यूनिफॉर्म सिविल कोड पर काम शुरू हो गया है : लॉ कमिशन के चेयरमैन जस्टिस बलबीर सिंह चौहान

यूनिफॉर्म सिविल कोड पर काम शुरू हो गया है : लॉ कमिशन के चेयरमैन जस्टिस बलबीर सिंह चौहान

जस्टिस बलबीर सिंह चौहान

खास बातें

  • 'किसी धर्म से जोड़ा जाएगा तो दिक्कत शुरू हो जाएगी'
  • क्या वक्त आ गया है कि सिविल कोड बनाया जाए?
  • महिलाओं का अधिकार दिलाना मकसद है
नई दिल्ली:

लॉ कमिशन के चेयरमैन जस्टिस बलबीर सिंह चौहान ने एनडीटीवी से अनौपचारिक बातचीत में कहा है कि यूनिफॉर्म सिविल कोड पर काम शुरू हो गया है। उन्होंने साफ कहा कि इसे किसी धर्म से जोड़ा जाएगा तो दिक्कत शुरू हो जाएगी। जस्टिस चौहान ने कहा कि जरूरत है लोगों को शिक्षित करने की।

उन्होंने बताया कि सबसे पहले ढांचा तैयार होगा कि क्या क्या मुद्दे शामिल किए जाएं। साथ ही सबसे पहले ये तय होगा कि क्या वक्त आ गया है कि सिविल कोड बनाया जाए। रिपोर्ट का आधार किसी धर्म विशेष को ध्यान में रखकर नहीं बनाया जाएगा। इस कवायद का पूरा मकसद किसी धर्म के खिलाफ सोच नहीं बल्कि महिलाओं का अधिकार दिलाना मकसद है।

जस्टिस चौहान ने कहा कि कमिशन निष्पक्ष तरीके से काम करेगा और धर्मनिरपेक्ष तरीके से काम करेगा। कमिशन सबकी बात सुनेगा, जरूरत पड़ेगी तो राजनितिक पार्टियों की भी मदद लेंगे।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

जस्टिस चौहान की राय है कि वैसे भी अगर देखें तो देश में कई कानून यूनिफॉर्म सिविल कोड की तरह हैं, जो धर्म के आधार पर नहीं हैं। इनमें सबसे बड़ा उदाहरण देश की IPC और CRPC जैसे क्रिमिनल ला हैं जो देश के सभी लोगों पर लागू होते है चाहें वो किसी भी धर्म के हों।

उनका कहना है कि सिविल कोड की रिपोर्ट तैयार करने में वक्त लगेगा। हमें कोई जल्दी नहीं, वेबसाइट पर लोगों से विचार मांगेंगे।