NDTV Khabar

क्या सांसद बनने के बाद मोदी कैबिनेट में शामिल होंगे अमित शाह? जानें उनका जवाब

मीडिया में ऐसी खबरें हैं कि राज्यसभा सदस्य बनने के बाद अमित शाह केंद्र सरकार में शामिल हो सकते हैं या पार्टी अध्यक्ष पद छोड़ सकते हैं.

174 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
क्या सांसद बनने के बाद मोदी कैबिनेट में शामिल होंगे अमित शाह? जानें उनका जवाब

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह

खास बातें

  1. अध्यक्ष पद के दायित्व से खुश हूं : अमित शाह
  2. 'मोदी ने देश का सम्मान दुनिया में बढ़ाया है'
  3. '2019 के चुनाव में भाजपा और बड़े बहुमत से सरकार बनाएगी'
लखनऊ: भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने राज्यसभा सांसद बनने की स्थिति में अध्यक्ष पद छोड़ने या नरेंद्र मोदी सरकार में शामिल होने की संभावना से साफ इनकार किया है. अमित शाह से जब एक प्रेस वार्ता में पूछा गया कि क्या वह सांसद बनने के बाद मोदी कैबिनेट में शामिल होंगे या पार्टी अध्यक्ष का पद त्याग देंगे, तो उनका जवाब था कि ऐसा सवाल ही नहीं उठता.

मीडिया में ऐसी अटकलें चल रही हैं कि राज्यसभा का सदस्य बनने के बाद वह केंद्र सरकार में शामिल हो सकते हैं या पार्टी अध्यक्ष पद छोड़ सकते हैं.
यह भी पढ़ें
महागठबंधन में टूट पर बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह बोले - हमने किसी भी पार्टी को नहीं तोड़ा


शाह ने राज्यसभा में जाने की स्थिति में भाजपा अध्यक्ष पद छोड़ने की अटकलों को विराम देते हुए कहा, 'मुझ पर अध्यक्ष पद का दायित्व है. मैं खुश हूं और बड़ी तन्मयता से काम कर रहा हूं. आप लोग (मीडिया) धक्का मत लगाइए.' नरेंद्र मोदी को आजादी के बाद देश का 'सबसे लोकप्रिय प्रधानमंत्री' करार देते हुए शाह ने कहा कि मोदी ने देश का सम्मान दुनिया में बढ़ाया है. मोदी के नेतृत्व में परिवारवाद, जातिवाद और तुष्टिकरण का नासूर खत्म करने में कामयाबी मिली है.
यह भी पढ़ें
देश में लगातार बढ़ रही है भाजपा की ताकत, अब पार्टी को 'अपराजेय' बनाना लक्ष्य : अमित शाह

उत्तर प्रदेश के तीन-दिवसीय दौरे के अंतिम दिन संवाददाताओं से बातचीत करते हुए अमित शाह ने दावा किया कि 2019 के लोकसभा चुनाव में भाजपा और बड़े बहुमत से सरकार बनाएगी. इसमें कोई संशय नहीं है. मोदी सरकार का सुशासन ही इस दावे का आधार है.

VIDEO : नोटबंदी से कालेधन पर बड़ी चोट : अमित शाह
भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि मोदी सरकार के तीन साल के कार्यकाल में देश की जनता बहुत बड़ा परिवर्तन महसूस कर रही है. भाजपा के सत्ता संभालने से पहले 10 साल तक एक ऐसी सरकार चली, जिसमें हर महीने घपले और घोटाले उजागर होते थे. करीब 12 लाख करोड़ रुपये के घोटाले हुए, जबकि मोदी सरकार पर उसके विरोधी भी भ्रष्टाचार का एक आरोप तक नहीं लगा पाए हैं.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement