नागरिकता कानून पर ममता बनर्जी ने दी मोदी सरकार को चुनौती, कहा - आप चाहें तो मेरी सरकार को बर्खास्त कर दें, लेकिन...

तृणमूल कांग्रेस की सुप्रीमो ने शहर के बीचों-बीच स्थित रेड रोड से विरोध मार्च शुरू किया. यह मार्च उत्तरी कोलकाता में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित प्रख्यात रचनाकार गुरुदेव रबिंद्रनाथ टैगोर के आवास, जोरासांको ठाकुर बाड़ी पर जाकर समाप्त हुआ. 

नागरिकता कानून पर ममता बनर्जी ने दी मोदी सरकार को चुनौती, कहा - आप चाहें तो मेरी सरकार को बर्खास्त कर दें, लेकिन...

'बाहर की कुछ ताकतें अल्पसंख्यों की मित्र होने का दिखावा कर रही हैं और हिंसा को बढ़ा रही हैं'

खास बातें

  • ममता बनर्जी ने पश्चिम बंगाल में हिंसा बढ़ने पर बीजेपी पर लगाया आरोप
  • ममता बनर्जी ने कहा- बाहरी ताकतें हिंसा को बढ़ा रही हैं.
  • बनर्जी ने कहा- अल्पसंख्यकों के दोस्त बनकर हिंसा को बढ़ावा दिया जा रहा है
कोलकाता:

पश्चिम बंगाल (West Bengal) की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Chief Minister Mamta Banerjee) ने सोमवार को कहा कि राज्य में हिंसा भड़काने के लिए बीजेपी ने कुछ लोगों को धन दिए हैं. उन्होंने आरोप लगाया कि पश्चिम बंगाल से बाहर की कुछ ताकतें मुस्लिम समुदाय 'का मित्र होने का दिखावा कर रही हैं' और वे तोड़फोड़ और आगजनी में शामिल हैं. तृणमूल कांग्रेस की सुप्रीमो ने शहर के बीचों-बीच स्थित रेड रोड से विरोध मार्च शुरू किया. यह मार्च उत्तरी कोलकाता में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित प्रख्यात रचनाकार गुरुदेव रबिंद्रनाथ टैगोर के आवास, जोरासांको ठाकुर बाड़ी पर जाकर समाप्त हुआ. 

यह भी पढ़ें: बांग्लादेशी घुसपैठियों पर ममता के 'यू टर्न' पर भाजपा ने साधा निशाना

उन्होंने बंगाल में संशोधित नागरिकता कानून और राष्ट्रीय नागरिक पंजी लागू नहीं करने का संकल्प दोहराया और केन्द्र को उनकी सरकार को बर्खास्त करने की चुनौती दी. बनर्जी ने पार्टी के कार्यकर्ताओं से कहा, ''राज्य से बाहर की कुछ ताकतें जो अल्पसंख्यकों की मित्र होने का दिखावा कर रही हैं, वे हिंसा में शामिल हैं. ये ताकतें बीजेपी के हाथों की कठपुतली हैं, उनके जाल में नहीं फंसें.'' उन्होंने कहा, ''जब तक मैं जिंदा हूं, मैं एनआरसी अथवा नागरिकता कानून कभी लागू नहीं करूंगी. आप चाहें तो मेरी सरकार को बर्खास्त कर दें अथवा मुझे सलाखों के पीछे डाल दें लेकिन मैं यह काला कानून कभी लागू नहीं करूंगी. जब तक यह कानून समाप्त नहीं हो जाता मैं संवैधानिक तरीके से प्रदर्शन करना जारी रखूंगी.''

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

उन्होंने दिल्ली में जामिया मिल्लिया इस्लामिया में छात्रों पर पुलिस की कार्रवाई की आलोचना की और कहा कि ऐसा नहीं होना चाहिए. बनर्जी ने बीजेपी की आलोचना करते हुए कहा कि बीजेपी को कानून व्यवस्था पर उपदेश देने से पहले अपने शासन वाले पूर्वोत्तर के राज्यों पर ध्यान देना चाहिए. इस बीच, पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ सड़कों पर उतरने के मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के निर्णय की सोमवार को आलोचना की और कहा कि वह ''असंवैधानिक एवं भड़काऊ'' कार्य करने से बचें. राज्यपाल ने कहा कि मुख्यमंत्री को गंभीर स्थिति को संभालने में वक्त देना चाहिए.

Video: पूर्वोत्तर में बेहतर होते हालात, गुवाहाटी में बाजार खुले



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)