लॉकडाउन को राहुल गांधी ने बताया 'Failed', ग्राफ के जरिए समझाया कहां हुई चूक

पिछले कई हफ्तों से राहुल गांधी कोरनावायरस महामारी से हालातों के संभालने, लॉकडाउन लागू करने और गरीबों की हालत को लेकर सरकार की आलोचना कर रहे हैं.  

लॉकडाउन को राहुल गांधी ने बताया 'Failed', ग्राफ के जरिए समझाया कहां हुई चूक

राहुल गांधी ने पिछले महीने कोरोनोवायरस लॉकडाउन के चलते पैदल अपने घर जाने वाले प्रवासी मजदूरों के साथ बातचीत की (फाइल फोटो -पीटीआई)

खास बातें

  • राहुल गांधी ने ट्वीट कर इसे एक असफल लॉकडाउन बताया
  • इस ट्वीट में भारत समेत पांच देशों के ग्राफ दिखाए गए हैं
  • कोरोनावायरस के मामले और लॉकडाउन लागू करने की तिथि की तुलना की गई है
नई दिल्ली:

कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार पर कोरोनावायरस संक्रमण से बचने के लिए लगाए गए लॉकडाउन को लेकर निशाना साधा. कांग्रेस नेता ने अपने ट्वीट में 6 देशों के ग्राफ के जरिए यह दर्शाया कि भारत में कोरोनावायरस को लेकर 25 मार्च को लागू किया गया लॉकडाउन पूरी तरह फेल था. केंद्र सरकार ने मार्च के अंत में, दुनिया के सबसे बड़े लॉकडाउन को लागू कर दिया, आने वाली 8 मई से इसमें कई प्रकार की छुट मिलने से पहले इसे कई बार बढ़ाया गया. स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों ने हाल के दिनों में कोविड-19 मामलों और मौतों में अचानक वृद्धि देखी गई है.

राहुल गांधी ने आज 5 देशों के ग्राफ के साथ एक ट्वीट किया. इस ट्वीट में उन्होंने लिखा. "एक असफल लॉकडाउन कुछ इस तरह का दिखता है." इस ग्राफ में दिखाया गया था कि यूरोपीय देशों में लॉकडाउन ने दैनिक मामलों की संख्या में कमी लाने में मदद की थी लेकिन भारत में, उछाल बरकरार रहा और प्रतिबंधों को उठाने का निर्णय ऐसे समय में आया जब इसमें तेजी एक सर्वकालिक उच्च स्तर पर है.

पिछले कई हफ्तों से राहुल गांधी कोरनावायरस महामारी से हालातों के संभालने, गरीबों की हालत और लॉकडाउन लागू करने को लेकर सरकार की आलोचना कर रहे हैं.  

फरवरी की शुरुआत में, भारत ने कोरोनावायरस की अपनी पहली रिपोर्ट के दो सप्ताह बाद, जब सरकार  अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की यात्रा की तैयारी कर रही थी उस वक्त गांधी ने कहा था कि पीएम मोदी प्रशासन "अत्यंत गंभीर खतरे" को गंभीरता से नहीं ले रहा है.

पिछले कुछ सप्ताह से लॉकडाउन में कई तरह की ढील दी गई है और आने वाले समय यह छूट और अधिक बढ़ाई जाएगी. लेकिन कोविड-19 के मामलों में इसी दौरान तेजी से वृद्धि भी देखी गई है. जहां मरने वालों की संख्या 1000 के पार 48 दिनों बाद पहुंची थी अब वही संख्या मात्र 4 दिनों में हो रही है. भारत में अभी तक 2.26 लाखा मामले सामने आ चुके हैं जिनमें से 6300 लोगों की मौत हो चुकी है. सबसे ज्यादा कोरोना केस वाले देशों की सूची में भारत 7वें नंबर पहुंच गया है वहीं कोरोना से होने वाली मौतों के मामले में भारत 12वें स्थान पर है. दोनों की आंकडो़ं में भारत चीन से आगे है जहां से पिछले साल यह वायरस पूरी दुनिया में फैला था. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


 

राहुल गांधी से बोले राजीव बजाज- लॉकडाउन से चौपट हुई अर्थव्यवस्था