NDTV Khabar

राम रहीम के वकील ने कहा, सजा के खिलाफ हाईकोर्ट में करेंगे अपील

डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को 20 साल जेल में रहना होगा क्योंकि दोनों सजाएं एक के बाद एक चलेंगी

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
राम रहीम के वकील ने कहा, सजा के खिलाफ हाईकोर्ट में करेंगे अपील

खास बातें

  1. डेरा प्रमुख राम रहीम को 20 साल जेल में रहना होगा
  2. दोनों सजाएं एक के बाद एक चलेंगी, ये मामले साल 2002 के हैं
  3. राम रहीम सिंह पर दोनों मामले में 15-15 लाख का जुर्माना
रोहतक: डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को बलात्कार के दो मामलों में सोमवार को विशेष सीबीआई अदालत ने 10-10 साल की सजा सुनाई. इस तरह डेरा प्रमुख को 20 साल जेल में रहना होगा क्योंकि दोनो सजाएं एक के बाद एक चलेंगी. बचाव पक्ष के वकील एसके गर्ग नरवाना ने बताया कि विशेष सीबीआई न्यायाधीश जगदीप सिंह ने दोनों मामले में 10-10 साल के सश्रम कारावास सजा सुनाई. ये मामले साल 2002 के हैं. उन्होंने कहा कि ये दोनों सजाएं एक के बाद होंगी और डेरा प्रमुख को कुल 20 साल तक जेल में रहना होगा.

वकील ने कहा कि वह इस आदेश के खिलाफ उच्च न्यायालय में अपील करेंगे. बचाव पक्ष के वकील ने अदालत से अपने मुवक्किल के प्रति नरमी बरतने की मांग करते हुए कहा कि राम रहीम सामाजिक कार्य में सक्रिय रहे हैं और उनको स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं भी हैं. राम रहीम सिंह पर दोनों मामले में 15-15 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है. इनमें से 14-14 लाख रुपये की राशि दोनों पीड़िताओं को दी जाएगी जो इसी पंथ से जुड़ी हुई थीं.  

पढ़ें: गुरमीत राम रहीम अब इन 4 कानूनी विकल्पों की शरण ले सकते हैं डेरा चीफ​

विशेष सीबीआई अदालत के न्यायाधीश जगदीप सिंह ने यहां की सुनारिया जेल में बनी अस्थायी अदालत में राम रहीम को सजा सुनाई. अप्रिय घटनाओं से बचने के मकसद से यह फैसला किया गया था कि राम रहीम को पंचकूला स्थित अदालत में ले जाने की बजाय विशेष सीबीआई न्यायाधीश जगदीप सिंह रोहतक पहुंचकर सजा सुनाई. सिंह हेलीकॉप्टर से रोहतक पहुंचे.

टिप्पणियां
पढ़ें: 'मैसेंजर ऑफ गॉड' को मिली 20 साल की सजा, ट्विटर पर आया ऐसा रिएक्शन

रोहतक और जेल के आसपास के इलाकों में सुरक्षा के बहुस्तरीय प्रबंध किए गए थे. अर्धसैनिक बलों की 23 कंपनियों की तैनाती की गई थी. जेल की ओर जाने वाले सभी रास्तों को बंद कर दिया गया था और किसी भी स्थिति से निपटने के लिए सेना को तैयार रखा गया था. हरियाणा और पंजाब हाई अलर्ट पर रहे और अधिकारियों ने सुरक्षा हालात को चुनौतीपूर्ण करार देते हुए चेतावनी दी थी कि हिंसक प्रदर्शनकारियों ने देखते ही गोली मार दी जाएगी.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement