NDTV Khabar

जब सुषमा स्वराज ने पीएम मोदी को सिखाया 'पहला सबक', बोलीं- 'ऐसा नहीं होता है भाई...'

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को कहा कि सुषमा स्वराज (Sushma Swaraj) ने विदेश मंत्री के रूप में प्रोटोकॉल से बंधे रहने वाले विदेश मंत्रालय को आम लोगों से जोड़ दिया था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जब सुषमा स्वराज ने पीएम मोदी को सिखाया 'पहला सबक', बोलीं- 'ऐसा नहीं होता है भाई...'

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को याद (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. पीएम मोदी ने सुषमा स्वराज को किया याद
  2. बताया कि कैसे प्रधानमंत्री ने सीखा था पहला सबक
  3. पीएम मोदी ने एक श्रद्धांजलि सभा में शेयर की यह बात
नई दिल्ली:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को कहा कि सुषमा स्वराज (Sushma Swaraj) ने विदेश मंत्री के रूप में प्रोटोकॉल से बंधे रहने वाले विदेश मंत्रालय को आम लोगों से जोड़ दिया था. मोदी ने एक श्रद्धांजलि सभा में कहा कि उन्होंने (स्वराज) उनसे संयुक्त राष्ट्र में अपना पहला भाषण पहले से तैयार मूलपाठ (टेक्स्ट) से देने का अनुरोध किया था. प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्होंने उनसे बहुत कुछ सीखा था और पहली बार प्रधानमंत्री पद संभालने के बाद 2014 में संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने पहले भाषण के बारे में उनसे बात की थी.

सुषमा स्वराज के निधन पर US राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बेटी ने यूं किया उन्हें याद, कहा- उन्हें जानना सम्मान की बात

मोदी ने कहा, ‘‘सुषमा स्वराज (Sushma Swaraj) ने पूछा कि आपका भाषण कहां है, तो मैंने कहा कि मैं अपने भाषण कभी नहीं लिखता हूं क्योंकि मुझे यह मुश्किल लगता है.'' प्रधानमंत्री ने बताया, ‘‘इस पर स्वराज ने कहा, ऐसा नहीं होता है भाई. आपको दुनिया के सामने भारत के बारे में बोलना है. आप अपनी इच्छानुसार नहीं बोल सकते. मैं प्रधानमंत्री था और वह विदेश मामलों के मंत्रालय का कामकाज संभालने वाली मेरी सहयोगी थीं.''


मोदी ने कहा कि उन्होंने (मोदी) लंबी यात्रा की थी और ‘नवरात्र' के कारण उनका उपवास भी था लेकिन सुषमा स्वराज ने जोर देकर कहा कि वह अपने विचारों को साझा करें. उन्होंने कहा कि मंत्रालय ने फिर उनके लिए एक भाषण तैयार किया. मोदी ने कहा, ‘‘यह उनका अनुरोध था... आप अच्छे वक्ता हो सकते हैं लेकिन कुछ मंचों की अपनी परम्परा होती है. सुषमा जी ने मुझे यह पहला सबक सिखाया था.''

सुषमा स्वराज और पूर्व पीएम मनमोहन सिंह के बीच शेरो-शायरी का वो दौर, जिंदगी और मौत के...देखें- VIDEO

प्रधानमंत्री ने मंत्रालय से संबंधित या विदेशों में भारतीयों के सामने आने वाली समस्याओं पर स्वराज द्वारा तुरन्त कदम उठाए जाने का जिक्र करते हुए कहा कि उन्होंने मंत्रालय में बदलाव किया. उन्होंने बताया कि उनके अधीन ‘पासपोर्ट सेवा केंद्र' करीब 77 से बढ़कर 505 हो गए.    मोदी ने स्वराज को याद करते हुए कहा कि भाजपा नेता में हरियाणवी झलक भी थी क्योंकि यदि उन्हें लगता था कि वह सही हैं तो वह दमदार तरीके से अपनी बात रखती थीं.

टिप्पणियां

प्रधानमंत्री ने उल्लेख किया कि स्वराज ने जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को हटाने के सरकार के प्रस्ताव को संसद में पारित किए जाने पर खुशी व्यक्त की थी. इसके कुछ ही घंटों बाद उनका निधन हो गया. गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष जे पी नड्डा समेत भाजपा के कई नेताओं और कांग्रेस के नेता आनंद शर्मा, तृणमूल कांग्रेस के दिनेश त्रिवेदी, बीजद के पिनाकी मिश्र, लोजपा के रामविलास पासवान, शिवसेना के अरविंद सावंत और विपक्षी नेता शरद यादव उन लोगों में शामिल थे जिन्होंने श्रद्धांजलि सभा में अपने विचार रखे.

Video: BJP की ही रहीं सुषमा, कभी केंद्र तो कभी हाशिये पर



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


NDTV.in पर विधानसभा चुनाव 2019 (Assembly Elections 2019) के तहत हरियाणा (Haryana) एवं महाराष्ट्र (Maharashtra) में होने जा रहे चुनाव से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरें (Election News in Hindi), LIVE TV कवरेज, वीडियो, फोटो गैलरी तथा अन्य हिन्दी अपडेट (Hindi News) हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement