NDTV Khabar

अब क्या करेंगे पन्नीरसेल्वम...? समझौते की बातचीत जारी, विधायक ने दिए 'घरवापसी' के संकेत

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अब क्या करेंगे पन्नीरसेल्वम...? समझौते की बातचीत जारी, विधायक ने दिए 'घरवापसी' के संकेत

पन्नीरसेल्वम गुट के साथ समझौते की कोशिश कर रहा है शशिकला कैम्प.

तमिलनाडु की गद्दी गुरुवार को वीके शशिकला द्वारा चुने गए एदाप्पदी पलानीस्वामी ने संभाल ली है, लेकिन निवर्तमान मुख्यमंत्री ओ. पन्नीरसेल्वम का कहना है कि उनकी लड़ाई जारी रहेगी. गुरुवार को राज्य की कमान संभालने वाले 63-वर्षीय पलानीस्वामी एआईएडीएमके के वरिष्ठ नेताओं में शुमार होते हैं, और भूतपूर्व मुख्यमंत्री जे. जयललिता के करीबी हुआ करते थे.

पलानीस्वामी की नियुक्ति को शशिकला-विरोधी भावनाओं को शांत करने के नुस्खे के रूप में देखा जा रहा है, क्योंकि इन्हीं भावनाओं की वजह से एक हफ्ते पहले पन्नीरसेल्वम ने विद्रोह के स्वर बुलंद कर सभी को हैरान कर दिया था.

बहरहाल, शशिकला कैम्प को छोड़कर पिछले सप्ताह पन्नीरसेल्वम के साथ आए विधायकों में से एक ओ. पांडियाराजन ने 'घर वापसी' के मजबूत संकेत दिए हैं. NDTV से बात करते हुए पांडियाराजन ने कहा, "पार्टी में कोई अलगाव नहीं होना चाहिए..." उन्होंने यह भी कहा कि यह 'अम्मा की इच्छा' थी कि पार्टी एकजुट रहे.

तमिलनाडु की भूतपूर्व मुख्यमंत्री जयललिता का पिछले साल 5 दिसंबर को निधन हुआ था. उसके कुछ ही हफ्ते बाद एआईएडीएमके के भीतर कार्यवाहक मुख्यमंत्री तथा जयललिता के बेहद वफादार माने जाते रहे पन्नीरसेल्वम तथा जयललिता की करीबी सहयोगी रहीं शशिकला के बीच जोरदार सत्ता संघर्ष देखने को मिला. भ्रष्टाचार के आरोप में दोषी करार दिए जाने के बाद शशिकला गुरुवार को जेल चली गईं, लेकिन उन्होंने ऐसी व्यवस्था कर दी, ताकि उन्हीं का गुट पार्टी पर नियंत्रण बनाए रखे.


शशिकला के वफादार सी. राजशेखरन ने विद्रोहियों के बारे में पूछे जाने पर कहा, "सभी का वापसी के लिए स्वागत है, लेकिन पन्नीरसेल्वम गद्दार हैं..."

लेकिन सत्तारूढ़ दल में टूट से बचने के लिए बातचीत फिर भी जारी है. पन्नीरसेल्वम को 11 विधायकों तथा 11 सांसदों का समर्थन हासिल है. पांडियाराजन ने कहा, "पन्नीरसेल्वम अब भी जनता की कल्पनाओं में बसे हैं..."

बताया जा रहा है कि शशिकला के भतीजे टीटीवी दिनाकरन समझौते की दिशा में की जा रही बातचीत में शामिल हैं. वर्ष 2011 में जयललिता द्वारा पार्टी से निष्कासित किए गए दिनाकरन को शशिकला ने बुधवार को ही पार्टी में नंबर दो की हैसियत देते हुए उप-महासचिव बनाया है.

सूत्रों का कहना है कि दिनाकरन समझौते के लिए प्रयास कर रहे हैं, और संभवतः उसके लिए केंद्र सरकार से भी मदद ली जा रही है.

बताया जाता है कि केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ही एआईएडीएमके को 'सलाह' दे रहे हैं. एआईएडीएमके के वरिष्ठ नेता एम. थम्बीदुरई ने मंगलवार को वेंकैया नायडू से मुलाकात की थी, जिन्होंने कथित रूप से सुझाव दिया कि एआईएडीएमके को एकजुट रहना चाहिए और स्थिर सरकार बनानी चाहिए, तथा इसके साथ ही केंद्र सरकार से भी अच्छे संबंध बनाए रखने चाहिए.

टिप्पणियां

पन्नीरसेल्वम उन लोगों के लिए नायक की तरह उभरे, जिन्होंने जयललिता का स्थान लेने की शशिकला की कोशिशों का विरोध किया, लेकिन उन्हें पर्याप्त समर्थन हासिल नहीं हो पाया.

पन्नीरसेल्वम ने शशिकला पर 100 से भी ज़्यादा विधायकों को चेन्नई के निकट एक फाइव-स्टार रिसॉर्ट में बंधक बनाकर रखने का आरोप लगाया, ताकि विधायक उनके साथ शामिल न हो सकें, लेकिन ज़्यादातर विधायक शशिकला के जाने के बाद भी रिसॉर्ट में ही टिके रहे. वे लोग गुरुवार को ही रिसॉर्ट से निकले, जब पलानीस्वामी को सरकार बनाने का न्योता मिल गया.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement