Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

तलाक के बाद महिला पूर्व पति से वित्तीय राहत नहीं मांग सकती: हाईकोर्ट

गुजरात उच्च न्यायालय ने कहा है कि तलाक हो जाने के बाद कोई भी महिला अपने पूर्व पति से महिला घरेलू हिंसा संरक्षण अधिनियम के तहत वित्तीय राहत की मांग नहीं कर सकती है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
तलाक के बाद महिला पूर्व पति से वित्तीय राहत नहीं मांग सकती: हाईकोर्ट

प्रतीकात्मक तस्वीर

अहमदाबाद:

गुजरात उच्च न्यायालय ने कहा है कि तलाक हो जाने के बाद कोई भी महिला अपने पूर्व पति से महिला घरेलू हिंसा संरक्षण अधिनियम के तहत वित्तीय राहत की मांग नहीं कर सकती है. न्यायमूर्ति उमेश त्रिवेदी ने हाल ही में तलाक के 27 साल बाद पति के खिलाफ महिला की कार्यवाही को खारिज करते हुए यह व्यवस्था दी. अदालत ने कहा, ‘‘पत्नी (इस कानून) के तहत तब तक पीड़ित होगी जब तक घरेलू संबंध बना रहेगा. जैसे ही यह टूट गया, घरेलू संबंध भी खत्म हो गया और तब वह पीड़ित नहीं होगी.''

उत्तर प्रदेश: योगी सरकार तीन-तलाक पीड़िताओं को प्रतिवर्ष देगी 6000 रुपए

टिप्पणियां

अदालत ने याचिकाकर्ता कांजी परमार के खिलाफ महिला घरेलू हिंसा संरक्षण अधिनियम की धारा 19 और 20 के तहत कार्यवाही खारिज कर दी. उसकी पूर्व पत्नी उर्मिलाबेन परमार ने वित्तीय राहत की मांग की थी. इस दंपत्ति की 1984 में शादी हुई थी और 1990 में उनके बीच तलाक हो गया था.


Video: तीन तलाक कानून की समीक्षा करेगा सुप्रीम कोर्ट



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें. India News की ज्यादा जानकारी के लिए Hindi News App डाउनलोड करें और हमें Google समाचार पर फॉलो करें


 Share
(यह भी पढ़ें)... देश में आया संकट तो टाटा ने खोले हाथ, कोरोना वायरस से लड़ने के लिए रतन टाटा ने 1500 करोड़ रुपये की सहायता की घोषणा की

Advertisement