ज्योतिरादित्य सिंधिया के कांग्रेस छोड़ने पर पार्टी के अन्य युवा नेता सचिन पायलट ने कही यह बात...

पायलट ने ट्वीट करते हुए लिखा, 'ज्योतिरादित्य सिंधिया को कांग्रेस से अलग होते देखना दुखद है. काश चीजों को पार्टी के अंदर ही साथ मिलकर सुलझा लिया गया होता.' सिंधिया पार्टी में लगातार हो रही अनदेखी से परेशान थे. इसीलिए उन्होंने पार्टी को अलविदा कह दिया.

ज्योतिरादित्य सिंधिया के कांग्रेस छोड़ने पर पार्टी के अन्य युवा नेता सचिन पायलट ने कही यह बात...

ज्योतिरादित्य सिंधिया और राजस्थान के उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट (फाइल फोटो)

खास बातें

  • सिंधिया के पार्टी छोड़ने को बताया दुखद
  • ट्वीट कर कहा कि चीजें सुलझाई जा सकती थी
  • कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए सिंधिया
नई दिल्ली:

कांग्रेस (Congress) के दिग्गज नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) के पार्टी छोड़ने के बाद राजस्थान के उपमुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता सचिन पायलट (Sachin Pilot) ने कहा है कि सिंधिया का पार्टी से अलग होना दुखद है. चीजें पार्टी के अंदर ही सुलझाई जा सकती थीं. बता दें, सिंधिया ने कांग्रेस से इस्तीफा मंगलवार को सुबह ही दे दिया था और उसी दिन उनके भारतीय जनता पार्टी (BJP) में शामिल होने की चर्चा थी, लेकिन उन्होंने मंगलावर को शामिल न होकर बुधवार को राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा की मौजूदगी में दिल्ली में भाजपा की सदस्यता ग्रहण की. भाजपा की सदस्यता लेने के कुछ घंटों के अंदर ही उन्हें राज्यसभा का उम्मीदवार भी बना दिया गया. इसके बाद ही सचिन पायलट ने इस मामले पर अपनी बात कही है.

पायलट ने ट्वीट करते हुए लिखा, 'ज्योतिरादित्य सिंधिया को कांग्रेस से अलग होते देखना दुखद है. काश चीजों को पार्टी के अंदर ही साथ मिलकर सुलझा लिया गया होता.' बता दें, सिंधिया पार्टी में लगातार हो रही अनदेखी से परेशान थे और इसी वजह से उन्होंने पार्टी से अलग होने का फैसला किया. सिंधिया के साथ ही मध्य प्रदेश कांग्रेस के 22 विधायकों ने भी अपने पदों से इस्तीफा दे दिया. इन इस्तीफों के बाद मध्‍यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार संकट में आ गई. हालांकि मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा है कि वह विधानसभा में बहुमत साबित करेंगे.

दिग्विजय सिंह बोले- ज्योतिरादित्य सिंधिया को ऑफर किया गया था डिप्टी CM का पद, लेकिन...

वहीं मंगलवार को कमलनाथ के इस बयान के बाद भाजपा-कांग्रेस अपने-अपने विधायकों को बचाने में जुट गई और उन्हें एक साथ रखने के लिए भोपाल से बाहर भेज दिया गया. कांग्रेस ने अपने विधायकों को जहां राजस्थान की राजधानी जयपुर रवाना किया, वहीं भाजपा ने अपने विधायकों को चार्टर्ड प्लेन में सवार कर दिल्ली लाकर गुड़गांव के एक होटल में शिफ्ट कर दिया.

Newsbeep

VIDEO: सिंधिया का बीजेपी में दिल से स्वागत करता हूं: शिवराज सिंह चौहान

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com