जिस कोरोना पेशेंट को वेंटिलेंटर मिलने में आ रही परेशानी की खबर NDTV ने दिखाई थी, उसकी हुई मौत, बेटा भी 'पॉजिटिव'

धर्मेंद्र ने 22 मई दोपहर 2:15 बजे एक वीडियो बनाया जिसमें उन्होंने अपनी बेबसी बताते हुए कहा कि मैंने कई अस्पतालों में जाकर देख लिया, हेल्पलाइन नंबर पर भी फोन लगा लिया लेकिन मुझे वेंटिलेटर नहीं मिल पा रहा है. वीडियो वायरल हुआ जिसके बाद 23 मई की शाम को अस्पताल ने धर्मेंद्र भारद्वाज को बुलाकर बताया कि अब आप चिंता न करें आपकी मां का इलाज यहीं होगा.

जिस कोरोना पेशेंट को वेंटिलेंटर मिलने में आ रही परेशानी की खबर NDTV ने दिखाई थी, उसकी हुई मौत, बेटा भी 'पॉजिटिव'

दिल्‍ली में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्‍या लगातार बढ़ रही है (प्रतीकात्‍मक फोटो)

नई दिल्ली:

देश की राजधानी दिल्‍ली में एक कोरोना वायरस की महिला मरीज को वेंटिलेटर मिलने में परेशानी की खबर कुछ दिनों पहले NDTV ने दिखाई थी, उस पेशेंट की रविवार को मौत हो गई. इस महिला का बेटा भी कोरोना पॉजिटिव पाया गया है. दिल्ली हाईकोर्ट ने कोरोना मरीज़ के बेटे के वीडियो का स्वतः संज्ञान लिया था और PIL दायर करवाई थी, इस मामले में 3 जून को सुनवाई भी है. 

यह है मामला
धर्मेंद्र भारद्वाज नाम के एक शख्स ने 19 मई को अपनी मां को सांस लेने में हो रही तकलीफ के बाद पूर्वी दिल्ली के एक बड़े प्राइवेट अस्पताल में एडमिट कराया था. 21 मई को धर्मेंद्र भारद्वाज की मां को कोरोना की पुष्टि हुई. 22 मई को सुबह अस्पताल ने धर्मेंद्र भारद्वाज को कहा कि आपकी मां को वेंटिलेटर की जरूरत है, हमको वेंटिलेटर नहीं मिल पा रहा है आप खुद कहीं से इंतजाम कर लीजिए. इसके बाद धर्मेंद्र ने 22 मई दोपहर 2:15 बजे एक वीडियो बनाया जिसमें उन्होंने अपनी बेबसी बताते हुए कहा कि मैंने कई अस्पतालों में जाकर देख लिया, हेल्पलाइन नंबर पर भी फोन लगा लिया लेकिन मुझे वेंटिलेटर नहीं मिल पा रहा है. वीडियो वायरल हुआ जिसके बाद 23 मई की शाम को अस्पताल ने धर्मेंद्र भारद्वाज को बुलाकर बताया कि अब आप चिंता न करें आपकी मां का इलाज यहीं होगा. अस्पताल में धर्मेंद्र की मां को वेंटिलेटर लगा दिया गया था.

25 मई को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस अस्पताल को कारण बताओ नोटिस जारी करके पूछा कि आपका लाइसेंस क्यों न रद्द कर दिया जाए? मुख्यमंत्री का कहना था कि अस्पताल का इस तरह का व्यवहार गलत था जिसको बर्दाश्त नहीं किया जा सकता. इसके बाद 26 मई को दिल्ली हाईकोर्ट ने इस मामले का स्वत संज्ञान लिया था और मामले में पीआईएल दायर करने के निर्देश दिए थे. दिल्ली हाईकोर्ट इस बात से नाराज दिखा कि धर्मेंद्र भारद्वाज ने हेल्पलाइन पर फोन किया उसके बावजूद भी उनको मदद नहीं मिल पाई तो फिर हेल्पलाइन का क्या फायदा है. इस वीडियो और मामले में दिल्ली सरकार और केंद्र सरकार दोनों को जवाब देने के लिए कहा गया है. दिल्ली हाई कोर्ट 3 जून को इस मामले की सुनवाई करेगा.  इस बीच, 31 मई की शाम को धर्मेंद्र भारद्वाज की मां का अस्पताल में निधन हो गया, खुद धर्मेंद्र अब कोरोना पॉजिटिव होने के चलते 'होम आइसोलेशन में हैं.

VIDEO: 1 हफ्ते के लिए सील होगी दिल्ली की बॉर्डर : CM अरविंद केजरीवाल

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com