कौन हैं बाबरी मस्जिद-राम मंदिर विवाद के मुद्दई हाशिम अंसारी, जो इमरजेंसी में जेल भी गए थे...

कौन हैं बाबरी मस्जिद-राम मंदिर विवाद के मुद्दई हाशिम अंसारी, जो इमरजेंसी में जेल भी गए थे...

हाशिम अंसारी (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

हाशिम अंसारी को शायद आज कोई नहीं जानता और पहचानता, अगर वह राम मंदिर-बाबरी मस्जिद विवाद के एक पैरोकार न होते। उनकी दुनियाभर में पहचान का यही सबसे बड़ा आधार है। यह मुद्दा सबसे ज्यादा 1992 में बाबरी मस्जिद के विध्वंस के बाद सुर्खियों में आया लेकिन 94 साल के अंसारी पिछले 60 सालों से इस केस को लड़ रहे हैं।

1961 में सुन्नी वक्फ बोर्ड ने किया केस
1921 में पैदा हुए हाशिम अंसारी  ने 1949 में पहली बार इस मामले में एक मुकदमा दर्ज करवाया था जब विवादिद ढांचे के भीतर कथित रूप से मूर्तियां रखी गई थीं। उनका कहना था कि लोगों के कहने के कारण ही उन्होंने ऐसा किया था। गौरतलब है कि 1961 में सुन्नी वक्फ बोर्ड ने इस मामले में एक केस किया तब भी हाशिम अंसारी एक और पैरोकार बने।

इमरजेंसी में भी जेल में थे अंसारी
1975 में जब देश में इमरजेंसी लगाई गई थी तब भी हाशिम अंसारी को गिरफ्तार किया गया था और करीब 8 महीने वह जेल में रहे।

Newsbeep

फिलहाल अस्पताल में हैं हासिम अंसारी
बता दें कि अंसारी को सीने में तेज दर्द होने पर गंभीर हालत में शनिवार की सुबह फैजाबाद के जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। हालत में सुधार न होने पर डॉक्टरों ने उन्हें लखनऊ के लिए रैफर कर दिया था। फिलहाल लखनऊ में उन्हें किंग जॉर्ज मेडिकल विश्वविद्यालय (केजीएमयू) के आईसीयू में भर्ती कराया गया जहां उनकी हालत स्थिर बताई जा रही है। केजीएमयू के उप चिकित्सा अधीक्षक डॉ. वेदप्रकाश ने बताया कि अंसारी को आईसीयू में रखा गया है। उनके सीने में संक्रमण है। इलाज चल रहा है।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अंसारी अपने कुछ इंटरव्यू में कह चुके हैं कि उन्हें अब मौत का इंतजार है और वह चाहते हैं कि उनके जीवित रहते राम मंदिर-बाबरी मस्जिद विवाद के मुद्दे का कोई फैसला हो जाए।