्षधर है.

VIDEO: वन टू का फोर या फोर टू का वन ?
 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement