NDTV Khabar

जम्मू-कश्मीर: 3 साल की मासूम के साथ दुष्कर्म को लेकर हुआ विरोध प्रदर्शन, महबूबा ने कहा- पत्थर मारकर दी जाए मौत

प्रशासन की ओर से विरोध को रोकने के लिए इलाके में इंटरनेट स्पीड कम कर दी है. इसका मामूली असर श्रीनगर में धार्मिक संगठन इतिहादुल मुस्लिमीन द्वारा बुलाए गए बंद पर देखने को भी मिला.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जम्मू-कश्मीर: 3 साल की मासूम के साथ दुष्कर्म को लेकर हुआ विरोध प्रदर्शन, महबूबा ने कहा- पत्थर मारकर दी जाए मौत

पुलिस ने मामले की जांच के लिए विशेष जांच टीम का गठन किया है.

नई दिल्ली:

कश्मीर के बांदीपोरा में तीन साल की बच्ची के साथ कथित तौर पर रेप की घटना के बाद सोमवार को राज्य के कई इलाकों में विरोध प्रदर्शन हो रहा है. इस बीच लोगों की सुरक्षा बलों और पुलिस के साथ झड़प के बाद जिले में स्कूल और कॉलेजों को बंद कर दिया गया है. उत्तरी कश्मीर के डीआईजी मुहमद सुलेमान चौधरी ने बताया कि 8 मई को एक नाबालिग लड़की के साथ बलात्कार हुआ था. इस घटना की सूचना मिलने पर तुरंत आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया था. वह हमारी हिरासत में है. हमने एक विशेष जांच टीम का गठन किया है.  उन्होंने जनता से हिंसक घटनाओं में शामिल न होने की अपील की है. इस घटना पर राजनीतिक पार्टियों से लेकर जम्मू कश्मीर के तमाम धार्मिक और सामाजिक संगठनों द्वारा आपत्ति जताई गई है. राज्य की पूर्व मुख्यमंत्री ने आरोपी को शरिया कानून के तहत पत्थर मारकर मौत की सजा देने की बात कही है. 

यह भी पढ़ें: शिमला में चलती कार में 19 साल की युवती से रेप, मामला दर्ज 


राज्य के राज्यपाल सत्य पाल मलिक ने इस घटना पर गहरा दुख व्यक्त करते हुए कश्मीर के इंस्पेक्टर जनरल को जल्द से जल्द मामले की जांच करने और आरोपी को न्यायसंगत सजा दिलाने का निर्देश दिया है. 

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि मेडिकल जांच में बच्ची के साथ बलात्कार की पुष्टि हुई है. आरोपी के खिलाफ बलात्कार और POCSO एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है. बताया जा रहा है कि आरोपी ने बच्ची को मिठाई देने के बहाने अपने पास बुलाया और फिर  संबल गांव में एक सुनसान जगह पर ले जाकर उसके साथ बलात्कार किया. बच्ची ने बाद में माता-पिता को अपने साथ हुई इस घटना के बारे में बताया था. इसके बाद बच्ची के पिता आरोपी को लेकर स्थानीय पुलिस स्टेशन लेकर पहुंचे. 

यह भी पढ़ें: पड़ोसी ने मां-बेटी से किया बलात्कार, वीडियो बनाकर कर रहा ब्लैकमेल

प्रशासन की ओर से विरोध को रोकने के लिए इलाके में  इंटरनेट स्पीड कम कर दी है. इसका मामूली असर श्रीनगर में धार्मिक संगठन इतिहादुल मुस्लिमीन द्वारा बुलाए गए बंद पर देखने को भी मिला. 

टिप्पणियां

यह भी पढ़ें: बलात्कार में नाकाम युवक ने महिला को चाकू मारकर किया घायल

दूसरी तरफ आरोपी  की उम्र को लेकर भी एक विवाद खड़ा  हो गया है. एक निजी स्कूल ने उसे नाबालिग बताते हुए एक प्रमाण पत्र जारी किया था.  गुस्साए ग्रामीण स्कूल को सील करना चाहते थे.  कुछ ने स्कूल को आग लगाने का भी प्रयास किया. पुलिस ने स्कूल के प्रिंसिपल को हिरासत में ले लिया है. स्कूल के प्रिंसिपल पीड़िता के करीबी रिश्तेदार भी हैं. स्कूल के प्रिसिंपल को पुलिस ने अपने सुरक्षा घेरे में रखा है क्योंकि उसे डर है कि गुस्साए ग्रामीण प्रिंसिपल को नुकसान पहुंचा सकते हैं. वहीं आरोपी की उम्र जांचने के लिए एक मेडिकल बोर्ड हड्डियों से संबंधित ऑसिफिकेशन टेस्ट करेगा.
 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement