2,000 रुपये के नोट पर रॉयल बंगाल टाइगर क्यों नहीं, मनमानी कर रही मोदी सरकार : ममता बनर्जी

2,000 रुपये के नोट पर रॉयल बंगाल टाइगर क्यों नहीं, मनमानी कर रही मोदी सरकार : ममता बनर्जी

कोलकाता:

भारतीय रिज़र्व बैंक (आरबीआई) द्वारा जारी किए गए 2,000 रुपये के नए नोट पर रॉयल बंगाल टाइगर की तस्वीर नहीं है, और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का मानना है कि ऐसा गलती से नहीं हुआ, जानबूझकर किया गया है.

तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ने कोलकाता में सोमवार को कहा, "सुंदरबन तथा रॉयल बंगाल टाइगर के बारे में सभी जानते हैं... 2,000 रुपये के नोट पर रॉयल बंगाल टाइगर नहीं है... हाथी वहां है... वे कहते हैं, वह राष्ट्रीय धरोहर है... परन्तु राष्ट्रीय पशु वहां नहीं है..."

2,000 रुपये के गुलाबी रंग वाले नए नोट की एक तरफ राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की तस्वीर है, और दूसरी ओर एक उपग्रह की तस्वीर है, जिसके नीचे 'मंगलयान' लिखा है, जो भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम का प्रतीक है. इसी के नीचे बहुत छोटे-छोटे बक्सों में हाथी, मोर तथा एक फूल की तस्वीर है, जो कमल के फूल जैसा दिखाई देता है, और फिर यही तीन तस्वीरें लगातार दोहराई गई हैं.

नोट के बाएं कोने पर 'स्वच्छ भारत अभियान' का लोगो बना है, जिसके नीचे लिखा है - "एक कदम स्वच्छता की ओर..."

यह पूछे जाने पर कि नए नोट पर हाथी, मोर तथा कमल के फूल की तस्वीरें कैसे प्रकाशित की गईं, ममता बनर्जी ने कहा, "वे वही कर रहे हैं, जो उन्हें अच्छा लगता है..." उन्होंने सवाल करते हुए यह भी कहा, "हाथी हमारी राष्ट्रीय धरोहर है, कोई समस्या नहीं... लेकिन वहां रॉयल बंगाल टाइगर क्यों नहीं है..."

10 रुपये के मौजूदा नोट में एक बाघ, एक हाथी और एक गैंडे की तस्वीर बनी हुई है. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ने कहा, "उन्होंने रॉयल बंगाल टाइगर को हटा दिया है... उन्होंने ब्रिक्स के प्रतीक चिह्न को भी कमल के फूल में बदल दिया है... सरकार वही सब कर रही है, जो वह चाहती है..."

वैसे, अब बंद हो चुके 500 और 1,000 रुपये के नोटों पर किसी भी पशु की कोई तस्वीर नहीं थी.

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com