NDTV Khabar

पीएम मोदी ने झारखंड के चुनाव में जम्मू-कश्मीर के उप राज्यपाल की चर्चा क्यों की?

पीएम मोदी ने कहा जम्मू-कश्मीर को विकास और विश्वास के पथ पर ले जाने की जिम्मेदारी आदिवासी अंचल में ही जन्मे, पले बढ़े उप राज्यपाल जी के कंधे पर

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पीएम मोदी ने झारखंड के चुनाव में जम्मू-कश्मीर के उप राज्यपाल की चर्चा क्यों की?

पीएम नरेंद्र मोदी ने झारखंड के खूंटी में चुनावी सभा को संबोधित किया.

खास बातें

  1. खूंटी की सभा में मंच पर मौजूद पूर्व सांसद कारिया मुंडा की जमकर तारीफ की
  2. कहा- राम जब वनवास पर निकले थे तो आदिवासियों ने ही उनकी सेवा की थी
  3. आदिवासियों के एक वर्ग में भाजपा की राज्य सरकार के खिलाफ काफी आक्रोश
खूंटी (झारखंड):

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) झारखंड (Jharkhand) में अब तक चार राजनीतिक सभाएं कर चुके हैं और पार्टी के नेताओं के अनुसार उनकी कम से कम चार से छह सभाएं हो सकती हैं. अब तक की पीएम नरेंद्र मोदी की सभाओं में उनके भाषण से साफ है कि वे स्थानीय मुद्दों के साथ-साथ जम्मू-कश्मीर में धारा 370 और राम मंदिर पर सर्वोच्च न्यायालय के फ़ैसले को अपनी बड़ी उपलब्धि के रूप में गिना रहे हैं.

मंगलवार को राज्य के खूंटी में तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने जम्मू-कश्मीर के नव नियुक्त उप राज्यपाल जीसी मुर्मू का नाम लिए बिना कहा कि जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370  हट चुका है. अब केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर को विकास और विश्वास के पथ पर ले जाने की ज़िम्मेदारी आदिवासी अंचल में ही जन्मे पले बढ़े उप राज्यपाल जी के कंधे पर है.

निश्चित रूप से मोदी (PM Modi) ने उप राज्यपाल का आदिवासी होने का जिक्र आदिवासी वोटर को गोलबंद करने के प्रयास में किया क्योंकि उस इलाके में आदिवासियों के एक वर्ग में भाजपा की स्थानीय सरकार के खिलाफ काफी आक्रोश है. उन्होंने खूंटी की सभा में मंच पर विशेष रूप से आमंत्रित पूर्व सांसद कारिया मुंडा की जमकर तारीफ की. मोदी ने कहा कि जब भाजपा के कार्यकर्ता के रूप में वे संगठन का दायित्व  देखते थे तो ये बात उन्हें गर्व से कहना चाहिए कि करिया मुंडा जी की उंगली पकड़कर संगठन शास्त्र को सीखा था. अनेक वर्षों तक उनके साथ काम करने का सौभाग्य मिला. हर परिस्थिति में प्रसन्नचित्त करिया मुंडा जी के साथ लोकसंग्रह कैसे किया जाता है, दूर-सुदूर गांव की ओर देखने का दृष्टिकोण क्या हो सकता है, घंटों तक उनके साथ चर्चा विचार विमर्श करने, मुझे सीखने का सौभाग्य मिला. आज मुझे खुशी है कि उनके मार्गदर्शन में हम एक बार फिर झारखंड के भाग्य को संवारने के लिए पूरी ताक़त से मेहनत कर रहे हैं.


झारखंड चुनाव : पीएम नरेंद्र मोदी ने क्यों कहा कि जहां कमल का फूल नहीं, वहां मोदी नहीं

इसी क्रम में राम जन्मभूमि मामले की भी पीएम मोदी (PM Modi) ने चर्चा की. उन्होंने कहा कि कैसे वह भी शांतिपूर्ण ढंग वे हल हो गया. उन्होंने कहा कि भगवान श्रीराम जब वनवास पर अयोध्या से निकले थे तो आदिवासियों ने ही उनकी सेवा की थी. इसी तरह जमशेदपुर की सभा में उन्होंने टाटा ग्रुप के संस्थापकों की चर्चा करते हुए कहा कि कैसे वे गुजरात के नवसरी से आते हैं.

झारखंड में बोले PM मोदी- आदिवासियों के संस्‍कार ने राजकुमार राम को मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम बनाया

VIDEO : पीएम मोदी ने खूंटी में चुनावी सभा को संबोधित किया

टिप्पणियां



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें. India News की ज्यादा जानकारी के लिए Hindi News App डाउनलोड करें और हमें Google समाचार पर फॉलो करें


Advertisement