NDTV Khabar

IPL10: पुणे के मनोज तिवारी ने बेन स्‍टोक्‍स की शतकीय पारी को इस कारण माना राहुल त्रिपाठी की पारी से बेहतर

4006 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
IPL10: पुणे के मनोज तिवारी ने बेन स्‍टोक्‍स की शतकीय पारी को इस कारण माना राहुल त्रिपाठी की पारी से बेहतर

राहुल त्रिपाठी ने बुधवार को 93 रन की जबर्दस्‍त पारी खेलकर पुणे को जीत दिलाई (फोटो BCCI)

खास बातें

  1. स्‍टोक्‍स ने गुजरात के खिलाफ बनाए थे नाबाद 103 रन
  2. तिवारी बोले. स्‍टोक्‍स ने विपरीत हालात में खेली थी यह पारी
  3. राहुल त्रिपाठी की बल्‍लेबाजी की भी जमकर प्रशंसा की
कोलकाता: राइजिंग पुणे सुपरजाइंट्स के लिए मंगलवार को युवा राहुल त्रिपाठी ने 93 रन की बेहतरीन पारी खेली. इस पारी की बदौलत उन्‍होंने अपनी टीम को कोलकाता नाइट राइडर्स के खिलाफ चार विकेट की जीत दिला दी. इस पारी के बाद राहुल त्रिपाठी की पारी की तुलना टीम के एक अन्‍य बल्‍लेबाज बेन स्‍टोक्‍स की शतकीय पारी से होने लगी है. स्‍टोक्‍स ने नाबाद 103 रन की यह पारी गुजरात लायंस के खिलाफ खेली थी और इसकी बदौलत पुणे सुरेश रैना की टीम के खिलाफ पांच विकेट की जीत हासिल करने में सफल रही थी. पुणे के मध्‍य क्रम के बल्‍लेबाजी मनोज तिवारी ने राहुल त्रिपाठी के 93 रन को बेहतरीन माना. लेकिन कहा कि वह गुजरात लायंस के खिलाफ बेन स्टोक्स के शतक को इससे बेहतर मानते हैं क्‍योंकि इंग्‍लैंड के हरफनमौला की यह पारी प्रतिकूल हालात में खेली गई थी.

तिवारी ने बुधवार को केकेआर पर मिली जीत के बाद कहा,‘मैं स्टोक्स की पारी को त्रिपाठी की पारी से बेहतर आंकता हूं. उस समय हम तीन विकेट 10 रन पर गंवा चुके थे लेकिन उसके बाद वह अकेले दम पर मैच जिता ले गए. वह सर्वश्रेष्ठ पारियों में से एक है.’ हालांकि तिवारी ने युवा त्रिपाठी की तारीफ करते हुए कहा,‘राहुल ने शानदार प्रदर्शन किया. पिछले घरेलू सत्र में उसने बंगाल के खिलाफ शतक बनाया था. मुझे पता था कि वह वापसी करेगा. वह शानदार फॉर्म में है और मुझे खुशी है कि उन्‍होंने आईपीएल में यह लय कायम रखी.’ घरेलू क्रिकेट में बंगाल के कप्तान मनोज तिवारी का मानना है कि अब वे दिन गए जब युवा खिलाड़ी विश्व स्तरीय खिलाड़ियों के खिलाफ नर्वस हो जाते थे. उन्होंने कहा,‘आईपीएल के शुरुआती दिनों में युवा खिलाड़ी नर्वस हो जाते थे लेकिन अब वे काफी परिपक्‍व हो चुके हैं और विपरीत हालातों में अपने खेल का स्‍तर ऊपर उठाना जाते हैं. वे खचाखच भरे स्टेडियमों से घबराते नहीं हैं. फोकस मैदान पर रहता है. ऐसा नहीं लगा कि राहुल का फोकस 22 गज के बाहर था.उनके प्रशंसकों की संख्या में अब इजाफा होगा.’


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement