NDTV Khabar

बंगाल को मिला नया 'दादा', जब ये घुमाते हैं बल्ला, फिल्डर फरमाते हैं आराम

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बंगाल को मिला नया 'दादा', जब ये घुमाते हैं बल्ला, फिल्डर फरमाते हैं आराम

सुनील नरेन ने सौरव गांगुली की तरह ताबड़तोड़ बैटिंग की. तस्वीर: सौरव गांगुली

खास बातें

  1. स्पिन गेंदबाज की हैसियत से खेलने वाले सुनील नरेन की धमाकेदार बैटिंग
  2. केकेआर की ओर से नरेन ने चौके और छक्कों से बनाए 42 रन
  3. सौरव गांगुली भी चौके, छक्के से पूरा करते थे ज्यादातर रन
नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल में क्रिकेट के प्रति लोगों का जुनून जगजाहिर है. साथ ही जब क्रिकेट के 'दादा' यानी सौरव गांगुली जब ऐतिहासिक ईडन गार्डंस में चौके छक्के जमाते तो दर्शक झुमते नजर आते. ऐसा ही नजारा एक बार फिर से शुक्रवार को कोलकाता नाइटराइडर्स और गुजरात लायंस के खिलाफ मैच में देखने को मिला. केकेआर की ओर से ओपनिंग करने आए सुनील नरेन ने ताबड़तोड़ बैटिंग कर सौरव गांगुली की यादें ताजा कर दी. इस पारी में सबसे दिलचस्प बात यह रही कि सुनील ने अपनी पारी में सारे रन चौकों और छक्के से बनाए. कुछ ऐसी ही बातें सौरव गांगुली की पारी में देखने को मिलता था. सौरव दौड़कर रन बनाने के मामले में आलसी माने जाते थे. बैटिंग के दौरान उनके बल्ले से छक्कों और चौकों की बरसात देखने को मिलती थी. बल्लेबाज जब तेत-तर्रार चौकों-छक्कों से रन बनाते हैं तो फील्डर चाह कर भी कुछ नहीं कर पाते हैं, या यूं कहें कि वे आराम फरमाते हैं. 
टीम में स्पिन गेंदबाज की हैसियत से खेलने वाले सुनील नरेन ने 17 गेंदों में नौ चौके तथा एक छक्के की मदद से 42 रनों का पारी खेली. नरेन ने अपनी पारी में सभी रन बाउंड्री से बनाए. यह किसी भी बल्लेबाज की ओर से आईपीएल में सिर्फ बाउंड्री से बनाया जाने वाले सर्वोच्च स्कोर है. इससे पहले श्रीलंका के सनथ जयसूर्या ने सिर्फ बाउंड्री से 36 रन बनाए थे.
sunil narine
सुनील नरेन, फाइल फोटो.

उथप्पा ने भी जमाया रंग

रॉबिन उथप्पा (72) और सुनील नरेन (42) की आतिशी पारियों की बदौलत कोलकाता ने टॉस हारने के बाद पहले बल्लेबाजी करते हुए निर्धारित 20 ओवरों में पांच विकेट के नुकसान पर 187 रन बनाए. 

सुनील नरेन ने गंभीर के साथ मिलकर 3.2 ओवरों में 45 रन जोड़ लिए थ, जिसमें से सिर्फ तीन रन ही गंभीर के थे. गुजरात के कप्तान सुरेश रैना ने गेंद ली और नरेन को जेम्स फॉल्कनर के हाथों कैच करा उनकी तूफानी पारी का अंत किया. नरेन के जाने के बाद हालांकि कोलकाता की रनगति थोड़ी धीमी पड़ गई. गंभीर और उथप्पा ने पारी को आगे बढ़ाया. उथप्पा तेज खेल रहे थे तो गंभीर उनसे धीरे आगे बढ़ रहे थे. कोलकाता का कुल स्कोर 114 पहुंच चुका था. इसी स्कोर पर गंभीर फॉल्कनर की गेंद पर रैना को कैच देकर पवेलियन लौट गए. 

मनीष पांडे (24) ने क्रिज पर कदम रखा और एक छोर से तेजी से रन बटोर रहे उथप्पा का अच्छा साथ दिया. मनीष ने उथप्पा के साथ तीसरे विकेट के लिए 55 रनों की साझेदारी की. 

प्रवीण कुमार ने 19वें ओवर में उथप्पा को ब्रैंडन मैक्लम के हाथों सीमारेखा पर कैच करा पवेलियन भेजा. उथप्पा ने 48 गेंदों की अपनी पारी में दो छक्के और आठ चौके लगाए. उथप्पा के जाने के बाद आए युसूफ पठान (नाबाद 11) ने इसी ओवर में दो चौके जड़े. 

टिप्पणियां
पांडे ने आखिरी ओवर की दूसरी गेंद पर चौका मारा लेकिन अगली गेंद पर बासिल थंपी ने उन्हें आउट किया. सूर्यकुमार यादव एक रन बनाकर रन आउट हो गए. शाकिब अल हसन एक रन बनाकर पठान के साथ नाबाद लौटे. 

गुजरात की ओर से जेम्स फॉल्कनर, बासिल थम्पी, सुरेश रैना और प्रवीण कुमार ने एक-एक सफलता हासिल की.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement