NDTV Khabar

बंगाल उपचुनाव परिणाम: TMC का तीनों सीटों पर कब्‍जा, BJP के हाथ खाली, ममता बनर्जी बोलीं- ये BJP के अहंकार का नतीजा है

WB Bypoll Result: इनमें से दो सीटें तो ऐसी हैं, जिन पर टीएमसी पिछले 20 साल से जीत हासिल नहीं कर पा रही थी. इस पर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि भाजपा अपने अहंकार का नतीजा भुगत रही है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बंगाल उपचुनाव परिणाम: TMC का तीनों सीटों पर कब्‍जा, BJP के हाथ खाली, ममता बनर्जी बोलीं- ये BJP के अहंकार का नतीजा है

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी.

खास बातें

  1. बंगाल की तीनों सीटों पर टीएमसी का कब्जा
  2. दो पर की जीत हासिल, एक पर आगे
  3. ममता बनर्जी बोलीं- BJP के अहंकार का नतीजा
नई दिल्ली:

West Bengal Bypoll Results: पश्चिम बंगाल विधानसभा उपचुनाव में तृणमूल कांग्रेस तीनों सीटें जीत रही है. इनमें से दो सीटें तो ऐसी हैं, जिन पर टीएमसी पिछले 20 साल से जीत हासिल नहीं कर पा रही थी. इस पर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि भाजपा अपने अहंकार का नतीजा भुगत रही है. उन्होंने कहा, 'अहंकार की राजनीति नहीं चलेगी. लोगों ने भाजपा को ठुकरा दिया.' टीएमसी ने खड़गपुर सदर और कलियागंज सीट पर तीन दशक के बाद जीत हासिल की है. कलियागंज सीट पर टीएमसी के तपन देब ने जीत हासिल की है. तपन ने भाजपा के कमल चंद्र सरकार को 2 हजार से ज्यादा वोटों से हराया है. वहीं करीमपुर सीट पर टीएमसी आगे बनी हुई है. 

बता दें, पश्चिम बंगाल में विधानसभा की तीन सीटों पर 25 नवंबर को हुए उपचुनाव (Bengal Bypoll) की मतगणना गुरुवार को सुबह आठ बजे कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच शुरू हुई. विधानसभा की तीन सीटों- खड़गपुर सदर, कालियागंज और करीमपुर के लिए हुए उपचुनाव में 18 उम्मीदवारों की चुनावी किस्मत का फैसला होना है. इस चुनाव में पश्चिम बंगाल में करीब सात लाख से अधिक मतदाताओं में से 75.34 फीसदी ने वोट डाले थे. वहीं उत्तराखंड में करीब 50 हजार लोगों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया. पश्चिम बंगाल की करीमपुर, खड़गपुर सदर और कालीगंज और उत्तराखंड की पिथौरागढ़  विधानसभा सीट पर 25 नवंबर, सोमवार को मतदान हुआ था. पश्चिम बंगाल में चुनाव में त्रिकोणीय संघर्ष हुआ है. 


पश्चिम बंगाल के राज्यपाल का दावा, ममता बनर्जी ने उनसे कहा -'तू चीज बड़ी है मस्त मस्त'

कांग्रेस-माकपा, तृणमूल और बीजेपी के बीच कड़ा चुनावी संघर्ष देखने को मिला है. महुआ मोइत्रा के कृष्णानगर लोकसभा सीट से चुनाव जीतने के बाद करीमपुर सीट खाली हो गई थी. खड़गपुर सदर के विधायक के भी इस साल लोकसभा चुनाव में जीत हासिल करने के बाद यह सीट रिक्त हुई थी जबकि कालियागंज के कांग्रेस विधायक प्रमथनाथ रे के निधन के बाद यहां उपचुनाव कराना जरूरी हो गया था. पश्चिम बंगाल में कांग्रेस और माकपा तीन वर्षों के बाद इस उपचुनाव में एक साथ लड़ी हैं.

टिप्पणियां

पश्चिम बंगाल में कैमरे के सामने बीजेपी उम्‍मीदवार को मारी लात, सामने आया पिटाई का Video

VIDEO: रवीश कुमार का प्राइम टाइम: कहां से आता उम्मीदवार को मारने का दुस्साहस?



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement