NDTV Khabar

एनसीपी के साथ जाते, तो शिवसेना से बात क्यों करते : एनडीटीवी इंडिया से देवेंद्र फडणवीस

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मुंबई:

महाराष्ट्र में बीजेपी की सरकार बन गई है, लेकिन शिवसेना से अब तक गठबंधन नहीं हो पाया है। हालांकि दोनों के रिश्ते में नरमी आती दिख रही है। इन सभी मुद्दों के साथ  आगे की रणनीति पर एनडीटीवी इंडिया के संवाददाता प्रसाद काथे ने बात की महाराष्ट्र के नए मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से।

फडणवीस ने कहा, हम अलग राजनीति कर रहे हैं, इसलिए महाराष्ट्र हमारे साथ है। यह पूछे जाने पर कि क्या उनकी सरकार स्थिर है, फडणवीस ने कहा, हमारी सरकार स्थिर है...गोवा और कर्नाटक में भी बीजेपी की ऐसी ही अल्पमत की सरकारें बनी, जो शुरुआत में अस्थिर रही। अगर हमारी सरकार गिरी, तो लोग दोबारा हमें ही चुनेंगे।

फडणवीस से जब पूछा गया कि वह किसके समर्थन से काम करेंगे, फडणवीस ने कहा कि शिवसेना से बात चल रही है, पूरी हो जाएगी तो हम साथ काम करेंगे। जब उनसे सवाल किया गया कि एनसीपी भी हाथ बढ़ा रही है, तो फडणवीस ने साफ किया कि एनसीपी उनकी सरकार का हिस्सा नहीं होगी। उन्होंने यूनीलैटरल समर्थन दिया है, हमने न स्वीकारा है न नकारा है।

यह पूछे जाने पर कि एनसीपी का प्रस्ताव बीजेपी ने तुरंत अस्वीकार क्यों नहीं किया, महाराष्ट्र के नए मुख्यमंत्री ने कहा कि एनसीपी से कोई गठबंधन नहीं होगा, कोई खुद समर्थन देता है और उससे हमारी सरकार के नंबर आगे बढ़ते हैं, तो हम क्यों कहें कि हमें नहीं चाहिए? हमें उनके साथ सरकार चलानी होती, तो हम शिवसेना से बातचीत क्यों करते? हमें तो शिवसेना के साथ सरकार चलानी है। हमारी बातचीत जारी है।

फडणवीस से पूछा गया कि क्या उनका हाथ कभी एनसीपी के खिलाफ कार्रवाई करते रुक जाएगा? इसके जवाब में फडणवीस ने कहा कि जो भी गलती करेगा या जिसने गलती की है, ऐसे किसी को भी हम नहीं बख्शेंगे, चाहे वह किसी भी दल का हो।

नए मुख्यमंत्री से पूछा गया कि कई दागी बीजेपी से जुड़े हैं, चुनकर आए हैं। क्या वे मंत्री बनेंगे? इस पर देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि जिस पर कार्रवाई चल रही है, वह चलती रहेगी। आपने देखा है कि हमने किसे मंत्री बनाया है। आगे भी आप देखेंगे कि हम किसे मंत्री बनाते हैं।

फडणवीस से सवाल किया गया कि दिल्ली में बीजेपी के पास आंकड़ा नहीं था, तो वहां आपने सरकार नहीं बनाई। महाराष्ट्र में भी आपके पास आंकड़ा नहीं है, फिर यहां सरकार क्यों बनाई? इस पर फडणवीस ने कहा कि दिल्ली की अपनी राजनीति है, महाराष्ट्र की अलग राजनीति है। देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि बतौर मुख्यमंत्री वह कभी बेईमानी, भ्रष्टाचार या राज्य का अहित नहीं करेंगे। विदर्भ, प. महाराष्ट्र और मुंबई से भरपूर समर्थन मिला। आप उनके लिए क्या करेंगे, जब फडणवीस से यह प्रश्न किया गया, तो उन्होंने कहा कि कहीं समर्थन मिला तो देंगे या कहीं नहीं देंगे, यह ठीक नहीं। हम समान विकास चाहते हैं। हम सभी इलाकों पर ध्यान देंगे।

इस सवाल पर कि आज विकास का मतलब गुजरात मॉडल कहा जाता है। क्या यह महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री को दर्द नहीं देता? क्या महाराष्ट्र का अपना विकास का मॉडल होगा? महाराष्ट्र के नए मुख्यमंत्री ने कहा, हमारा अपना विकास का मॉडल होगा। लेकिन, हमें गुजरात के विकास के मॉडल से दर्द नहीं हैं। हम पिछड़ रहे हैं, इससे हमें दर्द हैं। हम दूसरे की रेखा कम करना नहीं चाहते। हम अपनी रेखा बढ़ाना चाहते हैं।

100 दिनों के लिए वह किन तीन चीजों को करेंगे, इस प्रश्न के जवाब में देवेंद्र फडणवीस ने कहा, हमारा कोई घोषित प्लान नहीं है, पर हम जनता को राईट टू सर्विस देना चाहते हैं।

टिप्पणियां


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement