NDTV Khabar

अकबर किले का नाम बदलने पर वसुंधरा सरकार के मंत्री वासुदेव देवनानी को धमकी

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अकबर किले का नाम बदलने पर वसुंधरा सरकार के मंत्री वासुदेव देवनानी को धमकी

धमकी का यह पत्र शिक्षा राज्य मंत्री को गत 30 दिसंबर को उनके अजमेर के आवास के पते पर और 21 फरवरी को पुलिस अघीक्षक अजमेर को डाक से मिला है.

खास बातें

  1. अकबर किले का नाम बदलकर अजमेर का किला (संग्रहालय) कर दिया गया है.
  2. शिक्षा राज्य मंत्री को 30 दिसंबर को धमकी वाला पत्र भेजा गया है.
  3. मंत्री वासुदेव देवनानी ने अकबर की महानता पर भी उठाया था सवाल.
अजमेर: अकबर किले का नाम बदलने पर राजस्थान के शिक्षा राज्य मंत्री प्रो. वासुदेव देवनानी को धमकी मिली है. एक व्यक्ति ने प्रो. वासुदेव देवनानी को कड़ी कार्रवाई करने की धमकी दी है. कोतवाली थानाधिकारी (अजमेर) बी एल मीणा ने बताया कि अज्ञात व्यक्ति ने शिक्षा राज्य मंत्री प्रो. वासुदेव देवनानी को अजमेर के अकबर किले का नाम बदलकर अजमेर का किला (संग्रहालय) करने पर यह धमकी दी है.

व्यक्ति की ओर से लिखा गया धमकी का यह पत्र शिक्षा राज्य मंत्री को गत 30 दिसंबर को उनके अजमेर के आवास के पते पर और 21 फरवरी को पुलिस अघीक्षक अजमेर को डाक से मिला है. पुलिस मामले की जांच कर रही है. पत्र में धमकी देने वाले व्यक्ति ने अपना नाम तरन्नुम खादिम लिखा है.

इधर, राजस्थान विधानसभा में भी एक सदस्य ने यह मामला उठाने का प्रयास किया, लेकिन अध्यक्ष कैलाश मेघवाल ने इसकी अनुमति नहीं दी.

महाराणा प्रताप थे महान : देवनानी

राजस्थान के शिक्षा राज्य मंत्री प्रो. वासुदेव देवनानी ने कहा है कि इतिहास में पढ़ाया जाता रहा है कि अकबर महान थे जबकि अब तक हुए शोध में यह सामने आया है कि महाराणा प्रताप महान थे. यदि हल्दीघाटी युद्घ में अकबर विजयी होता तो जीतने के बाद प्रताप से छह बार युद्ध क्यों करता.

ये भी पढ़ें: वीके सिंह की मांग अकबर रोड का नाम बदलकर महाराणा प्रताप ने नाम पर हो

प्रो. देवनानी यहां पाथेय कण पत्रिका के हल्दी घाटी युद्घ पर प्रकाशित अंक के लोकार्पण समारोह को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि हल्दीघाटी के महासमर में महाराणा प्रताप की विजय हुई थी.

ये भी पढ़ें: दिल्ली के रास्तों का नाम बदलकर महाराणा प्रताप, शिवाजी के नाम पर करने की मांग

उन्होंने कहा कि गुलाम मानसिकता से उबरकर विद्यार्थियों को हमें इतिहास के इस सच से जोड़े जाने की जरूरत है. आजादी के बाद बहुत सी इतिहास की पुस्तकों को बाहर नहीं आने दिया गया. गुलाम मानसिकता के कारण ऐसा हुआ. अब जरूरत है कि हम नई पीढ़ी को हमारे इतिहास के गौरवमय भावों से जोड़ें. प्रो. देवनानी ने कहा कि सत्य को बाहर आने में समय लग सकता है. ये भी पढ़ें: राजस्थान स्कूल के पाठ्यक्रम में बदलाव की तैयारी, अकबर नहीं, अब महाराणा प्रताप ग्रेट

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement